तंदरुस्ताये नमः

कहीं आप पर भारी न पड़ जाए इस मौसम की ये ठंड बढ़ सकती है बीमारी

कहीं आप पर भारी न पड़ जाए इस मौसम की ये ठंड, बढ़ सकती है बीमारी

इस मौसम की हवाओं से सबसे ज्यादा जोड़ों में दर्द होना और सर्दी-जुखाम जैसी बीमारियों का रिस्क बढ़ सकता है

किसी भी तरह की खांसी होने पर घर पर पड़ा कफ सिरप न पिएं एक बार डॉक्टर से सलाह कर लें

किसी भी तरह की खांसी होने पर घर पर पड़ा कफ सिरप न पिएं, एक बार डॉक्टर से सलाह कर लें

सर्दियों के मौसम में खांसी का होना एक आम समस्या है लेकिन अगर आप बिना किसी डॉक्टर के सलाह के कफ सिरप पी लेते हैं, तो थोडा सावधान हो जाएं


फ्रोजन फ्रूट्स कितना बेनिफिट देता है आपको, जानने के लिए पढ़ें  पूरी खबर

फ्रोजन फ्रूट्स कितना बेनिफिट देता है आपको, जानने के लिए पढ़ें  पूरी खबर

वेब ख़बरिस्तान। आज कल की लाइफस्टाइल में गरमा गरम खाना खाने का टाइम किसी के पास नहीं है। ऐसे में लोग फ्रोजन फूड्स का सहारा लेते हैं। इतना ही नहीं भुत से लोग जल्दी-जल्दी में फ्रोजन फूड्स को गर्म करके खा लेते हैं और काम के लिए निकल जाते हैं। ऐसे में कई फ्रोजन फूड्स होते हैं जिसकी पैकिंग सही तरीके से नहीं होती है और उस भोजन से धीरे-धीरे इंसान बीमार भी हो जाता है और उसे मालूम भी नहीं चलता है। आज इस खबर में हम आपको यही बताने वाले हैं की यह फ़ूड कितना हेल्दी है और कितना नहीं। क्या है फ्रोजन फूड्स? फ्रोजन फूड्स हर टाइम खाना सही नहीं है, क्योंकि इसमें वो फ़ूड ingredient शामिल होते हैं जो उस समय के लिए स्टोर करके रख दिए जाते हैं जब वो प्राकृतिक तौर पर मार्किट में उपलब्ध नहीं होते हैं। जैसे- आमतौर पर ब्रोकली, मटर, भिंडी और फलियों जैसी सब्जियों को स्टोर करके रख दिया जाता है। इसके अलावा बाज़ार में मिलने वाले रेडी टू ईट फ़ूड आइटम्स जैसे- सब्जियों के लिए तैयार करी, फ़ीस करी, पनीर करी, सरसों मसाला करी, लहसुन-अदरक का पेस्ट, आलू के चिप्स आदि सामान यह सब इस लिस्ट में शामिल हैं। ये ऐसे फूड्स हैं जिन्हें फ्यूचर के लिए प्रजिर्वेटिव्स के इस्तेमाल से पैक करके रख दिया जाता है। फ्रोजेन फूड्स में होती है पोषक तत्वों की कमी यूं तो सभी इस बात को बखूबी