बारूदी सुरंगों का पता लगाने वाला चूहा हुआ रिटायर



पांच साल में 71 बारूदी सुरंगों और 38 बमों का पता लगा चुका है यह चूहा

वेब ख़बरिस्तान। चूहे तो मुसीबत का ही दूसरा नाम होते हैं। जहां भी पहुंच जाएं वहीं नुकसान करते हैं।  ऐसे में यह जानकर हैरानी होती है कि एक चूहा बीते पांच वर्ष से कंबोडिया में लोगों की जान बचाता आ रहा है। जी, हां। मागावा नाम का अफ्रीकी चूहा ब्रिटेन के सर्वोच्च पशु सम्मान जार्ज क्रास फार एनिमल से भी सम्मानित किया जा चुका है। असल में यह चूहा बारूदी सुरंग और बमों की खोज का उस्ताद है। पांच साल में इसने करीब 2,25,000 वर्ग मीटर जमीन नापकर 71 बारूदी सुरंगों और 38 बमों का पता लगाया है। मागावा को लैंडमाइन साफ करने वाले एनजीओ बेल्जियन चैरिटी अपोपो ने प्रशिक्षित किया था। उसका काम कितना महत्वपूर्ण था, इसका अंदाजा इससे लगा सकते हैं कि कंबोडिया में बारूदी सुरंगों में होने वाले धमाकों की वजह से 1979 के बाद से अब तक करीब 64,000 हजार लोग जान गंवा चुके हैं और करीब 25 हजार अपंग हो चुके हैं।

Related Links