वेटलिफ्टिंग में गोल्ड जीतने वाली चीनी एथलीट होउ पर डोपिंग का शक, मीराबाई का मेडल बदल सकता है गोल्ड में



वेटलिफ्टिंग में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीतने वाली मीराबाई चानू का मेडल गोल्ड में बदल सकता है

वेब खबरिस्तान, टोक्यो।  वेटलिफ्टिंग में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीतने वाली मीराबाई चानू का मेडल गोल्ड में बदल सकता है। खबर आ रही है कि पहले नंबर पर रहीं चीनी एथलीट होउ जिहूई पर डोपिंग का शक है। एंटी डोपिंग एजेंसी ने होउ को सैंपल-B टेस्टिंग के लिए बुलाया है। चूंकि उनका सैंपल-A क्लीन नहीं है।

किसी भी समय हो सकता है डोपिंग टेस्ट


होउ जिहूई वापिस अपने देश लौटने वाली थीं, लेकिन उन्हें रुकने के लिए कहा गया है। किसी भी समय उनका डोपिंग टेस्ट हो सकता है। ओलिंपिक्स में पहले भी ऐसा हो चुका है जब डोपिंग में फेल होने पर खिलाड़ी का पदक छीन लिया गया और दूसरे नंबर पर रहने वाले खिलाड़ी को दे दिया गया। वहीं मीराबाई भी भारत आज लौट रही हैं।

वेटलिफ्टिंग फेडरेशन ने कहा- अभी इसकी कोई जानकारी नहीं

वेटलिफ्टिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के एक अधिकारी ने बताया कि अभी इंटरनेशनल ओलिंपिक कमेटी ने इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी है। टोक्यो ओलिंपिक में मीराबाई ने भारत को पहला और अब तक का एकमात्र मेडल दिलाया है। उन्होंने महिलाओं की 49 किलोग्राम वेट कैटेगरी में कुल 202 किलोग्राम वजन उठाया। जबकि चीन की होउ जिहूई ने 210 किलोग्राम वजन उठाकर गोल्ड मेडल जीता था।

5000 एथलीट रैंडम डोपिंग टेस्ट

करीब 5000 एथलीटों का रैंडम डोपिंग टेस्ट किया जा रहा है। कुछ एथलीट्स के A-सैंपल में संदेह पाया गया है, इसमें होउ भी शामिल हैं। अगर वे डोपिंग टेस्ट में फेल होती हैं, तो मीराबाई भारत के लिए गोल्ड जीतने वाली पहली महिला एथलीट बन जाएंगी।

Related Links