जानते हैं कि फ्रेश सब्जियां और फ्रेश बना हुआ खाना हमारी हेल्थ पर बहुत अच्छा असर डालता है। वहीँ फ्रोजन फूड्स में पोषक तत्वों की कमी होती हैं। कई लोगों का भी मानना है कि फ्रीजिंग प्रोसेस में फूड की न्यूट्रशिंस वैल्यू बहुत कम हो जाती है, जिसके चलते इसका सेवन नहीं करना चाहिए। इतना ही नहीं फ्रोजन फूड्स के पैकिंग के दौरान मिनरल्स और विटामिन खत्म हो जाते हैं। पेट पर बुरा असर पड़ता है फ्रोजन फ़ूड का आपको बता दें फ्रोजन फ़ूड खाना हमारी हेल्थ पर असर डालता है। इसे खाने से हमारा पाचन तंत्र बिगड़ सकता है जिस कारण पेट की समस्या हो सकती है। कई बार फूड्स की पैकेजिंग ठीक से नहीं होती है, तो उसमें जीवाणु पैदा होने का भी डर रहता है। ऐसे में ये जीवाणु पेट के लिए हानिकारक साबित होते हैं। इसके सेवन से पेट दर्द, गैस की समस्या आदि का सामना भी करना पड़ सकता है। ऐसे में जितना फ्रोजन फूड्स के सेवन से बच सकते हैं उतना आपको बचना चाहिए। फ्रोजन फूड्स में इस्तेमाल किए जाने वाले पदार्थ बहुत से लोगों को यह नहीं पता कि फ्रोजन फूड्स को आकर्षण बनाने के लिए इनमें ब्लू-1 और रेड-3 जैसे केमिकल्स का यूज़ किया जाता है, जो सेहत के लिए काफी नुकसानदायक होता है। कई फ्रोजन फूड्स में सोडियम की क्वांटिटी इतनी ज्यादा होती है, की उसका सीधा असर हामरी हेल्थ पर पडता है। फ्रोजन फूड्स को यूज़ में लाने से पहले कुछ बातों का रखें ध्यान फ्रोजन फूड्स खरीदते समय पैकेट पर दी गई जानकारी को ध्यान से देखें और पढ़ें। खासकर एक्सपायरी डेट को एक बार ज़रूर चेक कर लें। फ्रोजन फूड्स पर दी गई इंग्रीडिएंट्स की लिस्ट को भी ध्यान से पढ़ें। फ्रोजन फूड्स को इस्तेमाल करने से दस-बीस मिनट पहले फ्रिज से बाहर निकालें और साफ पानी में उन्हें अच्छी तरह धो कर ही यूज़ करें। ऐसे फूड्स को अधिक समय तक फ्रिज से बाहर न रखें। क्योंकि, जल्दी ही ख़राब हो सकते हैं। ऐसे फूड्स को हमेशा ही डीप फ्रीजर में रखें और फ्रिज हमेशा ऑन रखें। इस खबर में दी गयी जानकारी आपको जागरूकता मात्र के लिए दी गयी है। अगर आप पहले से ही पेट सम्बन्धी बीमारी से ग्रस्त हैं, तो अपने डॉक्टर से सलाह करने के बाद ही फ्रोजन फ़ूड का यूज़ करें ।

