पंजाब

संगरूर लोकसभा उपचुनाव में आम आदमी पार्टी की हार के बाद राघव चड्ढा ने किया tweet

संगरूर लोकसभा उपचुनाव में 'आम आदमी पार्टी' की हार के बाद राघव चड्ढा ने किया Tweet

संगरूर लोकसभा उपचुनाव ने आम आदमी पार्टी को हार का सामना करना पड़ा।

sangrur election result  कांग्रेसियों को अपनी हार का उतना दुख नहीं जितनी आम आदमी पार्टी की हार पर खुशीदेखें पोस्ट 

Sangrur Election Result : कांग्रेसियों को अपनी हार का उतना दुख नहीं, जितनी आम आदमी पार्टी की हार पर खुशी,देखें पोस्ट 

कांग्रेस के सीनियर नेताओं को अपनी हार के गम से अधिक आम आदमी पार्टी की हार की खुशी मिल रही


कांग्रेस नेता आनन्द माधव ने जालंधर में की press conference,   कहा - हम अग्निवीर योजना को तत्काल प्रभाव से वापस लेने की मांग करते हैं

कांग्रेस नेता आनन्द माधव ने जालंधर में की press conference,   कहा - हम अग्निवीर योजना को तत्काल प्रभाव से वापस लेने की मांग करते हैं

वेब खबरिस्तान। कांग्रेस नेता आनंद माधव की ओर से जालंधर में प्रेस कांफ्रेंस की गयी। उन्होंने कहा कि सेना में भर्ती के लिये अग्निपथ योजना की घोषणा होते ही युवा सड़कों पर विरोध के लिये निकल आये। आज पूरे देश में आग लगी हुई है, कौन है इसका ज़िम्मेदार? प्रधानमंत्री जी क्यों नहीं युवाओं की बात सुनते हैं? उनके इसी अहंकार के कारण 700 किसानों को जान गवानी पड़ी। राष्ट्र की सुरक्षा एवं युवाओं के भविष्य को ध्यान में रखते हुए, प्रधानमंत्री जी अपनी गलती मानें और इस युवा तथा राष्ट्र विरोधी योजना को तत्काल प्रभाव से वापस लें। कई पूर्व जनरल और परमवीर चक्र विजेता बाना सिंह और योगेंद्र सिंह जैसे ने इसे एक खतरनाक योजना बताया है। अवकाश प्राप्त मेजर जेनरल शिओन सिंह ने इसे एक मूर्खतापूर्ण कदम बताया है। पैसा बचाना तो अच्छा है पर सेना की क़ीमत पर नहीं। देश की सुरक्षा के कीमत पर तो कतई नहीं।आपने “वन रैंक-वन पेंशन” की बात की थी, लेकिन आपने “नो रैंक-नो पेंशन” स्कीम लाया।उन्होंने कहा कि बिना सोचे समझे आप तुगलकी फरमान जारी करते है चाहे वह नोटबन्दी हो या, जीएसटी या फिर किसानों के लिए तीन काले कानून और अब ये अग्निपथ। आपकी नीति रही है, पहले करो फिर भरो। आज देश में सेना और सरकारी संस्थानों को मिलकर लगभग 62 लाख पद रिक्त है, इनमे 26 लाख तो केंद्र सरकार के विभिन्न विभागों की रिक्तियां है। जिन्हें आप 8 साल में नहीं भर पाए और ये बकवास योजना लाकर युवाओं को मूर्ख बनाने का प्रयास कर रहे हैं। हर साल सेना में 50 से 80 हजार सैनिकों की भर्ती सीधी और पक्की भर्ती होती थी, अग्निपथ योजना के कारण ये इसे खत्म कर दिया गया है। इसके बदले 45-50 हजार ठेके पर नौकरी आप देंगें। अगर ये योजना 15 साल चली तो हमारे सैनिकों की संख्यां आधे से भी कम हो जाएगी। ये 14 लाख के बदले मात्र 6 लाख रह जाएंगे। अब बताइए की नौकरी बढ़ी या घटी ?उन्होंने कहा कि चार साल के बाद ये अग्निवीर क्या करेंगे, इसकी कहीं कोई गारंटी नहीं है, मात्र आश्वासन है। चार साल के बाद निजी संस्थानों या फिर अन्य सुरक्षा एजेंसी में नौकरी मात्र एक झाँसा है। सच तो यह है की 15-20 साल की नौकरी करने वाले पूर्व सैनिकों को भी नौकरी नहीं दे पाई है। कुल 5,69,404 पूर्व सैनिकों ने नौकरी के लिए अपना रेजिस्ट्रैशन कराया था, इनमें मात्र 14,155 लोगों को ही नौकरी मिल पाई। यानि मात्र 2.5%।इस योजना से समाज के सैन्यीकरण का एक बड़ा ख़तरा बना रहेगा। जिससे आंतरिक सुरक्षा को हमेशा ख़तरा रहेगा। हथियार चलानें में प्रशिक्षित बेरोज़गार समाज के लिये एक चुनौती बन सकते हैं और समाज में हिंसा को बढ़ावा मिलेगा। दूसरी ओर सेना में ट्रेनिंग “शूट टू किल”, की होती है। ये ना तो पुलिस या अन्य सुरक्षा एजेंसियों को दी जाती है, अगर आप इन्हें अन्य एजेंसी में भर्ती करते हैं तो क्या यही ट्रेनिंग काम आएगा? ये रहे मौजूद जालंधर ज़िला कांग्रेस (शहर) के अध्यक्ष बलराज ठाकुर, ज़िला अध्यक्ष (ग्रामीण) दर्शन सिंह टहली, पूर्व विधायक सुशील रिंकू, पूर्व विधायक राजेन्द्र बेरी, कांग्रेस नेता रजिंदर लाडा, राजकुमार राजू, अजमेर ठाकुर, अमरीक सिंह के पी, वीरेन्द्र सैनी, गुरकृपाल भट्टी,गुरप्रीत सिंह, अश्वनी शर्मा आदि उपस्थित रहे।

