आखिर क्यों क्यों पहना जाता है जनेऊ? क्या होते हैं इसको पहनने के फायदें



खबरिस्तान नेटवर्क: यूं तो हिंदू धर्म में बहुत से तरह के संस्कारों का पालन किया जाता है। लेकिन इनमें से एक यज्ञोपवीत संस्कार भी है। यज्ञोपवीत को लोग आमतौर पर जनेऊ के नाम से ही पहचानते और जानते हैं। शायद आपने भी बहुत बार लोगों को जनेऊ पहने देखा होगा। लेकिन क्या आप जानते है ये क्यों पहना जाता है। तो चलिए आज इसी के बारे में जान लेते हैं।

आखिर होता क्या है जनेऊ?

बता दें जनेऊ तीन धागों से बना एक सूत्र होता है, जिसे बाएं कंधे के ऊपर से दाईं बाजु के नीचे पहना जाता है। वहीँ शास्त्रों में इसे पहनने के कुछ नियम भी बताये गये हैं। अगर इन नियमों का पालन नहीं किया जाता है तो वे लोग इस जनेऊ को पहन नही सकते हैं।

हिन्दू धर्म में इसे पवित्र माना जाता है

जनेऊ 3 धागों से बना होता है, जिनका कुछ अर्थ होता है। इन तीनों धागो को देवऋण, पितृऋण और ऋषिऋण का प्रतीक मानते हैं। इतना ही नहीं ऐसा भी कहा जाता है कि यह धागे सत्व, रज और तम को दर्शाते हैं।

जनेऊ में होते हैं कुल 9 सूत्र

यूं तो जनेऊ में कुल 3 सूत्र होते हैं लेकिन एक सूत्र के साथ 3 धागे लगे होते हैं। इस हिसाब से एक जनेऊ में कुल 9 सूत्र होते हैं। यह 9 सूत्र शरीर के नौ द्वार 1 मुख, 2 नासिका, 2 आंख, 2 कान, मल और मूत्र के लिए माने जाते हैं।


महिलाएं भी धारण कर सकती हैं जनेऊ?

बहुत सी परिस्थिति में पुरुषों की तरह महिलाएं भी जनेऊ को धारण कर सकती हैं। हालांकि कुछ रिपोर्ट्स में बताया गया है कि महिलाओं को जनेऊ नहीं पहनना चाहिए। ऐसा वास्तव में है या नहीं इस बारे में तो कोई एक्सपर्ट ही बता सकता है।

जनेऊ डालने के कुछ नियम भी हैं

जनेऊ पहनने के बहुत से नियम बताये जाते हैं जिनका पालन करना बहुत जरूरी होता है। जैसे जनेऊ को कभी भी गंदे हाथों से नहीं छूना चाहिए। सूतक और लंबे अंतराल के बाद जनेऊ को बदलते रहना चाहिए। बहुत लंबे समय तक एक ही जनेऊ पहनना गलत माना जाता है। इतना ही नही जनेऊ को मल-मूत्र विसर्जन के समय दाहिने कान पर चढ़ा लेना चाहिए। माना जाता है कि मल-मूत्र के दौरान जनेऊ ऊपर ना करने से अपवित्र हो जाता है।

इसको पहनने के कुछ हेल्थ लाभ भी होते हैं

बता दें जनेऊ पहनने के हेल्थ बेनेफिट्स भी हैं। जो हृदय रोग और ब्लड प्रेशर की दिक्कत को होने नहीं देता है। साथ ही शरीर में खून का प्रवाह भी सही रहता है। जनेऊ पहनने को ब्लड प्रेशर के लिए भी फायदेमंद बताया गया है।

अगर आपको जनेऊ से जुड़ी जानकारी अच्छी लगी हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

Related Tags


Janeu hindu culture hindu religion

Related Links


webkhabristan