पति से धोखाधड़ी के केस में एनआरआई दुल्हन कोर्ट तलब



ऑस्ट्रेलिया में पीआर मिलने के बाद पति को छोड़ने पर धोखाधड़ी का मामला

लुधियाना आस्ट्रेलिया में पीआर मिलने के बाद पति को छोड़ने व धोखाधड़ी के केस में अदालत ने एनआरआई दुल्हन को पेश होने के लिए कहा है। सुखदीप कौर शर्मा निवासी पर्थ पश्चिमी, ऑस्ट्रेलिया पर पीआर मिलने के बाद पति को छोड़कर धोखाधड़ी करने का आरोप है। आरोप है की सुखदीप ने ऑस्ट्रेलिया में नागरिकता रखने वाले एक एनआरआई वैभव शर्मा मूल निवासी न्यू किचलू नगर , लुधियाना से साज़िश के तहत शादी की व फिर उसे बेवजह छोड़ दिया ।

उसका मकसद ऑस्ट्रेलिया में बसना था। जब उसे पीआर मिल गई तो उसने पति को परेशान, अपमानित और ब्लैकमेल किया और आपराधिक मामलों में फ़साने की धमकी दी। बाद में उसने बाल शोषण व घरेलू हिंसा के झूठे आरोप लगाते हुए ऑस्ट्रेलिया की कोर्ट में केस भी कर दिया । आरोप निराधार पाये गये और अदालत ने मुकदमा खारिज भी कर दिया। आरोप है कि उसके भाई ने भी ऑस्ट्रेलिया में स्थायी निवास प्राप्त करने के बाद पत्नी को तलाक दे दिया।

29 मार्च से पहले पेश होना होगा


अदालत ने गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय, भारत के माध्यम से सुखदीप कौर शर्मा को नोटिस तामील करवाने के लिये एनआरआई पुलिस स्टेशन, लुधियाना की पहलकदमी के बाद नोटिस जारी किया है। कोर्ट ने 29 मार्च 2021 मार्च को या उससे पहले अदालत या जांच अधिकारी के सामने पेश होने का निर्देश दिया है।

आरोप है कि भीम सेन शर्मा (ससुर) और उनकी पत्नी जो कि कोटकपुरा, ज़िला फ़रीदकोट के निवासी, अपनी बेटी / आरोपी को विदेश में बसाना चाहते थे । इस इरादे से, उन्होंने अखबार में एक विज्ञापन दिया । वह उनके जाल में फंस गया और अप्रैल 2012 में उसके साथ शादी कर ली। 2013 में पत्नी को शादी के आधार पर वीजा मिल गया ।

पीआर मिलते ही बर्ताव बदला

शिकायतकर्ता ने कहा कि 2017 तक सब कुछ ठीक था। पीआर मिलते ही उसका बर्ताव बदल गया। सास-ससुर के अत्यधिक हस्तक्षेप से संबंध खराब होने लगे। 27 नवंबर, 2018 को वह बिना किसी को बताए दो बच्चों के साथ घर से चली गई। ये सब उसके माता-पिता और भाई के साथ पूर्व नियोजित था जो ऑस्ट्रेलिया में भी रह रहा था। शिकायतकर्ता के मुताबिक़ जब लड़की के माता-पिता के नोटिस में पूरी घटना को लाया गया, तो उन्होंने इस मुद्दे को हल करने के लिए 20 लाख रुपये की मांग की।

Related Links