https://webkhabristan.com/punjab/congress-leader-anand-madhav-held-a-press-conference-in-jalandhar-10202
पंजाब में सरकार बनाने के बाद पहले ही राजनीतिक टेस्ट में फेल हुई आम आदमी पार्टी, पढ़िए हार के कारण 

पंजाब में सरकार बनाने के बाद पहले ही राजनीतिक टेस्ट में फेल हुई आम आदमी पार्टी, पढ़िए हार के कारण 

वेब खबरिस्तान। करीब 100 दिन पहले आम आदमी पार्टी ने विधानसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी और पंजाब में सरकार बनाई थी। आम आदमी पार्टी बदलाव के नारे के साथ पंजाब की सत्ता पर काबिज हुई थी, मगर संगरूर उपचुनाव के रूप में मिली पहली राजनीतिक चुनौती में ही उनकी हार हुई। सिद्धू हत्याकांड से पार्टी की इमेज को लगा धक्का आम आदमी पार्टी सरकार के छोटे से कार्यकाल में पंजाब में कानून व्यवस्था पूरी तरह से फेल हुई। पार्टी की इमेज को सबसे बड़ा धक्का गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या से लगा। मान सरकार ने वीआईपी सुरक्षा में कटौती करने का फैसला करते हुए 28 मई को एक लिस्ट जारी की। इसमें गायक मूसेवाला का भी नाम था। अगले ही दिन 29 मई को ताबड़तोड़ फायरिंग कर मूसेवाला को मौत के घाट उतार दिया गया। देश विदेश में बड़ी फैन फालोइंग रखने वाले मूसेवाला की हत्या के बाद आप सरकार विरोधियों के निशाने पर आ गई। विरोधी पार्टियों ने इस हत्याकांड को मान सरकार की अदूरदर्शिता का नतीजा बताया। पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार के दौरान प्रसिद्ध गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या, तीन कबड्डी खिलाड़ियों की हत्या, पंजाब पुलिस के इंटेलिजेंस मुख्यालय पर हमले जैसी घटनाओं ने प्रदेश की कानून-व्यवस्था पर सवाल उठाने का विपक्ष को मौका दिया था। इस दौरान गंभीर बिजली संकट भी एक बड़ा मुद्दा बन गया था।

https://webkhabristan.com/punjab/after-forming-government-in-punjab--aam-aadmi-party-fail-in-political-test-10200
सिद्धू मूसेवाला के गाने SYL पर सरकार का बड़ा ऐक्शन, Youtube पर गाना not available, पढ़ें कारण

