सिद्धू ने लिखा – पंजाब के वास्तविक मुद्दों पर लौटना चाहिए , फैंस का जवाब – सर सरकार में हो आप, ये आप को करना है बताना नहीं है

नवजोत सिंह सिद्धू को ट्विटर पर करना पड़ा तीखे जवाबों का सामना।

नवजोत सिंह सिद्धू को ट्विटर पर करना पड़ा तीखे जवाबों का सामना।



ट्विटर पर ट्वीट कर फैंस के निशाने पर आए प्रधान पद से इस्तीफा देने वाले नवजोत सिंह सिद्धू

वेब ख़बरिस्तान। इस पारी में मुख्यमंत्री की दौड़ हारने के बाद पार्टी प्रदेश प्रधान पद से इस्तीफा देने वाले नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर सोशल मीडिये के जरिए सवालों के तीर छोड़े हैं।वो मुखातिब तो लोगों से हैं मगर उनका इशारा मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की तरफ ही है। 

सिद्धू ने एक के बाद एक तीन ट्वीट किए। मगर इन सवालों पर उनके फैंस ने सिद्धू को जमकर लताड़ा है। किसी ने सिद्धू के सियासत छोड़ने की सलाह दी तो किसी ने कपिल शर्मा के शो में लौटने की नसीहत । सिद्धू को मिले जवावों में से कुछ जवाब नवजोत सिंह सिद्धू के साथ आप लोगों को भी पढ़ने चाहिए।  

पंजाब के वास्तविक मुद्दों की याद दिलाई


सिद्धू ने लिखा कि - पंजाब को अपने वास्तविक मुद्दों पर लौटना चाहिए जो हर पंजाबी और हमारी आने वाली पीढ़ियों से संबंधित हैं। हम वित्तीय एमरजेंसी का मुकाबला कैसे करेंगे जो हमें घूर रही है ? मैं असली मुद्दों पर डटा रहूंगा और उन्हें पीछे नहीं हटने दूंगा।दूसरे ट्वीट में सिद्धू ने लिखा कि - अपूरणीय क्षति और डैमेज कंट्रोल के अंतिम अवसर के बीच विकल्प स्पष्ट है। राज्य के संसाधनों को निजी जेब में जाने के बजाय राज्य के संसाधनों को कौन वापस लाएगा ?  हमारे महान राज्य को समृद्धि के लिए पुनरुत्थान की पहल का नेतृत्व कौन करेगा ?

तीसरे और अंतिम ट्वीट में सिद्धू ने  लिखा कि - धुंध को साफ होने दें, पंजाब के पुनरुद्धार के रोडमैप पर वास्तविकता सूरज की तरह चमके। स्वार्थों की रक्षा करने वालों को दूर करें और केवल उस रास्ते पर ध्यान केंद्रित करें जिससे जित्तेगा पंजाब, जित्तेगी पंजाबियत और जितेगा हर पंजाबी। 

फैंस ने रिप्लाई में सिद्धू को लताड़ा

इसके बाद रिप्लाई आने शुरू हुए । चार घंटे में 170 रीट्वीट थे 17 कोट ट्वीट्स और 1712 लाइक्स थे। सिद्धू को मिले जवाबों में लगभग 90 फीसदी ने सिद्धू को फटकार ही लगाई। 

  • टव्टीर पर गुरतेज सिंह लिखतें हैं कि- 4.5 साल बस इस तरह लोगों के बस बातों के पकौड़े ही खिलाए हैं आपने। माफ करना आपने किया कुछ नहीं। अब भी सारी लड़ाई कुर्सी की है बस। बस कमरे में बैठकर टविटर पर ट्वीट कर दिया। लोगों में जाओ सिद्धू साहब, बस करो अब, बाकी छोड़ो आप तो ये बताओ की कांग्रेस सरकार ने अमृतसर के लिए क्या किया।
  • twiiter clip of reply to navjot sidhu
  • बिसमाया आईएनसी लिखते हैं कि आप को कौन रोक रहा है सही मुद्दे उठाने से।
  • अजीत सिंह ने लिखा कि- सर सरकार में हो आप, ये आप को करना है बताना नहीं है।
  • रेवोंट ने लिखा कि – सर हमें शब्द नहीं एक्शन दिखाओ। ये एकमात्र विकल्प है कांग्रेस के पास विश्वास वापस जीतने के लिए।
  • पगलेट भाई लिखते हैं कि – एक ही इश्यू है पाजी।कैसे भी करके आपको सीएम की कुर्सी मिल जाए। आपने सारे पापड़ बेल लिए नतीजा जीरो है। 
  • मोंटू भाटिया लिखते हैं कि – पंजाब की फिक्र न करो हलका देखो।
  • किरन खुले ने लिखा कि – सिद्धू आप कांग्रेस छोड़ दो। वैसे भी आपको खुद के सिवाय कोई अच्छा नहीं लगता। चन्नी बेस्ट हैं। रंधावा बेस्ट हैं।
  • जगमीत धामू ने लिखा कि – आप केवल अपने निजी लाभ और सीएम की कुर्सी के लिए लड़ रहे हैं। इसके अलावा कुछ और नहीं है। 
  • निशांत पंत ने लिखा कि- जनता ने आपको पांच साल दिए थे शैरी। आप राहुल और प्रियंका के साथ मीटिंग करते रहे और सेल्फी शेयर करते रहे। अब अचानक आपको अहसाल हुआ है कि लोगों ने तो हमें सरकार चलाने के लिए चुना था। दूसरी पारी के लिए बहुत देर हो चुकी है।
  • इडली वड़ा के ट्विटर हैंडलर ने लिखा कि इसके लिए आपको कांग्रेस ने प्रधान बनाया था। पर पिछले एक महीने से आप केवल चिट्ठी लिख रहे हो। 

चन्नी से मुकाबले में बने रहने की दौड़

मुख्यमंत्री पद की दौड़ में बने रहने के लिए सिद्धू ने पहले पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी भी लिखी थी। उधर, अचानक कुर्सी मिलने के बाद मुख्यमंत्री बनने वाले चन्नी नायक फिल्म के एक दिन के सीएम अनिल कपूर की तरह एक के बाद एक मास्टर स्ट्रोक खेल रहे हैं। 

चाहे वो बिजली-पानी के बिल माफ करने का मसला हो या सचिवालय में सरपंचों के एंट्री पास का मुद्दा हो। चन्नी फैसले लेने और फिर उनके प्रचार प्रसार में कोई कसर नहीं छोड़ रहे। चन्नी की सीएम बनने से सिद्धू के हाथ से रेत निकल रही है और वह कुछ नहीं कर पा रहे। सीएम न बनाने का मलाल वह जनता के बीच अक्सर दिखाते हैं। चाहे वो शब्दों से हो या बॉडी लैंग्वेज से।

Related Links