मेडिटेशन से ब्रेस्टफीडिंग मदर का रहता है मूड अच्छा, जानने और भी हेल्थ बेनेफिट्स



मैडिटेशन करने से शरीर में प्रोलैक्टिव हार्मोन सही तरह से स्रावित होता है और ब्रेस्टमिल्क आने में भी कोई परेशानी नहीं होती है।

खबरिस्तान नेटवर्क: हर महिला के लिए मां बनना इस दुनिया की सबसे अच्छी फीलिंग मानी जाती है। वहीँ मां बनने के बाद का पीरियड काफी चैलेंजिंग होता है। इस दौरान एक महिला कई तरह के शारीरिक व मानसिक बदलाव से गुजर रही होती है। वहीँ इस पीरियड में बच्चे को ब्रेस्टमिल्क देना भी बहुत जरूरी होता है। ऐसे में अगर किसी महिला को तनाव हो तो उसका असर बच्चे में भी होता है। लेकिन अगर मां MEDIATION करे तो उसका अच्छा हेल्थ बेनिफिट होता है। तो चलिए आज ब्रस्टफीडिंग पीरियड के दौरान मेडिटेशन करने के कुछ लाभों के बारे में जान लेते हैं।

ब्रेस्टमिल्क सर्कुलेशन को बनाए बेहतर

मेडिटेशन ब्रेस्टफीड करवाने वाली महिलाओं को कई तरह के लाभ पहुंचाता है। दरअसल, महिला के शरीर में प्रोलैक्टिन हार्मोन होता है, जो बेहतर तरीके से मिल्क प्रोडक्शन में मदद करता है। लेकिन जब महिला बहुत अधिक स्ट्रेस या तनाव में होती है तो यह हार्मोन सही तरह से काम नहीं करता है और मां के साथ साथ बच्चे को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। लेकिन जब महिला नियमित रूप से मेडिटेशन का अभ्यास करती हैं तो इससे शरीर में प्रोलैक्टिव हार्मोन सही तरह से स्रावित होता है और ब्रेस्टमिल्क आने में भी कोई परेशानी नहीं होती है।

हैप्पी हार्मोन रिलीज होता है


रेगुलर मेडिटेशन करने से पिट्यूटरी ग्लैंड से रिलीज होने वाले एंडोर्फिन हार्मोन को भी रेग्युलेट होने में मदद मिलती है। एंडोर्फिन हार्मोन को हैप्पी हार्मोन भी कहा जाता है। यह ना केवल शरीर में तनाव को कम करते हैं, बल्कि इससे महिला अधिक खुश रहती है। इससे महिला और बेबी के बीच एक अच्छी बॉन्डिंग बनती है। जब बॉडी में हैप्पी हार्मोन अच्छी तरह से काम करते हैं तो इससे महिला को प्रसव के बाद होने वाले बेबी ब्लूज व पोस्टपार्टम डिप्रेशन की समस्या(डिप्रेशन में ना करें ये काम) का भी सामना नहीं करना पड़ता है।

वेट लॉस में भी लाभ मिलता है

ब्रेस्टफीडिंग मदर मेडिटेशन का अभ्यास रेगुलर करे तो इससे उसे पोस्ट प्रेग्नेंसी वेट लॉस में मदद मिलती है। दरअसल, प्रेग्नेंसी के बाद महिला का वजन काफी बढ़ जाता है, लेकिन अगर वह लंबे समय तक बच्चे को ब्रेस्टफीड करवाती है तो इससे वजन कम करने में अतिरिक्त सहायता मिलती है। दरअसल, मेडिटेशन के कारण महिला का ब्रेस्ट मिल्क अच्छी तरह आता है, जिससे वह लंबे समय तक बच्चे को ब्रेस्टफीड करवा पाती है और इससे उसे वजन कम करने में मदद मिलती है।

ये जानकारी आपको जागरूकता मात्र के लिए दी गयी है खबरिस्तान नेटवर्क इसकी कोई पुष्टि नहीं करता है। इन पर अमल करने से पहले या इसके बारे में अधिक जानकारी लेने के लिए एक्सपर्ट्स से राय जरूर ले।

Related Tags


mediataion Breastfeeding mother

Related Links


webkhabristan