अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिकों पर हमले कर सकते हैं तालिबान



अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की अपने सैनिकों की अफगानिस्तान से वापसी के ऐलान के बाद अलकायदा एक्टिव मोड में आ गया है।  कुख्यात आतंकी संगठन अलकायदा ने ये ऐलान किया है।

जल्द अमेरिका से वापस लौटना शुरू करेंगे अमेरिकी सैनिक, वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमले के बाद गए थे अफगानिस्तान

वेब खबरिस्तान। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन की अपने सैनिकों की अफगानिस्तान से वापसी के ऐलान के बाद अलकायदा एक्टिव मोड में आ गया है।  कुख्यात आतंकी संगठन अलकायदा ने ऐलान किया है कि वह तालिबान के साथ अफगानिस्तान में फिर वापस लौटेंगे। अमेरिका के साथ जंग खत्म नहीं हुई है। इधर, अमेरिकी सेना वापसी के दौरान तालिबान हमले कर सकते हैं। इसी लिए पेंटागन की ओर से अतिरिक्त बल और लड़ाकू विमान तैनात किए जा रहे हैं। अलकायदा ने अमेरिका में 11 सितंबर के हमले के मास्टर माइंड ओसामा बिन लादेन की मौत के दस साल पूरे होने पर ये ऐलान किया है कि उसकी अमेरिका से लड़ाई कभी खत्म नहीं होगी। वह अफगानिस्तान में सेना की वापसी के बाद तालिबान के साथ फिर वापस लौटेगा। 

सीएनएन से बातचीत में खुलासा


सीएनएन के साथ बीतचीत में अलकायदा के नुमाइंदे ने कहा कि अमेरिका ये न समझे कि उसकी लड़ाई खत्म हो गई है। अमेरिकी सैनिकों के वापस लौटते ही वह तालिबान के साथ फिर अफगानिस्तान पर कब्जा करेगा। अलकायदा के प्रवक्ता ने अफगानिस्तान को धन्यवाद दिया। प्रवक्ता ने कहा कि उसने तमाम जिहादी संगठनों को देश में पनाह दी । ऐसे तमाम जिहादी संगठन दुनिया के अन्य इस्लामिक देशों में भी लंबे समय से एक्टिव हैं। इधर अमेरिका को पुख्ता जानकारी मिली है कि सेना वापसी के दौरान उसके सैनिकों पर बड़े हमले हो सकते हैं। तालिबान इसकी योजना बना रहा है। पेंटागन की ओर से कहा गया है कि रक्षा मंत्री जॉन ऑस्टिन ने मध्य पूर्व में कम से कम चार बी-52 लड़ाकू विमान और आर्मी रेंजर टास्क फोर्स को तैनात करने का फैसला लिया है।  

Related Links