फर्जी रजिस्ट्रीयों पर डेढ़ करोड़ के लोन, बैंक आफ इंडिया का मैनेजर गिरफ्तार



पूर्व कांग्रेस सरपंच समेत चार पर दो साल पहले दर्ज हुई थी एफआईआर। अमृतसर में  डेढ़ करोड़ रुपए की ठगी के दो साल पुराने केस में पुलिस ने बैंक आफ इंडिया के मैनेजर सिमरनजीत सिंह को गिरफ्तार किया है।

वेब खबरिस्तान। अमृतसर में  डेढ़ करोड़ रुपए की ठगी के दो साल पुराने केस में पुलिस ने बैंक आफ इंडिया के मैनेजर सिमरनजीत सिंह को गिरफ्तार किया है। मैनेजपर पर 2019 से पहले पद के दुरुपयोग का आरोप है। आरोप है मैनेजर ने कमीशन के लिए फेक डाक्यूमेंट पर लोन एप्रूव करवाए थे। कांग्रेस के पूर्व  सरपंच जगदीप सिंह सहित अब तक चार लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। बैंक मैनेजर को फानेंशियल क्राइम विंग के एसीपी सुशील कुमार आरोपी को कोर्ट लेकर पहुंचे। कोर्ट ने आरोपित को पांच दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा है। 

दस्तावेजों की जांच जारी - एसीपी सुशील 


एसीपी सुशील कुमार ने बताया कि वे आरोपी से मिले दस्तावेज की जांच कर रहे हैं। बैंक प्रबंधन से वे डाक्यूमेंट मांगे गए हैं. जिनपर बैंक मैनेजर ने दस्तखत किए थे। आरोपी जगदीप  सिंह, गुरमीत सिंह दविंदर सिंह को रिमांड जेल भेज दिया गया था। मैनेजर से पूछताछ के बाद तीनों आरोपियों से दोबारा पूछताछ होगी।सीनियर एडवोकेट रवि महाजन ने बताया कि बैंक ने मामले से जुड़े कई डाक्यूमेंट उन्हें सौंपे हैं। स्टडी के बाद इन्हें पुलिस को दिया जाएगा। एफआईआर में और धाराएं जुड़नी हैं। आने वाले दिनों में केस में और एफआईआर दर्ज हो सकती हैं।

फर्जी रजिस्ट्रीयां देकर दिया धोखा

कैंटोनमेंट थाने के तहत रंजीत पुरा निवासी रंजीत सिंह बीओआई में बतौर मैनेजर काम करता है। आरोपी ने कमिशन के लिए कांग्रेस के पूर्व  सरपंच जगदीप और उसके साथियों के साथ मिलकर अपने बैंक से 1.50 करोड़ रुपये के फर्जी लोन पास करवा दिए थे। जब बैंक को पैसे वापस नहीं आए तो जांच हुई। जिसके बाद गड़बड़ी का खुलासा हुआ। आरोपियों फर्जी रजिस्ट्रीयां देकर लोन पास करवाए।

Related Links