पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने गुरदास मान को दी राहत



उच्च न्यायलय ने अग्रिम जमानत मंजूर करते हुए हफ्ते में इवेस्टीगेशन जॉइन करने के दिए आदेश

वेब ख़बरिस्तान, चंडीगढ़। सिख समाज की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप झेल रहे पंजाबी सिंगर गुरदास मान को आखिर पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट से राहत मिल गई है। उच्च न्यायलय ने बुधवार सुबह सुनवाई के दौरान अग्रिम जमानत मंजूर करते हुए एक हफ्ते में इवेस्टीगेशन जॉइन करने के आदेश दिए हैं। सोमवार को गुरदास मान के वकीलों ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। इससे पहले जालंधर की सेशन कोर्ट ने उनकी याचिका खारिज कर दी थी, जिससे गुरदास मान पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है।

बता दें कि गुरदास मान के खिलाफ थाना नकोदर में धार्मिक भावनाएं आहत करने का केस दर्ज है। उन्होंने नकोदर के डेरा बाबा मुराद शाह में मेले के दौरान डेरे के गद्दीनशीन साईं लाडी शाह को गुरु अमरदास जी का वंशज बताया था। इसका विरोध होने पर गुरदास मान ने वीडियो जारी कर सार्वजनिक रूप से माफी भी मांगी थी। स्पष्ट किया था कि उनकी मंशा किसी की भावनाएं आहत करने की नहीं थी। इसके बावजूद सिख संगठनों ने उनके खिलाफ IPC की धारा 295A के तहत केस दर्ज करवा दिया।


गुरदास मान ने जालंधर की सेशन कोर्ट में पहले अग्रिम जमानत याचिका लगाई थी। इसे खारिज करते हुए सेशन कोर्ट ने कहा था कि मान को जमानत देने से पंजाब का माहौल खराब हो सकता है। उनकी टिप्पणी से सिख समुदाय में नाराजगी और बढ़ सकती है।

मान ने दिया था यह तर्क

गुरदास मान ने साईं लाडी शाह को गुरु अमरदास जी का वंश बताने के लिए भल्ला गोत्र का तर्क दिया था, लेकिन कोर्ट ने कहा कि किसी की जाति एक समान हो तो उसे वारिस नहीं कह सकते। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर गुरदास मान ने माफी मांगी तो इसका मतलब उन्होंने मान लिया कि उन्होंने ऐसी टिप्पणी की है। कोर्ट ने यह भी कहा था कि मान ने यह बात अज्ञानता वश कही, इस स्टेज पर कोर्ट इसके बारे में कुछ नहीं कह सकती।

मान ने की थी यह टिप्पणी

गुरदास मान ने नकोदर में डेरा बाबा मुराद शाह मेले में स्टेज से कहा था कि साईं लाडी शाह सिखों के तीसरे गुरु श्री गुरु अमरदास जी के वंश हैं। इसका वीडियो वायरल हुआ तो सिख संगठन भड़क उठे। उन्होंने तीन  दिन तक नकोदर पुलिस थाना और जालंधर रूरल पुलिस के एसएसपी ऑफिस में धरना दिया। केस दर्ज न हुआ तो सिख संगठनों ने हाईवे जाम कर दिया। इसके बाद पुलिस ने मान पर केस दर्ज कर लिया। हालांकि विवाद होने पर मान ने वीडियो जारी करके माफी भी मांग ली थी। इसके बावजूद सिख संगठनों का गुस्सा शांत नहीं हुआ।

Related Links