वेजाइनल हेल्थ को न करें नजरंदाज, इन संकेतों को जानें



योनि के अंदर खुजली आमतौर पर यीस्ट इंफेक्शन के कारण ही होती है

 खबरिस्तान नेटवर्क: बहुत सी महिलाएं अपनी हेल्थ पर बिलकुल भी ध्यान नही देती हैं। लेकिन यहां आपको बता दें कि कुछ प्रॉब्लम ऐसी होती है जिन पर ध्यान देना बहुत ही जरूरी है। कहना का मतलब है महिलाओं के संपूर्ण स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए वेजाइनल हेल्थ पर ध्यान दिया जाना बेहद आवश्यक है। लेकिन यहाँ भी महिलाएं अपने योनि स्वास्थ्य और इंटिमेट हाइजीन को लेकर बहुत अधिक बात नहीं करती हैं और ना ही उस पर अधिक ध्यान देती हैं। अधिकतर महिलाओं को तो अपने वेजाइनल हेल्थ को लेकर बहुत अधिक जानकारी ही नहीं होती है। ऐसे में वह कई संकेतों को पूरी तरह से नजरअंदाज कर देती हैं। हालांकि, शरीर के अन्य अंगों की तरह ही योनि भी अपने स्वास्थ्य को लेकर काफी कुछ कहती है। जब इसमें कुछ समस्या होती है, तो उसके संकेत साफतौर पर नजर आते हैं। बस जरूरत होती है कि महिला उन संकेतों को समझे और अपने योनि के स्वास्थ्य पर पर्याप्त ध्यान दे। तो चलिए आज कुछ ऐसे ही संकेतों के बारे में जानते हैं जिनको नजरअंदाज करना भरी पड़ सकता है।

बार बार खुजली होना

खुजली बाहरी वजाइना के बाहरी हिस्से जिसे वल्वा कहा जाता है या फिर अंदरूनी हिस्से में हो सकती है। यदि यह बाहरी है, तो यह किसी तरह की एलर्जी होती है। जिस कारण रैशेज नजर आते हैं। वहीँ यदि एलर्जी नहीं है, तो यह वायरल या फंगल संक्रमण के कारण हो सकता है। योनि के अंदर खुजली आमतौर पर यीस्ट इंफेक्शन के कारण ही होती है।

यूरिन का बार बार आना और कन्ट्रोल ना कर पाना


बहुत सी महिलाओं को यूरिन कन्ट्रोल न करने की शिकायत होती है। ऐसा आमतौर पर यूरिन के इंफेक्शन के कारण होता है। लेकिन अगर महिला को यूरिन इंफेक्शन नहीं है तो ऐसा यूरिनरी पैसेज की मसल्स की कमजोरी के कारण भी हो सकता है। जिसके कारण महिला अपने यूरिन को कण्ट्रोल नहीं कर पाती है और वह बिना संकेत के बाहर निकलता है।

पेशाब करते समय जलन महसूस होना

यदि कभी भी किसी भी महिला को पेशाब करते समय जलन महसूस हो तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। ये यूरिन इन्फेक्शन के कारण हो सकता है। ऐसे में जरूरी होता है कि आप संक्रमण का पता लगाने के लिए यूरिन की जांच करवाएं। जब कोई संक्रमण नहीं होता है, तो जलन हार्मोन के पोस्टमेनोपॉज़ल लॉस के कारण हो सकती है जिससे मूत्र मार्ग संकुचित हो जाता है और महिला को जलन का अहसास होता है।

वजाइनल डिस्टार्ज होना

यह सबसे आम वेजाइनल समस्याओं में से एक है। ओव्यूलेशन टाइम के मिड साइकल या फिर पीरियड्स के ठीक पहले क्लीयर या व्हाइट डिस्चार्ज होना सामान्य है। लेकिन अगर आपकी योनि से ऑफ कलर डिस्टार्ज होता है तो आपको अलर्ट होने की जरुरुत है। इसके अलावा, येलो, ग्रीन, थिक व्हाइट कलर का डिस्चार्ज होने पर भी एक बार डॉक्टर से अवश्य मिलना चाहिए। ऐसे में महिला को योनि में खुजली होती है और उससे स्मेल आणि भी शुरू हो जाती है।

ब्लीडिंग का अचानक होना

अगर आपको पीरियड्स के अलावा भी कभी-कभी अचानक ब्लीडिंग होती है, तो यह सामान्य नहीं है। अगर सेक्स के बाद खून के धब्बे नजर आते हैं या पेशाब के साथ खून बह रहा हो, तो इसकी बिल्कुल भी अनदेखी ना करें। इस तरह वेजाइनल से अचानक होने वाली ब्लीडिंग के कई कारण हो सकते हैं। बेहतर होगा कि आप एक बार स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिल लें और अपने सभी जरूरी टेस्ट अवश्य करवा लें।

ये जानकारी आपको जागरूकता मात्र के लिए दी गयी है खबरिस्तान नेटवर्क इसकी कोई पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले या इसके बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए एक्सपर्ट्स से राय जरूर ले।

Related Tags


vaginal health vaginal Itching

Related Links


webkhabristan