https://webkhabristan.com/tandursteye-namah/how-much-benefit-does-frozen-fruits-give-you-read-the-full-news-to-know-5665
सर्दी में सूज जाती हैं हाथ पैरों की उंगलियां? बचाव के लिए क्या करें

सर्दी में सूज जाती हैं हाथ पैरों की उंगलियां? बचाव के लिए क्या करें

वेब ख़बरिस्तान। इनदिनों बहुत ही कड़ाके की ठण्ड पड़ रही है। ऐसे में सर्दी बढ़ने के साथ कई स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी समस्‍याएं पैदा हो जाती हैं। इन्‍हीं में से एक है तेज ठंड में हाथ और पैरों की उंगलियों में सूजन आ जाना और लाल पड़ जाना। कई लोगों में यह समस्‍या इतनी बढ़ जाती है कि सूजी हुई उंगलियों में तेज खुजली होने लगती है। जिसे खुजलाने के बाद उनमें दर्द और जलन बढ़ जाती है। ऐसे में हाथों से काम करने में अड़चन आने के साथ ही पैरों में जूते या चप्‍पल पहनना भी दर्दभरा हो जाता है। महिलायों को होती है ये प्र्ब्लेम ज्यादा डॉक्टर के मुताबिक ठंड में हाथ-पैर की उंगलियां सूजने की समस्‍या आमतौर पर लोगों को होती है। इनमें भी महिलाओं में यह परेशानी ज्‍यादा देखने में मिलती है। सर्दी बढ़ने पर तापमान काफी गिर जाता है, इससे शरीर में नसें सिकुड़ने लगती हैं जिसके परिणामस्‍वरूप ब्लड सर्कुलेशन स्लो हो जाता है और हाथ व पैरों की उंगलियों तक ब्लड धीमी गति से पहुंच पाता है। यही वजह है कि ठंड में ही सूजन की समस्‍या अधिक होती है। कभी कभी सूजन आर्थराइटिस के कारण भी होती है। किस तरह करें बचाव डॉक्टर के मुताबिक सर्दी के मौसम में लोग पानी कम पीते हैं, जिसका असर ब्‍लड सर्कुलेशन पर पड़ता है। लोगों को कोशिश करनी चाहिए कि इस मौसम में ज्‍यादा से ज्‍यादा लिक्विड आहार और पानी पीते रहें, ताकि बॉडी डिहाइड्रेट न हो सके। वहीँ बॉडी को डेली सुबह उठकर एक्टिव रखें, इसके लिए वार्म अप डेली करें। एक जगह बैठे बैठे आसन करने के बजाय कुछ ऐसी भी एक्सरसाइज करें जिनसे बॉडी एक्टिव रहे। चाहें तो अच्‍छी वॉक करें और या फिर सुबह-शाम कोई आउटडोर गेम खेलें। इससे शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन सही रहता है और सूजन आदि की समस्‍या कम से कम होती है। इस तरह की प्रॉब्लम से बचने कल लिए धूप लेनी भी बहुत जरूरी है। हालांकि दोपहर में शरीर की सिकाई के लिए धूप जरूर लें। वहीँ अगर आपको सूजन के साथ-साथ खुजली बहुत ज्‍यादा होती है और खुजलाने पर घाव आदि हो रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएँ। इससे बचने के लिए बहुत कसी हुई चप्‍पलें या जूते न पहनने से बचे, हो सके तो आरामदायक फुटवियर ही पहनें। इतना ही नहीं बहुत ज्यादा ठंडे पानी में ज्‍यादा देर तक हाथ या पैर से काम न करें। कोशिश करें कि पानी गुनगुना कर लें। ऐसा करने से उंगलियों की सूजन में कमी आएगी। ठंडे पानी में हाथ देने के तुरंत बाद हाथ आग पर न सेकें। इससे भी लाभ के बजाय परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

