17 साल के लड़के नीतीश कुमार के मुंह में 82 दांत, 3 घंटे सर्जरी कर निकाले



देखकर डॉक्टर भी हैरान हो गए

वेब खबरिस्तान, पटना। बिहार के आरा जिले में 17 वर्षीय नीतीश कुमार के जबड़े में 82 दांत थे। ये देखकर डॉक्टर भी हैरान हो गए। दरअसल ये 82 दांत सामान्य दांतों से बिलकुल अलग थे और समय के साथ बढ़ भी रहे थे। नीतीश ने इलाज़ के लिए दिल्ली से लेकर देश के कई बड़े शहरों में चक्कर लगाए लेकिन डॉक्टरों की समझ में ये मामला नहीं आया।

82 दांतों का गुच्छा मिला


पटना के इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के मैग्जिलोफेशियल यूनिट ने ट्यूमर डिटेक्ट किया। जब दोनों जबड़ों में फैले ट्यूमर का ऑपरेशन किया गया तो 82 दांतों का गुच्छा मिला। नीतीश अब स्वस्थ हैं और डॉक्टरों का कहना है कि बहुत जल्द उसे छुट्‌टी दे दी जाएगी। मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. मनीष मंडल ने बताया कि नीतीश दर्द से कुछ खा-पी नहीं पा रहा था। मुंह के अंदर कोई परेशानी नहीं थी, लेकिन बाहर दोनों जबड़े के निचले हिस्से में इतनी सूजन थी कि मुंह खोलने से भी तकलीफ होती थी।

सही इलाज़ न मिलने के कारण हो गया था गंभीर

उन्होंने बताया कि नीतीश को जांच के बाद यह डिटेक्ट किया गया कि उसके जबड़े में ट्यूमर है। सही इलाज न मिल पाने के कारण वह गंभीर हो गया था। कॉम्प्लेक्स ओडोन्टोम नामक जबडे का यह दुर्लभ ट्यूमर डॉक्टरों की टीम ने काटकर निकाल दिया। मैग्जिलोफेशियल यूनिट के हेड डॉ. प्रियंकर सिंह ने बताया कि नीतीश कुमार को 5 साल से निचले दोनों जबड़े में परेशानी थी। वह दिल्ली, कोलकाता, वाराणसी के साथ कई बड़े शहरों में इलाज के लिए भटका, लेकिन कहीं से डिटेक्ट नहीं हो पा रहा था। उन्होंने अपने सहयोगी डॉ. जावेद इकबाल के साथ मिलकर यह जटिल ऑपरेशन किया। डॉ. प्रियंकर ने बताया कि उन्हें ट्यूमर के बारे में जांच से पता चल गया था। यह भी पता था कि उसमें दांत या फिर दांत बनने वाले पदार्थ हैं, लेकिन ऑपरेशन के बाद वह भी हैरान हो गए जब दांतों का गुच्छा सामने आया।

असाधारण है ट्यूमर और उसमें से निकले दांत की कहानी

डॉ. प्रियंकर ने बताया एनेस्थेसिया की तरफ से डॉ. गणेश एवं डॉ. माधुरी ने अपनी सफल भूमिका निभाई। ऑपरेशन इस तरह किया गया है कि नीतीश का चेहरा खराब ना हो। ऑपरेशन के बाद जिस तरह से उसका चेहरा विकृत था उसे पूरी तरह से ठीक कर दिया गया है। सही इलाज समय से मिला होता, पहले ही केस डिटेक्ट कर लिया गया होता। ट्यूमर को जांच के लिए भेजा जा रहा है, जिससे यह पता लगाया जा सके कि दांत कैसा है। रिपोर्ट आने के बाद पूरी जानकारी मिल जाएगी।

Related Links