फिरोजपुर में 666 हथियारों के लाइसेंस किए जाएगें रद्द



गौरतलब है कि आईजी सुखचैन सिंह गिल ने हाल ही में स्पष्ट किया है कि हथियार ले जाने की अनुमति आत्मरक्षा के लिए है.

ख़बरिस्तान नेटवर्क, चंडीगढ़: पंजाब में हथियारों के लाइसेंस के दुरुपयोग के खिलाफ पुलिस द्वारा चलाए गए अभियान के तहत फिरोजपुर में 666 हथियारों के लाइसेंस रद्द करने की सिफारिश की गई है. इनमें वे भी शामिल हैं जिनके खिलाफ या तो प्राथमिकी दर्ज हो चुकी है या जिनके हथियार मलखाने में जमा करा दिये गये हैं.


एसएसपी कंवरदीप कौर ने बताया कि जिले में कुल 21,430 शस्त्र लाइसेंसधारी हैं और पुलिस द्वारा अब तक 7,258 लाइसेंसों की जांच की जा चुकी है और 666 लाइसेंसों को विभिन्न कारणों से रद्द करने की सिफारिश की गई है. सोशल मीडिया पर हथियारों के प्रदर्शन को लेकर अब तक पांच प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है. इसके अलावा एक अन्य के खिलाफ अभद्र भाषा का मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि हमने इन सभी मामलों में शस्त्र लाइसेंस रद्द करने की सिफारिश की है.

डीसी अमृत सिंह ने बताया कि जीरा अनुमंडल के ग्राम मंसूरवाला में एथनॉल प्लांट के सामने बैठे 21 लोगों के शस्त्र लाइसेंस निलंबित किए गए हैं, तीन मामलों में लाइसेंस निरस्त किए गए हैं. उन्होंने बताया कि 326 ऐसे मामले चिन्हित किये गये हैं जहां हथियार मलखाना में जमा किये गये हैं या लंबे समय से हथियार डीलर के पास पड़े हुए हैं और इन मामलों में लोगों को नोटिस जारी किये गये हैं.

गौरतलब है कि आईजी सुखचैन सिंह गिल ने हाल ही में स्पष्ट किया है कि हथियार ले जाने की अनुमति आत्मरक्षा के लिए है. गिल ने कहा कि पूरे पंजाब में करीब 3.45 लाख बंदूकों के लाइसेंस जारी किए गए हैं, लेकिन नए लाइसेंस जरूरत के आधार पर ही जारी किए जाएंगे। गिल ने कहा कि पुलिस तीन महीने में आर्म्स एक्ट के तहत हथियारों की वेरिफिकेशन का काम पूरा कर लेगी. आईजी ने कहा कि कई ऐसे लाइसेंस रद्द किए गए हैं, जहां लाइसेंसधारी आर्म्स एक्ट 2019 में संशोधन के बाद एक साल के भीतर तीसरा या चौथा हथियार लाइसेंस जमा करने में विफल रहा.

Related Tags


Related Links