https://webkhabristan.com/tandursteye-namah/hands-and-toes-get-swollen-in-winter-what-to-do-to-protect-5639
नारियल तेल से गरारे करने से मिलता है गले को आराम, इस मौसम में जरूर करें इस्तेमाल

नारियल तेल से गरारे करने से मिलता है गले को आराम, इस मौसम में जरूर करें इस्तेमाल

वेब ख़बरिस्तान। इनदिनों जो मौसम चल रहा है, उसके हिसाब से लोगों के गले में खराश होना आम बात है। इसके लिए हम में से ज्यादातर लोग गर्म पानी से गरारे करते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि सिर्फ गले में खराश होने पर ही गले की केयर करना ही काफी नहीं है, बल्कि यह करना एक सदियों पुरानी तकनीक है जिसमें हम मुंह में एक लिक्विड को बुदबुदाते हैं। यह मोशन में अपने गले को धोने जैसा ही माना गया है। वहीँ, रोजाना गरारे करने से सर्दी में सांस संबंधी संक्रमण होने की संभावना कम हो जाती है। इतना ही नहीं ज्यादातर लोग गुनगुने नमक के पानी से गरारे करना पसंद करते हैं। तो आज हम इस खबर में आपको नारियल से गरारे करने के फायदों के बारे में बताने वाले हैं। लाभ मिलता है नारियल के तेल से गरारे करने से नारियल के तेल को गरारे करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है और इसके कुछ बेहतरीन फायदे भी हैं। नारियल का तेल नेचुरल होता है जो हमारे स्वास्थ्य को कई तरह से लाभ पहुंचाता है। डाइजेशन में सुधार से लेकर इम्‍यून सिस्‍टम को बढ़ाने तक, नारियल का तेल बहुत ही लाभदायक है। विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर है नारियल के तेल में बहुत सारे विटामिन्‍स होते हैं, हेल्थ को बढ़ावा देते है। यह तेल संतृप्त फैटी एसिड, पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड, पॉलीफेनोल, विटामिन-ई, विटामिन-के और अन्य महत्वपूर्ण एसिड और मिनरल्‍स का एक अच्छा स्रोत है जो हमारी कई सामान्य स्वास्थ्य समस्‍याओं का इलाज करने में मदद करता है। नारियल तेल से गरारे करने के फायदे नारियल के तेल से गरारे करने से न केवल गले को आराम मिलता है बल्कि मुंह या श्वसन तंत्र में किसी भी हानिकारक बैक्टीरिया को मारने में भी मदद मिलती है। वैसे आपको बता दें, नारियल का तेल ऑयल पुलिंग के लिए यूज़ किया जाता है जो दांतों के लिए काफी फायदेमंद होता है। ऐसा करने से कैविटी दूर होती है और दांत हेल्दी और सफेद रखने में मदद मिलती है। वहीँ यदि गले में खुजली हो रही है तो गरारे करने से काफी पहुंचता है। नारियल का तेल सूजन को कम करने में भी काफी कारगर है और मसूड़ों को हेल्दी बनाने में भी हेल्प करता है। गरारे करने से नेजल कैविटी में किसी भी बलगम को साफ करने में मदद मिलती है। नारियल तेल के गरारे करने का प्रोसेस गरारे करने के लिए हमेशा वर्जिन और असंसाधित नारियल तेल का इस्‍तेमाल करना चाहिए। हालांकि, नियमित नारियल तेल का उपयोग करना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है क्योंकि गरारे करने की प्रक्रिया में आप कुछ तेल निगल सकते हैं। इसलिए निचे बताये हुए तरीके से ही गरारे करें। सबसे पहले 2-3 चम्मच नारियल का तेल लें और इसे अपने मुंह में डालें। फिर गरारे करना शुरू करें। इसे धीरे से करें, बहुत तेजी से नहीं। साथ ही इस बात पर भी ध्यान दें कि आप तेल को निगलें नहीं। इस विधि को कुछ मिनटों के लिएकरें और फिर तेल को थूक दें। एक्‍सपर्ट के मुताबिक गरारे करने से मिलते हैं बहुत से लाभ एक्सपर्ट के मुताबिक मुंह या अल्सर में गंभीर डिहाइड्रेशन के मामले में, नारियल के तेल से गरारे कनरे से लाभ मिलता है। यह आपके मुंह में नमी को बनाए रखने में मदद करता है। नारियल के तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो मुंह में सूजन को कम करते हैं। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण भी होते हैं जो मुंह के छालों को ठीक करने में भी मदद करते हैं। इस खबर में दी गयी जानकरी आपको जागरूकता मात्रा के लिए दी गयी है हैं। अगर आप पहले से ही गले और मुंह की किसी परेशानी से जूझ रहे हैं और ऊपर बताई हुई जानकारी को अमल में लाना चाहते हैं, तो एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर कर लें हैं।

