टक्कर के बाद कार में आग, पांच दोस्त जिंदा जले

accident

accident



संगरूर में सोमवार देर रात टैंकर का डीजल टैंक टूटा तो लगी आग

संगरूर संगरूर-सुनाम रोड पर डीजल टैंकर से टक्कर के बाद कार में आग लग गई, जिससे पांच दोस्त जिंदा जल गए। मोगा के नानक नगरी के रहने वाले कुलतार सिंह, ग्रीन फील्ड कालोनी के कैप्टन सुखमिंदर सिंह, गांव जनेर के चमकौर सिंह, गांव रामूवाला के सुरिंदरपाल सिंह और गांव धलेके के डा. बलविंदर सिंह दिड़बा कस्बे में दोस्त लखविंदर सिंह खंगूड़ा की शादी की पहली सालगिरह की पार्टी से लौट रहे थे। फायर ब्रिगेड के पहुंचने तक कार पूरी तरह जल चुकी थी। कार अंदर से लाक थी। कार की बाडी काटकर शव बाहर निकाले गए।

संगरूर के सुनाम रोड पर फ्लाईओवर के नीचे हादसा हुआ। रास्ता भटकने के कारण वे फ्लाईओवर पर जाने की बजाय सर्विस लेन पर चले गए और वहां आगे जा रहे टैंकर से उनकी कार टकरा गई। टैंकर में भरा डीजल सड़क और कार पर गिर गया और अचानक आग लग गई। आग इतनी भयानक थी कि किसी को बचाने का मौका भी नहीं मिला। टैंकर हरियाणा के फतेहाबाद के राम निवास का है। ड्राइवर मौके से फरार हो गया।

जश्न के बाद मिली मौत


दिड़बा के लखविंदर सिंह और मोगा से आए पांचों दोस्त रेनाटस नोवा नामक कंपनी के लिए नेटवर्किंग मार्केटिंग करते थे। हादसे से एक घंटा पहले वे पार्टी में खूब नाच रहे थे।

परिवार शोक में डूबे

गांव जनेर के चमकौर सिंह के परिवार में पत्नी दो बेटियां और एक बेटा है। बेटियां नर्सिंग का कोर्स कर रही हैं। पहले वह पावरकाम में क्लर्क के पद पर तैनात थे। आजकल वह बेटियों के हाथ पीले करने की बात कर रहे थे। कैप्टन सुखमिंदर सिंह सेना से सेवानिवृत्त होने के बाद आम आदमी पार्टी के साथ जुड़े थे। वह पार्टी के जिला प्रधान भी रह चुके थे। उनकी बड़ी बेटी कैनेडा में रहती है, जबकि 20 वर्षीय बेटा साथ ही रहता था।

सुरिंदर पाल सिंह की तीन बेटियां और दो बेटे हैं। पिछले साल ही एक बेटी की शादी की थी। उनकी कमाई से ही घर का गुजारा चलता था। कुलतार सिंह ने पहली पत्नी से तलाक के बाद दूसरी शादी की थी। पत्नी तीन महीने की गर्भवती है। दुनिया में आने से पहले की बच्चे के सिर से पिता का साया छिन गया। गांव धल्लेके के बलविंदर सिंह के परिवार की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। वे ही परिवार के पालन पोषण का एक मात्र सहारा थे। उनके परिवार में पत्नी अमनदीप कौर, दो बेटे और एक बेटी हैं।

Related Links