एक करोड़ रुपये में बिकी व्हिस्की की बोतल, बोली लगाने वाले खो बैठे 'होश'



इंगलेड्यू व्हिस्की को 1860 के दशक में बोतलबंद किया गया था, लेकिन अभी तक शराब खराब नहीं हुई

वेब ख़बरिस्तान। अभी तक आपने महंगी से महंगी शराब के बारे में सुना होगा, जिसकी कीमत करीब 2-4 लाख रुपये की होगी। लेकिन अगर किसी विह्सकी की बोतल की कीमत आपकी सोच से भी परे चली जाए तो क्यो होगा। जी हां हम बात कर रहे हैं एक करोड़ रुपये में बिकी एक व्हिस्की की बोतल की। 250 साल पुरानी व्हिस्की की एक बोतल की कीमत 1 करोड़ रुपये है। दुनिया की सबसे पुरानी व्हिस्की होने के कारण इसकी नीलामी हुई और एक करोड़ रुपये से भी अधिक में यह बिकी।

1860 के दशक में बोतलबंद किया गया


ये व्हिस्की 250 साल पुरानी है, जिसे इसकी असली कीमत से छह गुना अधिक दाम पर नीलाम किया गया। 19वीं सदी की ये बोतल अब 137,000 डॉलर यानी एक करोड़ रुपये से ज्यादा में नीलाम हुई। इसे जॉर्जिया के लैग्रेंज में एक जनरल स्टोर में बोतलबंद किया गया था। मीडिया रिपोर्ट में छपी खबर के मुताबिक, ओल्ड इंगलेड्यू व्हिस्की को 1860 के दशक में बोतलबंद किया गया था, लेकिन अभी तक बोतल में रखी हुई शराब खराब नहीं हुई। बताया जा रहा है कि ये व्हिस्की मशहूर फाइनेंसर जे.पी. मॉर्गन की हुआ करती थी। व्हिस्की की बोतल पर एक लेबल लगा है जिसपर लिखा है कि यह Bourbon शायद 1865 से पहले बनाया गया था, जो कि जेपी मॉर्गन के तहखाने में थी। मॉर्गन की मृत्यु के बाद उनकी संपत्ति से ये मिली।'

जेपी मॉर्गन ने 1900 के आसपास खरीदी थी बोतल

व्हिस्की नीलामी के बाद कुछ विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि जेपी मॉर्गन ने खुद 1900 के आसपास बोतल खरीदी थी। बाद में उन्होंने इसे अपने बेटे को दे दिया, जिसने 1942 और 1944 के बीच इसे दक्षिण कैरोलिना के गवर्नर जेम्स बायर्न्स को दे दिया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, बोतल की कीमत 20,000 डॉलर से 40,000 डॉलर के बीच हो सकती है। लेकिन 30 जून को समाप्त हुई नीलामी में मिडटाउन मैनहट्टन में एक संग्रहालय और शोध संस्थान, मॉर्गन लाइब्रेरी को 137,500 डॉलर में बेच दिया गया। फिलहाल ये शराब अब पीने योग्य है या नहीं यह तो रिसर्च करने पर ही पता चल पाएगा।

Related Links