https://webkhabristan.com/tandursteye-namah/gargling-with-coconut-oil-gives-relief-to-the-throat-definitely-use-it-in-this--5644
अपनाएं इम्यूनिटी बूस्टर फूड्स और ड्रिंक, जानें फायदे

अपनाएं इम्यूनिटी बूस्टर फूड्स और ड्रिंक, जानें फायदे

वेब ख़बरिस्तान। एक तरफ कड़ाके की ठण्ड तो वहीं दूसरी तरफ देश में कोरोना की बारिश थमने का नाम नही ले रही है। ऐसे में हर कोई परेशान है की खुद का ख्याल कसी रखें और इसके लिए हमें क्या करना चाहिए। ठंड के इस मौसम और कोरोना को देखते हुए जानकार हमें सही आहार और बेहतर इम्युनिटी वाले ड्रिंक्स का सेवन करने की सलाह देते हैं। आपको बता दें कि बेहतर इम्युनिटी बूस्टर वाले फूड और ड्रिंक्स न केवल आपके शरीर को फिट रखते हैं, बल्कि ये आपको कोरोना लड़ने में भी कारगर साबित होते हैं। तो ऐसे में अब यह सवाल उठता है कि इम्युनिटी बूस्ट करने वाले वे कौन कौन से फूड और ड्रिंक्स हैं जिसका सेवन कर हम अपने आप को हेल्दी रख सकते हैं। आपको बता दें कुछ घरेलु उपाय आसानी से हमारी इम्युनिटी को बूस्ट कर सकते हैं। कच्ची हल्दी ड्रिंक सर्दी में है लाभदायक हल्दी ड्रिंक हेल्थ के लिए काफी फायदेमंद होती है। ये आपके शरीर में गर्मी पैदा कर सर्दी का असर कम करती है। यही नहीं ये आपके शरीर को कोरोना के वायरस से भी लड़ने में मदद करती है। लोग इसे वजन कम करने और नींद के नहीं आने पर भी इस्तेमाल करते हैं। इस ड्रिंक्स को आप काफी आसानी से तैयार भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको उबले हुए दूध को हल्दी पाउडर या कच्ची हल्दी में मिलाकर बनाना होता है। आप इसमें लौंग, थोड़ी सी दालचीनी, कुछ पिसा हुआ कच्चा अदरक, सोंठ या सामान्य अदरक के साथ 2 चम्मच जायफल भी मिला सकते हैं। इस तरह आप अपना हल्दी ड्रिंक तैयार कर सकते हैं। ये ड्रिंक आप अपने मेहमानों को भी पिला सलते हैं। बादाम का दूध बादाम सभी को बहुत पसंद होते हैं, ऐसे में क्या आप जानते है कि इसको दूध में मिलाकर पीने से इम्युनिटी अच्छी और बेहतर होती है। इसके साथ ही आप इसके इस्तेमाल से खुद को कोरोना से भी बचा सकते हैं। बादाम में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं और यह हमारे शरीर को काफी देर तक गर्म रखता है। इसमें प्रोटीन और वसा का अच्छा संयोजन भी होता है। इसे बनाने के लिए पहले दूध को उबाल लें, फिर इसमें 5-7 पीसा हुआ बादाम मिलाएं। अगर आपको इसमें टेस्ट चाहिए तो आप इसमें 2-3 इलायची भी डाल सकते हैं। इसके बाद इसे थोडा गुनगुना ही पियें। अदरक- शहद की चाय आयुर्वेद के मुताबिक अदरक और शहद की चाय सेहत के लिए काफी लाभदायक होती है। इससे इम्युनिटी स्ट्रोंग होने के साथ साथ बिमारियों से दूर रहने में भी मदद करती है। अदरक को जहां एक पारंपरिक और वैकल्पिक दवाओं के रुप में यूज़ किया जाता है, वहीँ शहद को सेहत का सबसे बेस्ट फ्रंड माना जाता है। अकसर लोग सर्दी से बचने के लिए अदरक और शहद का ही सहारा लेते हैं। ये आपको कोरोना से भी लड़ने की ताकत देता है। इस चाय को बनाने के लिए सबसे पहले पानी में अदरक को उबालें और फिर इसमें दालचीनी और शहद मिलाकर इसे पी लें। यह चाय आपको हर बिमारी से भी बचाता है। गर्म नींबू पानी का इस्तेमाल गर्म नींबू पानी आपके शरीर के मेटाबोलिक रेट को बढ़ाता है जिससे आपकी बॉडी हेल्दी रहती है। अकसर ऐसा देखा गया है कि सर्दियों में हमारी फिजिकल एक्टिविटी कम हो जाती है और बॉडी detoxification धीमा हो जाता है। ऐसे में गर्म नींबू पानी हमारे शरीर को ठीक रखने के लिए हमारी मदद करता है। इस ड्रिंक को तैयार करने के लिए पहले एक नींबू और उसे पानी में उबाल लें। इसमें थोड़ी सी कली मिर्च और नमक मिलाकर पियें। इस खबर में दी गयी जानकारी आपको जागरूकता मात्रा के लिए दी गयी है। इसे अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार सलाह कर लें।

https://webkhabristan.com/tandursteye-namah/adopt-immunity-booster-foods-and-drinks-know-the-benefits-5607
कोरोना वायरस से बचाव के लिए डाइट में लें ये चीजें

