प्याज़ की गर्म तासीर होने के कारण और इसके अधिक सेवन से शरीर को नुक्सान होते हैं, जानें



प्याज में ग्लूकोज और फ्रुक्टोज जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। अगर ये तत्व बॉडी में अधिक मात्रा में हो जाये तो उससे आपकी शुगर की मात्रा बढ़ सकती है

ख़बरिस्तान नेटवर्क। अक्सर गर्मी के मौसम में लू से बचने के लिए बहुत से लोग कच्चा प्‍याज जरूर अपने खाने में खाते हैं। जिसका लाभ हेल्थ को मिलता ही है।  लेकिन यहां आपको बता दें कि जरूरत से ज्यादा कच्चा प्‍याज खाने से हेल्थ को बेनिफिट मिलने की बजाय नुकसान भी होता है। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर प्याज़ खाने से कैसा नुक्सान। तो चलिए आज इसे ही समझते हैं।

प्याज में ग्लूकोज और फ्रुक्टोज जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। अगर ये तत्व बॉडी में अधिक मात्रा में हो जाये तो उससे आपकी शुगर की मात्रा बढ़ सकती है और जो शरीर को बीमार बना सकता है। साथ ही इसमें फाइबर की भी मात्रा ज्यादा होती है, जिसे लोग अच्छे से पचा नहीं पाते हैं। जिससे एसिडिटी प्रॉब्लम होनी शुरू हो जाती है। यहां आपको एक बात और बता दें कि प्याज़ की तासीर गर्म होती है और इसके अधिक सेवन से शरीर में गर्मी हो सकती है, जिसका नुकसान आपको भुगतना पड़ सकता है। चलिए अब जानते हैं कि ज्यादा प्याज़ के सेवन से और क्या क्या नुक्सान होते हैं।

सर्जरी


हाल ही में अगर आपकी किसी भी तरह की कोई सर्जरी हुई है, तो प्‍याज को डाइट में लेने से ब्‍लड क्‍लॉटिंग हो सकती है। यही नहीं, ये आपके ब्‍लड शुगर को लो कर सकता है, इसलिए सर्जरी से एक सप्‍ताह पहले और बाद में प्‍याज खाने से बचें। ऐसा इसलिए क्योंकि सर्जरी में न तो ज्यादा ठंडी तासीर वाली चीजें और न ही ज्यादा गर्म तासीर वाली चीजें खा सकते हैं।

डायबिटीज पेशेंट

प्याज में ग्लूकोज और फ्रुक्टोज की अधिक मात्रा होने की वजह से डायबिटीज के मरीजों को इसके अधिक सेवन से नुकसान हो सकता है। इसलिए शुगर के मरीजों को प्याज को अपनी डाइट में बहुत ही लिमिटेड मात्रा में रखना चाहिए। अगर आप डायबिटिक हैं और रेगुलर प्‍याज खाते हैं, तो आप समय समय पर अपना ब्‍लड शुगर जरूर चेक करते रहें। वहीँ अगर आपका ब्‍लड शुगर लो रहता है, तो एक निश्चित मात्रा से अधिक प्‍याज न बिलकुल न खाएं।

डायजेशन की समस्‍या हो सकती है

प्याज़ कि तासीर गर्म होती है जो अधिक खाने से आपके digestive सिस्टम पर भी असर डालती है। वहीँ अगर आपको इंडायजेशन की प्रॉब्लम है, तो प्‍याज खाने से बचें। इंडायजेशन की प्रॉब्लम जब तक ठीक नहीं हो जाती तब तक कच्चे प्याज़ को डाइट में न लें। लेकिन अगर आप फिर भी एक टाइम के खाने में कच्चा प्याज़ ले रहे हैं तो आपकी प्रॉब्लम में राहत आने की बजाय नुक्सान हो सकता है।

प्रेगनेंसी और ब्रेस्ट फीडिंग

कहते हैं कि प्रेगनेंसी में हमेशा अच्छी और हेल्दी डाइट लेनी चाहिए, ताकि आने वाला बच्चा हेल्दी पैदा हो। यहां आपको बता दें कि प्रेगनेंट और ब्रेस्‍ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं को जरूरत से अधिक प्‍याज नहीं खाना चाहिए। इसकी गर्म तासीर के कारण ब्रेस्‍ट फीडिंग के टाइम आपके बच्चे को गैस जैसी प्रॉब्लम हो सकती है।

प्याज़ से जुड़ी ये खास बातें आपको कैसी लगी, इसके बारे में हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

Related Links