लुधियाना में हुई तोड़फोड़ निकली सोची समझी साजिश, पहले से ही की गई थी पैनिंग, पढ़े

 देश के अलग अलग शहरों में युवाओं द्वारा

 देश के अलग अलग शहरों में युवाओं द्वारा 'अग्निपथ' स्कीम का विरोध हो रहा है।



WhatsApp ग्रुप बना कर लोगो को इकठा किया गया

वेब खबरिस्तान,लुधियाना -  देश के अलग अलग शहरों में युवाओं द्वारा 'अग्निपथ' स्कीम का विरोध हो रहा है। पंजाब में पहले संगरूर उस के बाद लुधियाना और जालंधर में भी काफी जायदा विरोध किया गया। अब जानकारी मिली है की लुधियाना में बीते दिन रेलवे स्टेशन में की गई तोड़फोड़ सोची-समझी प्लानिंग का हिस्सा थी। कुछ लोगों ने इस उपद्रव की योजना बनाई और फिर अलग-अलग व्हाट्सअप ग्रुप्स में मैसेज कर लुधियाना में भीड़ जमा की गई। इसके बाद इस भीड़ को तोड़फोड़ के निर्देश दिए गए। जिन व्हाट्सअप ग्रुप्स में यह पूरी प्लानिंग हुई, उनमें कुछ इंटरनेशनल नंबर भी शामिल है। 

पुलिस ने देखी व्हाट्सएप्प चैट  


 लुधियाना पुलिस की शुरुआती जांच में सामने आई हैं। लुधियाना पुलिस ने शनिवार को हुई तोड़फोड़ में शामिल युवकों के कुछ साथियों को गिरफ्तार किया है। लुधियाना जीआरपी पुलिस ने भी रेलवे स्टेशन पर लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर 6 युवकों को पकड़ा। इन 6 पर IPC की धारा 148 149, 353,186, 427 के तहत मामला दर्ज किया है। पकड़े गए आरोपियों में से 3 युवक लुधियाना, 2 मोगा और 1 रोपड़ का है। शनिवार को पंजाब के अलग-अलग जिलों से यह युवक भारत नगर चौक के पास एकत्रित हुए। इनकी पहचान हरमेश सिंह, कुलजिंदर सिंह, हरमनप्रीत सिंह, कुलजीत सिंह, मनप्रीत सिंह, सुखप्रीत सिंह के रूप में हुई है। लुधियाना के पुलिस कमिश्रनर कौस्तुभ शर्मा ने खुद इन युवकों के मोबाइल फोन में बने व्हाट्सअप ग्रुप्स में हुई चैट की स्टडी की। 

इंटरनेशनल नंबर भी मिले 

लुधियाना के पुलिस कमिश्रनर कौस्तुभ शर्मा ने कहा कि जिन युवकों को पुलिस ने पकड़ा है उनके मोबाइल फोन जांच के लिए लिए गए। उन्होंने खुद 3 घंटे तक इन युवकों के मोबाइल फोन में उन व्हाट्सअप ग्रुप्स की स्टडी की, जिनमें इन युवकों को लुधियाना में एकत्र होने के लिए कहा गया। CP के मुताबिक इन WhatsApp ग्रुप में कुछ इंटरनेशनल नंबर भी है जिनका आर्मी भर्ती से कोई लेना देना नहीं है। इन नंबरों को विशेष रूप से खंगाला जा रहा है। ग्रुप की एक-एक हरकत पर नजर रखी जा रही है। विदेश में बैठे शरारती लोग युवाओं को भड़काने का काम कर सकते है इसलिए हर एंगल से जांच चल रही है। CP शर्मा ने बताया कि कुछ नंबर ऐसे है जो अब पुलिस के रडार पर है। 

WhatsApp गु्प्स में ही बनी तोड़फोड़ की योजना 

पुलिस ने इस मामले में जिन युवकों को पकड़ा है, पुलिस कमिश्नर ने खुद उनके मोबाइल फोन की पिछले कई घंटों की चैट को देखा तो साफ हो गया कि यह हमला अचानक हुई घटना नहीं थी बल्कि इसके पीछे पूरी योजना थी। हमलावरों को बाकायदा उकसा कर अलग-अलग शहरों से लुधियाना में जमा किया गया। इसके बाद भीड़ को रेलवे स्टेशन और लुधियाना शहर की घंटाघर रोड़ पर तोड़फोड़ के निर्देश दिए गए।

Related Tags


ludhiana demolition in ludhiana agnipath virodh in ludhiana agnipath virodh in punjab

Related Links