जर्मनी और बेल्जियम में बाढ़ का कहर, अब तक 70 लोगों की मौत



जर्मनी और बेल्जियम में रिकॉर्ड बारिश के बाद नदियां उफ़ान पर, कई लापता, परिवहन व्यवस्था पूरी तरह से ठप, स्कूल-कॉलेज भी बंद कर दिए गए हैं

वेब ख़बरिस्तान। जर्मनी और बेल्जियम में रिकॉर्ड बारिश के बाद नदियां उफ़ान पर हैं और नदियों के किनारे टूट गए हैं। बारिश का कहर बाढ़ बनकर बह रहा है और इस आपदा के कारण अब तक कम से कम 70 लोगों की मौत हो चुकी है। कई लोग लापता हो चुके हैं। ज़्यादातर मौतें जर्मनी में हुई हैं लेकिन बेल्जियम में भी कम से कम 11 लोगों की मौत हुई है।

बाढ़ का सबसे ज़्यादा असर जर्मनी के राइनलैंड-पलाटिनेट और उत्तरी राइन-वेस्टफेलिया प्रांतों में है। साथ ही नीदरलैंड मे भी स्थिति बेहद गंभीर है। आज भी पूरे क्षेत्र में भारी बारिश का अनुमान है। स्थानीय अधिकारियों का कहना है कि यह आपदा जलवायु परिवर्तन का परिणाम है। नॉर्थ राइन-वेस्टफ़ेलिया के प्रीमियर आर्मिन लैसेट ने बारिश-बाढ़ से प्रभावित एक इलाक़े के दौरे के दौरान ग्लोबल वॉर्मिंग को इसके लिए प्रमुख कारण बताया। उन्होंने कहा, "हमें आगे भी इस तरह की घटनाओं का सामना करना पड़ेगा और इसका मतलब है कि हमें जलवायु संरक्षण के उपायों को तेज़ करने की ज़रूरत है क्योंकि जलवायु परिवर्तन के प्रभाव किसी एक राज्य तक ही सीमित नहीं है."


जर्मनी की चांसलर ने मृतकों के प्रति जताई संवेदना

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ एक बैठक के सिलसिले में अमेरिका पहुंचीं जर्मनी की चांसलर एंगेला मर्केल ने कहा है कि उन्हें इस आपदा से "गहरा धक्का लगा" है। एंगेला मर्केल ने अपने एक संबोधन में जर्मनी में बाढ़ की स्थिति को तबाही बताया। उन्होंने बाढ़ के कारण अपनी जान गंवाने वालों के प्रति भी संवेदना ज़ाहिर की। उन्होंने कहा, "मेरी संवेदनाए आपके साथ हैं और आप इस बात पर भरोसा कर सकते हैं कि हमारी सरकार हर तरह से लोगों के जीवन की रक्षा करने, ख़तरे को कम करने और इस संकट को दूर करने के लिए सबकुछ करेगी।जर्मनी में प्रभावित इलाक़ों में बाढ़ में फंसे हुए लोगों की मदद के लिए पुलिस, हेलीकॉप्टर और सैकड़ों सैनिकों को तैनात किया गया है।

25 घर ऐसे जो कभी भी ढह सकते हैं

जर्मनी के पश्चिम इलाक़े में स्कूलों को बंद कर दिया गया है। इस इलाक़े में परिवहन व्यवस्था को बुरी तरह से नुकसान पहुंचा है और संपर्क बाधित हुआ है। जर्मन ब्रॉडकास्टर एसडब्ल्यूआर के अनुसार, पहाड़ी एफ़ेल क्षेत्र के शुड बी अडेनौ ज़िले में लगभग 25 घर ऐसे हैं जो कभी भी ढह सकते हैं। इस इलाक़े में आपातकाल स्थिति की घोषणा कर दी गई है।

Related Links