फेफड़ों की मजबूती के लिए करें ये 3 योगासन



बढ़ते प्रदुषण के कारण कमज़ोर हो रहे लंग्स को मजबूती देने के लिए नियमित रूप से योगासन करना है जरूरी

वेब ख़बरिस्तान। बढ़ता प्रदूषण बहुत सी सांस संबंधी समस्याओं का कारण बनता जा रहा है। ऐसे में हम सबको अभी से अपनी सेहत का ख्याल रखने की जरुरत हैं। इसके लिए हमें रेगुलर बेस पर एक्सरसाइज या फिर योगासन करने की बहुत अधिक जरुरत है। तो आज इस खबर में हम आपको बताने वाले हैं कि किन योगासनों की मदद से आप अपने लंग्स को हेल्दी और मजबूत बना सकते हैं।

मलासन

मलासन करने के लिए सबसे पहले तो अपने शरीर के किनारों पर अपनी बाहों के साथ सीधे खड़े हो जाएं, फिर अपने घुटनों को मोड़ेंअपने श्रोणि को नीचे करते हुए इसे अपनी एड़ी के ऊपर रखें  यह सुनिश्चित करें कि आपके पैर फर्श पर टिके हुए हैंआप या तो अपनी हथेलियों को अपने पैरों के पास फर्श पर रख सकते हैं या प्रार्थना की मुद्रा में उन्हें अपनी छाती के सामने जोड़ सकते हैं रीढ़ को सीधा रखना है। इस आसन को नियमित करने से आपके पेट जमा होने वाला एक्स्ट्रा मल निकलने में आसानी होती है। जिसका सीधा असर आपके लंग्स पर भी पड़ता है। ऐसा इसलिए कि दिनभर जो प्रदुषण हमारे अन्दर सांस के जरिये जाता है। वह मल के रूप में निकलता है, जो हमारी हेल्थ को स्वस्थ रखता है।

चक्रासन


पीठ के बल लेट लेटें, अपने पैरों को अपने घुटनों पर मोड़ें और सुनिश्चित करें कि आपके पैर फर्श पर मजबूती से लगे हुए हैं अपनी हथेलियों को आकाश की ओर रखते हुए कोहनियों पर मोड़ें अपनी बाहों को कंधों पर घुमाएं और अपनी हथेलियों को अपने सिर के दोनों ओर फर्श पर रख दें सांस भरते हुए अपनी हथेलियों और पैरों पर दबाव डालना है और अपने पूरे शरीर को एक आर्च बनाने के लिए ऊपर उठाएं अपनी गर्दन को आराम दें और अपने सिर को धीरे से पीछे की ओर आने दें

वृश्चिकासन

इस आसन में सबसे पहले अपनी कोहनियों और हथेलियों को जमीन पर रखना है उन्हें कंधे की चौड़ाई से अलग फैलाते हुए अपनी उंगलियों को आगे की ओर बढ़ाएंअपने पैरों को सीधा रखते हुए अपने पैर की उंगलियों को अपनी कोहनी की ओर ले जाएं अपने श्रोणि को ऊपर की ओर उठाएं और आगे एक बिंदु पर ध्यान केंद्रित जरूर करें एक पैर को जितना हो सके ऊपर तक उठाएं अपने शरीर के वजन को पूरी तरह से अपनी बाहों पर शिफ्ट करते हुए दूसरे पैर को ऊपर उठा लें संतुलन बनाए रखने के लिए अपने कोर,  कंधे और बांह की मांसपेशियों की ताकत का प्रयोग करें। इस आसन को कम से कम 30 सेकंड के लिए जरूर करें

इस खबर में बताए हुए योगासन आपको जागरूकता मात्रा के लिए बताए गये हैं। इनको अमल में लाने से पहले यह सुनिश्चित कर लें की आपको कोई गंभीर बीमारी तो नहीं है. अगर हां तो अपने डॉक्टर से कंसल्ट करने के बाद ही इन योगासन को करें।

Related Links