कोरोना वायरस से बचाव के लिए डाइट में लें ये चीजें

वेब ख़बरिस्तान। देश में कोरोना वायरस बहुत ही तेजी से अपने पैर पसार रहा है। ऐसे में आपको इसके संक्रमण से बचे रहने के लिए हर जरूरी उपाय करने चाहिए। ये उपाय साफ-सफाई से लेकर खान-पान की आदत से भी जुड़े हुए हैं। ऐसे में इम्युनिटी को स्ट्रोंग करने के लिए खाने में ऐसे फूड्स को शामिल करें, जो आपको इस संक्रमण से बचा पायें। दरअसल, एक मजबूत इम्यून सिस्टम आपको किसी भी तरह के संक्रमण से बचाने के लिए काफी मदद करता है। कच्चा लहसुन खाने में लेने से मिलता है फायदा लहसुन एक शक्तिशाली एंटी-वायरल फूड है। इसे आप कच्चा, मैश करके या सूप में डालकर खा सकते हैं। कटा हुआ कच्चा लहसुन बॉडी को बहुत से फायदे देता है। लहसुन को एक चम्मच कच्चे शहद के साथ मिलाकर खाएं और साथ में एक लौंग का भी सेवन करें। इस मिश्रण को कम से दो से तीन दिनों तक लें। यह आपकी इम्युनिटी को स्ट्रोंग करने का काम करता है। एंटी-वायरल सुपर फ़ूड है अदरक अदरक में इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत करने के सभी गुण होते हैं। आप इसका ज्यादा फायदा लेने के लिए इसे मैश्ड करके चक्र फूल और शहद के साथ खा सकते हैं। इस मिश्रण को कम से कम तीन दिन तक लें। इसके अलावा आप इसको चाय में पकाकर या फिर पानी में आचे से उबाल कर भी पी सकते हैं। कोकोनट आयल नारियल तेल में मौजूद महत्वपूर्ण मीडियम चेन फैटी एसिड, लॉरिक एसिड, कैप्रेटेलिक एसिड और कैपरिक एसिड होते हैं। ये साथ में मिलकर शरीर की इम्युनिटी को स्ट्रोंग करते हैं। कोरोनावायरस से लड़ने में ये बहुत सहायक है। इस आप अपने भोजन को शुद्ध कोल्ड-प्रेस्ड कोकोनट ऑयल में पका सकते हैं या इसे कच्चा भी खा सकते हैं। विटामिन सी करें ऐड डाइट में विटामिन-सी से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे आंवला, लाल मिर्च, पीली मिर्च, संतरा, नींबू, ब्लूबेरी इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाने का काम करती हैं। अगर आप बार-बार बीमार पड़ते हैं, तो आपको इन चीजों का सेवन शुरू कर देना चाहिए। एंटी-वायरल जड़ी बूटी अजवायन और तुलसी के पत्ते एंटी-वायरल जड़ी बूटी जैसे कि अजवायन और तुलसी के पत्ते इम्युनिटी सिस्टम को बढ़ाने के लिए बेहतर है। इनका सांस संबंधी स्वास्थ्य के लिए चाय या करी में इस्तेमाल किया जाता है। इसके इस्तेमाल से कोई संक्रमण जल्दी से जल्दी ठीक हो जाता है। सूप देगा वायरल के खिलाफ लड़ने के शक्ति इम्युनिटी सिस्टम मजबूत करने के लिए आप रोजाना सूप का सेवन भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको शकरकंद, लहसुन और हरा प्याज चाहिए। इन सभी सामग्रियों को एक साथ मिलाकर सूप बनाएं। यह सूप सर्दी, फ्लू और वायरल के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है। इस खबर में दी गयी जानकारी आपको जागरूकता मात्र के लिए दी गयी है। इसे अमल में लाने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरोर कर लें।

https://webkhabristan.com/tandursteye-namah/take-these-things-in-the-diet-to-prevent-corona-virus-5503
गर्म पानी देगा सर्दी-जुकाम से लेकर गले की खराश में राहत

