नवजोत सिंह सिद्धू को एक साल की सजा, 34 साल पुराने रोडरेज केस में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला बदला

हाईकोर्ट से मिली सजा के खिलाफ नवजोत सिद्धू सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए

हाईकोर्ट से मिली सजा के खिलाफ नवजोत सिद्धू सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए



नवजोत सिंह सिद्धू को सुप्रीम कोर्ट ने 1 साल की सख्त सजा सुनाई है

वेब खबरिस्तान। 34 साल पुराने रोडरेज केस में पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को सुप्रीम कोर्ट ने 1 साल की सख्त सजा सुनाई है। सिद्धू के हमले में एक बुजुर्ग की मौत हो गई थी। हालाँकि इसके पहले सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें 1 हजार रुपए का जुर्माना देकर छोड़ दिया था। नवजोत सिद्धू को अब या तो गिरफ्तार किया जाएगा या फिर वो सरेंडर करेंगे। पंजाब पुलिस इस मामले में कानून का पालन करेगी।

1988 को हुआ था बुजुर्ग से झगड़ा

नवजोत सिद्धू के खिलाफ रोडरेज का मामला साल 1988 का है। दरअसल उनका पटियाला में पार्किंग को लेकर 65 वर्षीय गुरनाम सिंह नाम के बुजुर्ग व्यक्ति से झगड़ा हो गया था। आरोप है कि उनके बीच हाथापाई भी हुई। सिद्धू ने कथित तौर पर गुरनाम सिंह को मुक्का मार दिया। बाद में गुरनाम सिंह की मौत हो गई। पुलिस ने नवजोत सिंह सिद्धू और उनके दोस्त रुपिंदर सिंह सिद्धू के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज किया।

1999 में हुए थे बरी 


अदालत में सुनवाई के दौरान सेशन कोर्ट ने नवजोत सिंह सिद्धू को सबूतों का अभाव बताते हुए 1999 में बरी कर दिया था। पीड़ित पक्ष सेशन कोर्ट के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट पहुंच गया। साल 2006 में हाईकोर्ट ने इस मामले में नवजोत सिंह सिद्धू को तीन साल कैद की सजा और एक लाख रुपए जुर्माने की सजा सुनाई थी।

हाईकोर्ट से मिली सजा के खिलाफ नवजोत सिद्धू सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए। सुप्रीम कोर्ट ने 16 मई 2018 को सिद्धू को गैर इरादतन हत्या के आरोप में लगी धारा 304IPC से बरी कर दिया। लेकिन IPC की धारा 323, यानी चोट पहुंचाने के मामले में सिद्धू को दोषी ठहरा दिया गया। सिद्धू को केवल एक हजार रुपया जुर्माना लगाकर छोड़ दिया गया। जुर्माने की सजा के रिव्यू के लिए विरोधी पक्ष ने अपील की थी, जिसो कोर्ट ने स्वीकार किया और सिद्धू को अब सजा सुनाई गई है।

 

Related Tags


navjot sidhu jail to navjot sidhupunjab congress ppsc navjot sidhu sentenced to jail roadrage case sidhu roadrage case

Related Links