अवार्ड लौटने दिल्ली पहुंचे पंजाब के खिलाड़ी

Punjab sports player give back award

Punjab sports player give back award



राष्ट्रपित से समय मांगेगा खिलाड़ियों का दल

फतेहगढ़ साहिब-नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा पास तीन खेती कानूनों के खिलाफ दिल्ली में मोर्चा संभाले बैठे किसानों के समर्थन में अपने अवार्ड वापस करने जालंधर से दिल्ली रवाना हुए अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी सिख कौम के महान शहीदों बाबा जोरावर सिंह, बाबा फतेह सिंह व माता गुजरी जी के आगे नतमस्तक हुए।

दिल्ली जाने से पहले इन खिलाड़ियों ने शनिवार की दोपहर को गुरुद्वारा श्री फतेहगढ़ साहिब माथा टेका। यहां किसानों की जीत की अरदास करते हुए शहीदों से आशीर्वाद लिया और अपने मोर्चे की तरफ आगे बढ़े। इस दौरान शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) और शिरोमणि अकाली दल (बादल) के नेताओं ने इन खिलाड़ियों का सम्मान भी किया।

ओलंपियन भी शामिल दल में


दिल्ली जा रहे खिलाड़ियों के प्रतिनिधिमंडल में शामिल  पद्मश्री करतार सिंह पहलवान,  गोल्डन गर्ल राजबीर कौर, ओलंपियन अजीत सिंह ने बताया कि  वे द्रोणाचार्य अवॉर्ड, अर्जुन अवॉर्ड, मेजर ध्यानचंद अवॉर्ड समेत दो दर्जन अवार्ड लेकर दिल्ली जा रहे हैं। कुछ खिलाड़ी उनके साथ नहीं जा रहे।

लेकिन इन खिलाड़ियों ने उन्हें अपने अवार्ड सौंप दिए हैं। वे इन सभी अवार्डों को राष्ट्रपति को लौटाएंगे। गुरुद्वारा साहिब के हैड ग्रंथी भाई हरपाल सिंह,  शिअद (ब) के जिलाध्यक्ष जगदीप सिंह चीमा, क्षेत्रीय प्रभारी दीदार सिंह भट्टी, एसजीपीसी सदस्य अवतार सिंह रिया, मैनेजर कर्म सिंह ने दिल्ली जा रहे खिलाड़ियों का सम्मान करते हुए कहा कि केंद्र के खिलाफ इस जंग को सभी मिलकर जीतेंगे।

राष्ट्रपित से मांगेंगे समय

बीते दिन पद्मश्री पहलवान करतार सिंह ने कहा था 30 नवंबर को फैसला किया था कि सभी द्रोणाचार्य, अर्जुना अवार्डी आदि अवार्ड केंद्र सरकार को लौटा देंगे। उन्होंने कहा कि किसानों के पेट पर लात मारी जा रही है। उनकी रोजी-रोटी छीनी जा रही है। हम भी किसान परिवार से हैं, इसलिए केंद्र सरकार के सारे अवार्ड हम लौटा रहे हैं। वे राष्ट्रपति से समय लेकर 6 या 7 दिसंबर को अवार्ड वापस लौटा देंगे। अगर वो समय नहीं देते तो वहीं पर धरना देंगे और किसान आंदोलन का समर्थन करेंगे। पूरे पंजाब के खिलाड़ी उनके साथ शामिल होकर केंद्र से मिले अवार्ड लौटाएंगे।

Related Links