गर्म पानी देगा सर्दी-जुकाम से लेकर गले की खराश में राहत

वेब ख़बरिस्तान। कोरोना की थर्ड वेव की शुरुआत हो चुकी है। इसका अंदाज़ा आप कोरोना के दिनोदिन बढ़ते केसेस को देख कर लगा सकते हैं। वहीँ सरकारों ने भी कमर कस ली है। लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या देश के लोग खुद इसको लेकर सजग हैं? मास्क लगाना, हाथ धोना, सैनिटाइज करना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना ये इस समय सबसे बड़ा बचाव हैं। इसे फॉलो करने में कोई कोताही न बरतें। साथ ही साथ खानपान के जरिए भी सेहतमंद रहने की कोशिश करें। इतना ही नहीं मौसम के चलते होने वाले सर्दी-जुकाम और खांसी को इस समय हल्के में लेने की गलती न करें क्योंकि ये कोरोना और उसके नये वैरिएंट ओमिक्रोन के लक्षण भी हो सकते हैं। ऐसे में एक चीज है जजिसका सेवन कर आप कुछ हद तक खुद को बचा सकते हैं। वह है गर्म पानी। तो इस खबर में हम आपको बताने वाले हैं कि कोरोना काल में कैसे गर्म पानी आपकी हेल्प कर सकता है और इसके सावन से आपको क्या क्या लाभ हो सकते हैं। बंद नाक को खोलने में कारगर गर्म पानी से बंद साइनस खुलता है। सर्दी-जुकाम में साइनस और गले में म्यूकस मेंब्रेन जमा हो जाते हैं, जिसकी वजह से नाक में ब्लॉकेज हो जाती है। गर्म पानी पीने से बंद नाक की ब्लॉकेज में काफी आराम मिलना शुरू हो जाता है। साथ ही इससे गले के खराश में भी आराम मिलता है। एक साथ पानी पीने की जगह हल्का सिप ले लेकर ग्लास का पानी पियें। इतना ही नही बंद नाक में आप गर्म पानी की भाप भी ले सकते हैं। ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है बॉडी में ब्लड का सही सर्कुलेशन का होना,कई तरह की बीमारियों से बचा कर रखने में हेल्प करता है। तो इसलिए सुबह उठ कर खली पेट गर्म पानी पीने से फायदा मिलता है। इसके अलावा गर्म पानी से नहाना भी ब्लू सर्कुलेशन में सुधार करता है। बॉडी डिटॉक्स करने में मिलता है बेनिफिट आयुर्वेद में कहा गया है कि गर्म पानी के सेवन से बॉडी को आसानी से डिटॉक्स किया जा सकता है। सही मात्रा में पानी पीना कि़डनी के लिए अच्छा होता है। इससे ब्लड में मौजूद गंदगी आसानी से डाइल्यूट हो यूरिन के जरिए शरीर से बाहर निकल जाती है। इसके अलावा गर्म पानी का सेवन तनाव दूर करने में काफी कारगर साबित होता है। गर्म पानी पीते रहने से हमारे नर्वस सिस्टम पर पॉजिटिव इफेक्ट पड़ता है। इससे दिमाग एक्टिव व तेज होता है और मूड भी अच्छा रहता है। जब मूड अच्छा रहेगा तो तनाव वैसे ही नहीं होगा।

https://webkhabristan.com/tandursteye-namah/hot-water-will-give-relief-from-cold-to-sore-throat-5390
होंठों का फटना, मास्पेशियाँ खिचना, दे सकता है किसी गंभीर बीमारी को बढ़ावा

होंठों का फटना, मास्पेशियाँ खिचना, दे सकता है किसी गंभीर बीमारी को बढ़ावा

वेब ख़बरिस्तान। रात में सोते वक्त पैरों की मांसपेशियां खिंचती हैं या फिर होंठ तमाम तरह के लिप बाम ट्राय करने के बाद भी फट रहे हैं। तो ये आपके शरीर में किसी पोषक तत्व की कमी की ओर इशारा है। जिसमे पोषक तत्वों जैसे विटामिन, कैल्शियम, मिनरल्स की कमी का होना। हम आपको बता रहे हैं कि इसे कैसे पहचाना जा सकता है। डाइट पर ध्यान दें होंठ लगातार कटे-फटे रहते हैं तो ध्यान देने की जरूरत है। शरीर में पानी की कमी इसका मुख्य कारण है। सर्दियों में हम सभी बहुत कम पानी पिटे हैं। जिसका असर सीधा होटों पर दिखता है। इसके अलावा विटामिन बी-12 और आयरन की कमी से भी होंठ फटने लगते हैं। अगर आपको भी ये समस्या हो रही हो तो खाने में अंडा, पत्तागोभी, ब्रोकली, मूंगफली और दालें शामिल कर अपनी इस समस्या से निजात पा सकता हैं। बॉडी में कैल्शियम और पोटासियम की कमी रात में सोते वक्त या दिन में किसी भी आरामदायक पोजिशन में बैठे हुए भी पैरों की मांसपेशियां खिंचने लगती हैं। ये संकेत है कि आपके शरीर में कैल्शियम और पोटेशियम की कमी हो रही है। इससे निजात पाने के लिए खाने में केला, कद्दू, हरी सब्जियां ऐड करें। प्रोटीन की सही मात्रा का न होना बाल झड़ रहे हैं यानी शरीर में प्रोटीन की बहुत कमी है। प्रोटीन की कमी से बालों की चमक तो कम होती ही है साथ ही बाल झड़ने लगते हैं और दोमुंहे हो जाते हैं। इसे ठीक करने के लिए खाने की प्लेट में अंडे, दाल, बादाम, चना और नट्स को शामिल करें। वजन कम हो रहा तो ध्यान दें एकाएक वजन कम हो रहा है, तो ध्यान देने की जरूरत है। ये विटामिन डी की कमी से होता है। इसे संतुलन में लाने के लिए खाने में अंडा, मछली ले सकते हैं। जो लोग शाकाहार लेते हैं, वे चीज़, मशरूम का सेवन जरूर करें। इस ख़बर में दी गयी जानकारी आपको जागरूकता मात्रा के लिए दी गयी है। ऊपर बताई हुई बातों को अमल में लाने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

https://webkhabristan.com/tandursteye-namah/cracking-of-lips-pulling-muscles-can-give-rise-to-some-serious-disease-5368
ऐसे करें फटी एड़ियों का इलाज …

