मुख्यमंत्री चन्नी ने आतंकी संगठन एसएफजे के लीडर के भाई को जेनको का बनाया चेयरमैन, विवाद

बलविंदर सिंह पन्नू ने कहा कि अवतार सिंह पन्नू मेरा भाई है, मैं इस बात से नहीं मुकरता।

बलविंदर सिंह पन्नू ने कहा कि अवतार सिंह पन्नू मेरा भाई है, मैं इस बात से नहीं मुकरता।



पंजाब में मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी की अध्यक्षता वाली कांग्रेस सरकार नए सियासी विवाद में फंस गई है।

वेब ख़बरिस्तान,चंडीगढ़। पंजाब में मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी की अध्यक्षता वाली कांग्रेस सरकार नए सियासी विवाद में फंस गई है। दरअसल कुछ दिनों पहले सरकार ने बलविंदर सिंह पन्नू (कोटला बामा) को पंजाब जेनको का चेयरमैन नियुक्त किया। मगर वो प्रतिबंधित खालिस्तानी संगठन सिख फॉर जस्टिस के वर्ल्ड वाइड सेक्रेटरी जनरल अवतार सिंह पन्नू के भाई हैं। इनकी सिख फॉर जस्टिस में नंबर टू की पोजिशन है।

सुखबीर बादल ने माँगा स्पष्टीकरण

अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल ने चन्नी सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है। इस कारण सरकार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। मगर बलविंदर पन्नू ने कहा है कि उनका अपने भाई से कोई लेना-देना नहीं है।


इस से पहले कांग्रेस विधायक फतेहजंग बाजवा ने सबसे पहले बलविंदर की नियुक्ति पर मोर्चा खोला था। उन्होंने कहा था कि बलविंदर सिंह कोटलाबामा मंत्री तृप्त राजिंदर बाजवा का सबसे नजदीकी व्यक्ति हैं, जिन्हें कुछ दिन पहले पंजाब जेनको का चेयरमैन बनाया है। उनके भाई अवतार पन्नू सिख फॉर जस्टिस के वर्ल्ड वाइड सेक्रेटरी जनरल हैं।

सरकार क्या साबित करना चाहती है

फ़तेहगंज बाजवा ने कहा कि इस खालिस्तानी ऑर्गेनाइजेशन पर बैन लगा हुआ है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी कनाडा में जाकर उन पर कार्रवाई कर रही है। उनके भाई को पंजाब जेनको का चेयरमैन बनाकर सरकार क्या साबित करना चाहती है। उन्होंने इसकी एनआए से जांच तक की मांग की।

कांग्रेस नेता अश्विनी शेखड़ी ने भी इस मामले की एनआईए से जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि मंत्री तृप्त राजिंदर बाजवा पर गंभीर आरोप लगे हैं। एसएफजे को भारत सरकार ने बैन किया है। अगर मंत्री के उनसे संबंध हैं, तो इसकी जांच होनी चाहिए।

कांग्रेस पंजाब में करना क्या चाहती है

सुखबीर बादल ने कहा कि सिद्धू पाकिस्तान जाकर आर्मी चीफ को गले लगाते हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को बड़ा भाई कहते हैं। आखिर कांग्रेस पंजाब में करना क्या चाहती है।

हालाँकि इस बारे में बलविंदर सिंह पन्नू ने कहा कि अवतार सिंह पन्नू मेरा भाई है, मैं इस बात से नहीं मुकरता। अवतार पन्नू 1981 में अमेरिका गया था। उसके बाद 2007 में भारत आया। उसके बाद न कभी भारत आया और न ही मेरा उससे कोई लिंक है। मेरी उससे कभी फोन पर भी बात नहीं हुई। एक मां के 2 बच्चे होते हैं। एक चोर निकल आता है तो दूसरा वकील, हमारा भी यही हिसाब है। मैं कट्‌टर कांग्रेसी हूं। मेरे खिलाफ सिर्फ बकवास की जा रही है। मंत्री तृप्त राजिंदर बाजवा का भी एसएफजे से कोई लिंक नहीं है।

Related Links