दक्षिण अफ्रीका की जेल में बंद पूर्व राष्‍ट्रपति जैकब जुमा के समर्थन में भीषण हिंसा



दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्‍ट्रपति जैकब जुमा के समर्थन में भीषण दंगे हो रहे हैं

वेब खबरिस्तान, जोहानिसबर्ग। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्‍ट्रपति जैकब जुमा के समर्थन में भीषण दंगे हो रहे हैं। वहां हिंसा भड़क गई है। दरअसल ये दंगाई जुमा को कोर्ट की अवमानना करने के आरोप में जेल भेजे जाने के खिलाफ हैं और उसका विरोध कर रहे हैं। हालात बेकाबू हुए तो दक्षिण अफ्रीका की सेना ने जोहानिसबर्ग शहर समेत दो राज्यों में बड़ी तादाद में सैनिकों को तैनात कर दिया है। यह दंगे ऐसे समय पर हो रहे हैं जब सुप्रीम कोर्ट की ओर से जुमा के 15 महीने की जेल को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई शुरू कर दी गई है।

6 लोगों की मौत, 200 से ज्यादा अरेस्ट

पुलिस की ओर से दी गई जानकारी अनुसार इस हिंसा में अब तक 6 लोगों की मौत हो गई है। 200 से ज्‍यादा लोगों को अरेस्‍ट किया गया है। हर तरफ हिंसा के माहौल को देखते हुए गौटेंग और क्वाजुलू-नताल में सेना को तैनात किया गया है, ताकि दंगे को रोका जा सके। क्वाजुलू-नताल जुमा का गृह प्रांत है। जुमा 2009 से 2018 तक दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति रहे। उनके कार्यकाल में कथित भ्रष्टाचार के मामले में जांच कर रहे एक न्यायिक आयोग के समक्ष उपस्थित नहीं होने के बाद अदालत की अवमानना के मामले में जुमा इस समय एस्टकोर्ट करेक्शनल सेंटर में बंद हैं।

जुमा को 15 महीने जेल की सजा


जुमा को 15 महीने जेल की सजा सुनाई गयी थी। उन्होंने बुधवार को पुलिस को अपनी गिरफ्तारी दी। लेकिन 79 वर्षीय नेता ने भ्रष्टाचार के आरोपों को खारिज किया है। उनकी गिरफ्तारी के बाद देशभर में उनके समर्थकों ने हिंसक प्रदर्शन शुरू कर दिये। उन्होंने टायर जलाकर और अन्य अवरोधक डालकर रास्तों को बाधित कर दिया। दंगाइयों ने वाहनों को जलाया और दुकानों को लूट लिया।

राष्ट्रपति ने विरोध-प्रदर्शनों की निंदा की

एसएएनडीएफ ने कहा कि उसने कानून प्रवर्तन एजेंसियों की मदद के लिए मिले अनुरोध के बाद तैनाती कर दी है। दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामाफोसा ने देश के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा की सजा के विरोध में आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण प्रांतों में पिछले कुछ दिनों से चल रहे हिंसक विरोध-प्रदर्शनों की निंदा की है। रामाफोसा ने कहा, ‘राष्ट्रीय राजमार्ग जैसे महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे प्रभावित हुए हैं और सामान और सेवाओं की आवाजाही धीमी पड़ने से हमारी अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा है।

दक्षिण अफ्रीका के चैंबर ऑफ कॉमर्स ने चेतावनी दी है कि इससे देश की अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लग सकता है। दंगाइयों से कोविड-19 के तेजी से फैलने की भी आशंकाएं हैं।

Related Links