महिलाओं में बढ़ रहा सोलो ट्रैवलिंग का क्रेज, अकेले घूमने में पुरुषों के मुकाबले ज्यादा महिलाएं

महिलाओं में सोलो ट्रैवलिंग का ट्रेंड तेजी से बढ़ा

महिलाओं में सोलो ट्रैवलिंग का ट्रेंड तेजी से बढ़ा



डेटा के मुताबिक देश में अकेले ट्रैवल करने वालों में आधे से ज्यादा संख्या महिलाओं की है

वेब ख़बरिस्तान। मिनिस्ट्री ऑफ़ स्टेटिस्टिक्स एंड प्रोग्राम इम्प्लीमेंटेशन की ओर से जारी डेटा के मुताबिक देश में अकेले ट्रैवल करने वालों में आधे से ज्यादा संख्या महिलाओं की है। पिछले कुछ साल में महिलाओं में सोलो ट्रैवलिंग का ट्रेंड तेजी से बढ़ा। यही नहीं कई एजेंसियां भी अब ऐसी आ चुकी हैं जो महिलाओं को अकेले सफर करने के लिए गाइड कर रही हैं और सेफ्टी टिप्स भी दे रही हैं।

देश में वीमेन सोलो ट्रेवल का चलन


गूगल ट्रेंड्स अनुसार साल 2017 में 20 लाख से ज्यादा महिलाओं ने सोलो ट्रैवल के लिए वेबसाइट्स देखि और टिप्स खोजीं। इसमें भारतीय महिलाओं की संख्या भी कम नहीं रही होगी। चूंकि फिलहाल देश में वुमन सोलो ट्रैवल का चलन है। दिल्ली के एक ट्रैवल ग्रुप के फाउंडर नितेश चौहान ने बताया कि पुरुषों से ज्यादा महिलाएं अब सोलो ट्रिपर देखने को मिल रही हैं। अगर आंकड़े की बात करें तो आज 65% महिलाएं सोलो ट्रैवलिंग प्रेफर करती हैं जबकि पुरुष सोलो ट्रैवलर लगभग 35% हैं।

हर उम्र की महिलाएं अब ट्रैवल में देखने को मिल रही हैं

अपने अन्दर के दर को कम करने के लिए कर रही सोलो ट्रेवलिंग  

एक्सपर्ट्स ने बताया कि  कई बार ऐसे भी लोग होते हैं जो केवल अपने अंदर के डर को चेक करने के लिए ट्रिप पर निकल जाते हैं। दूसरी तरफ कुछ ऐसे भी ट्रैवलर होते हैं जो सारा प्लान अकेले ऑर्गेनाइज करते और घूमने निकल जाते हैं। इसमें टाइम अलोनका कंसेप्ट भी है यानी लोग दुनिया के शोरगुल और जिम्मेदारियों को छोड़कर कुछ समय खुद के साथ बिताना चाहते हैं।

साल 2008 में लोग कहते थे – लड़कियां कहाँ ट्रेवल करती हैं

एक ट्रैवल ग्रुप की फाउंडर पिया बोस ने बताया कि साल 2008 में जब मैंने शुरुआत की थी तो लोगों कहते थे महिलाएं कहां ट्रैवल करती हैं। उस समय महिलाएं कम ही ट्रैवल करती थी। मगर अब समय के साथ महिलाएं इंडिपेंडेंट होने के साथ कॉन्फिडेंट भी हो रही हैं। हर उम्र की महिलाएं अब ट्रैवल में देखने को मिल रही हैं और परिवार वाले भी उन्हें सपोर्ट कर रहे है।

Related Links