ऐसे करें फटी एड़ियों का इलाज …

अगर इस मौसम में पैर ज्यादा फटते हैं तो आप इन टिप्स को जरूर फॉलो करें वेब डेस्कः सर्दी में हम सभी चाहते हैं कि हमारा फेस ग्लो करे। लेकिन ठंड में हम पैरों की एड़ियों को भूल जाते हैं। एड़ियों का साफ-सुथरा और मुलायम रखना किसे पसंद नहीं है। भले ही कुछ लोगों को यह लगता हो कि पैरों कि देखभाल क्यों करनी। लेकिन आपको बता दें कि पैर आपकी पर्सनेलिटी को चेक करने का सबसे पहला तरीका होता है। आपके पैर भी उसी तरह आपकी पर्सनेलिटी बताते हैं जैसे आपक जूते। इसलिए पैरों का ख्याल रखना बहुत ही जरूरी है। पैर फटने के क्या कारण हैं खून की कमी और विटामिन सी कमी की वजह से पैर फटने शुरू हो जाते हैं। अगर पैरों की देखभाल अच्छे से न की जाए तो पैरों में दरारे पड़ जाती हैं। नंगे पैर चलना भी पैर की एड़ियों के फटने का कारण बन जाता है। सर्दी में विटामिन सी की कमी से भी पैर फटने लगते हैं। I ऐसे करें पैरों की देखभाल शहद करेगा आपके पैरों को ठीक शहद में बहुत सारे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो स्किन को हाइड्रेट रखते हैं और सॉफ्ट बनाते हैं। इसके आलावा शहद पैरों की स्किन को हेल्दी रखता है। शहद और ग्लिसरीन से बने मास्क को पैरों पर लगाएं। मास्क बनाने के लिए 2 चम्मच शहद और 2 चम्मच ग्लिसरीन के घोल को 10 मिनट के लिए पैरों पर लगा कर छोड़ दें। फिर गुनगुने पानी से धो लें।I शहद और नींबू से आएगा आराम अगर पैरों में से बदबू आती है तो शहद में नींबू का रस मिलाकर लगाएं। नींबू के रस में मौजूद विटामिन सी पसीने के सारे बैक्टीरिया को खत्म कर देते हैं। इससे पैरों से बदबू आने की समस्या नहीं होती है। वहीं ऑलिव ऑयल पैरों की डेड सेल्स को हटाते हैं और पैरों की स्किन को जवां बनाते हैं। यह मास्क बनाने के लिए 2 चम्मच शहद, 2 चम्मच ऑलिव ऑयल और कुछ बूंदें नींबू की मिलाकर पेस्ट बनाएं। इसे पैरों पर लगाकर 10 मिनट छोड़ कर फिर धो लें। फटे पैर ठीक होंगे साथ ही पैरों से अच्छी खुशबू भी आयेगी। नारियल का तेल करेगा मदद अगर आपकी एड़ियां फटी हुई हैं तो आप नारियल का तेल भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आपको करना सिर्फ ये इतना है कि रात को अच्छे से पैर धोकर, उस पर नारियल का तेल लगा लें। ये आपको 10 दिन तक लगातार करने पर काफी आराम मिलेगा और फटी एडियों ठीक होंगी। त्रिफला चूर्ण फटी एड़ियों में फायदेमंद … त्रिफला चूर्ण को खाने के तेल में तल कर मलहम जैसा गाढ़ा कर लें। फिर ठंडा होने पर रात को फटी एड़ियों पर लगा लें। कुछ दिन लगातर इस पेस्ट को पैरों पर लगाने से फटी एड़ियों से राहत मिलेगी ।

https://webkhabristan.com/tandursteye-namah/solutions-of-crack-heel-624