स्किन के लिए सुरक्षा कवच का काम करती है सनस्क्रीन



बारिश के मौसम के बाद जरूर करें अप्लाई, लेकिन सही तरीके से

वेब ख़बरिस्तान। बारिश से पहले गर्मी अपने चरम पर होती है लेकिन बारिश के बाद निकलने वाली धूप हमारी स्किन के लिए थोड़ी नुकसानदेह होती है। कहने का मतलब बारिश के बाद की धूप राहत देने का काम कुछ हद तक ही करती है लेकिन वही धूप स्किन के लिए टैनिंग देने का काम  करती है। इस मौसम के बाद लगातार धूप के संपर्क में आने से त्वचा न सिर्फ टैनिंग का शिकार होना शुरू हो जाती है बल्कि झुर्रियों के साथ बुढा़पा भी वक्त से पहले चेहरे पर दिखाई देने लगता है। तो अगर आप इन समस्याओं से बचाव चाहती हैं तो सनस्क्रीन का यूज़ जरूर करें जो काफी हद तक धूप की हानिकारक किरणों से स्किन को प्रोटेक्ट करने में हेल्प करती है। लेकिन आपको बता दें सनस्क्रीन भी अपना असर तभी दिखाती है जब इसे सही तरीके से अप्लाई किया जाये।

सनस्क्रीन काम कैसे करता है

आपको बता दें सनस्क्रीन फेस स्किन पर एक प्राइमर की तरह भी काम करता है और यह फेस पर आने वाली फाइन लाइन्स, ड्राइनेस और ब्राउन स्पॉट्स को दूर करने में भी कारगर साबित होता है। सनस्क्रीन में मौजूद SPF स्किन की अलग-अलग प्रॉब्लम्स से निपटने के लिए काफी हद तक लाभदायक है। अगर आप स्किन पर कुछ भी यूज़ नहीं करती तो घर  से निकलने से पहले ज्यादा SPF वाली सनस्क्रीन जरूर लगायें। एक बात का ध्यान जरूर रखें कि डायरेक्टली फेस स्किन पर सनस्क्रीन न लगायें । इसको यूज़ करने से पहले किसी अच्छे मॉइस्चराइज़र से फेस को हाइड्रेट कर लें।

किस तरह करें अप्लाई


घर से निकलने से तुरंत पहले सनस्क्रीन लगाना एक दम गलत तरीका है। इसको कम से कम 15-20 मिनट पहले ही अप्लाई करें जिससे यह  स्किन में अच्छी तरह एब्जॉर्ब हो जाए और फिर अपना असर दिखाए। इसके अलावा सनस्क्रीन को एक बार लगा लेना ही काफी नहीं है। आपको बता दें हर दो से तीन घंटे के बाद इसका यूज़ करें। लेकिन याद रहे हर बार यूज़ करने से पहले फेस को अच्छे से वाश करें और फिर मॉइस्चराइज़र अप्लाई करने के बाद इसको लगायें। तभी आपको सनस्क्रीन लगाने का बेनिफिट मिलेगा।

कितनी क्वांटिटी में यूज़ करें

आमतौर पर सनस्क्रीन की क्वांटिटी दूसरी क्रीम से थोड़ी ज्यादा रखनी चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि सनस्क्रीन फेस पर लगाने के साथ साथ बॉडी के अन्य हिस्सों पर भी अप्लाई कर पायें। जो बॉडी पार्ट्स कपडे से नहीं ढके होते उस एरिया में भी सनस्क्रीन लगाना जरूरी है। ताकि वहां पर भी टैनिंग होने से बचा जा सके।

कितना SPF वाला सनस्क्रीन लें  

नार्मल रूटीन में 30 SPF वाला सनस्क्रीन यूज़ करें। लेकिन अगर आप समुंदर किनारे वेकेशन पर जा रही हैं तो नॉर्मल नहीं बल्कि 50 SPF वाला सनस्क्रीन यूज़ करें तभी टैनिंग से खुद को बचा पायेंगी। सनस्क्रीन को सिर्फ चेहरे पर ही नहीं बल्कि गर्दन और कानों पर भी अप्लाई करना चाहिए। आंखों के आसपास के हिस्से पर लगाने से बचें।

इस ख़बर में दी गयी जानकरी आपको जारूकता मात्र के लिए दी गयी है। अगर आपको किसी भी तरह की कोई स्किन प्रॉब्लम है तो उसके लिए अपने डॉक्टर से जूर संपर्क करें।

Related Links