सिद्धू मूसेवाला के गाने SYL पर सरकार का बड़ा ऐक्शन, Youtube पर गाना not available, पढ़ें कारण

वेब खबरिस्तान। मशहूर पंजाबी सिंगर और रैपर सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moose Wala) की मौत के बाद उनका एक गाना आया था जिसका टाइटल- 'एसवआईएल' (SYL) था। यूट्यूब ने बड़ा ऐक्शन लेते हुए अब इस गाने को अपने प्लेटफार्म से हटा दिया है।भारत में यूट्यूब पर सिद्धू मूसेवाला का SYL गाना सर्च करने पर this content is not available on this country domain लिखा आ रहा है। बता दें कि सिद्धू मूसेवाला का SYL गायक की हत्या के 26 दिन बाद ट्रिब्यूट के तौर पर रिलीज किया गया था। रिलीज होने के बाद SYL गाना यूट्यूब पर ट्रेंड कर रहा था। दो घंटे में 22 लाख लोगों ने देखा था गाना सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद रिलीज हुआ गाना छह मिनट में ही हिट हो गया। दो घंटे में इस गाने को 22 लाख लोगों ने देखा। रिलीज के कुछ घंटों के अंदर ही इस गाने को हिट घोषित कर दिया गया। इस गाने को अब तक 1 करोड़ 81 लाख से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं। खास बात ये भी है कि सिद्धू मूसेवाला के इस आखिरी गाने को उनके ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर रिलीज किया गया है। SYL के मुद्दे को हवा सिद्धू मूसेवाला अपने इस आखिरी गाने के जरिये पंजाब और हरियाणा के बीच चल रहे एसवाईएल के मुद्दे को हवा दे गए। इस गाने में सिद्धू ने कृषि कानूनों को लेकर शुरू हुए किसान आंदोलन और लाल किले का भी जिक्र किया है। 4 मिनट 9 सेकेंड के इस गाने के बोल पंजाब के पानी और उससे जुड़े दूसरे मुद्दों के ईर्द-गिर्द घूमते हैं। गाने के लिरिक्स को देखें तो इसमें पंजाब-हरियाणा के बीच बहुचर्चित सतलज-यमुना लिंक (SYL) नहर को लेकर हुए विवाद का जिक्र किया गया है। किसान आंदोलन-दिल्ली हिंसा का भी जिक्र गाने में सिद्धू ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन के दौरान दिल्ली कूच और लाल किले पर सिख समाज के प्रतीक निशान साहिब को लहराने की सराहना की है।

https://webkhabristan.com/punjab/governments-action-on-sidhu-moosewalas-song-syl-song-not-available-on-youtube-10198
सिमरनजीत सिंह मान ने जेल से लड़ा था लोकसभा चुनाव, आज तक नहीं टूटा रिकॉर्ड

सिमरनजीत सिंह मान ने जेल से लड़ा था लोकसभा चुनाव, आज तक नहीं टूटा रिकॉर्ड

खबरिस्तान नेटवर्क। संगरूर लोकसभा उपचुनाव में आम आदमी पार्टी को टक्कर देने वाले अकाली दल (अमृतसर) के अध्यक्ष सिमरनजीत सिंह मान का सियासी सफर काफी उतार चढ़ाव वाला रहा है। 1989 में मान ने तरनतारन से लोकसभा चुनाव लड़कर इतिहास बनाया था। हालांकि 25 साल बाद इसी हलके से चुनाव के दौरान उनकी जमानत जब्त हुई थी। मान आइपीएस अधिकारी थे। 1984 में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद दिल्ली में सिख विरोधी दंगों के विरोध में उन्होंने नौकरी से त्याग पत्र दे दिया था । भारत-नेपाल सीमा पर मान को तीन अन्य साथियों समेत गिरफ्तार किया गया था। मान पर प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या की साजिश में शामिल होने से लेकर देशद्रोह के कई केस दर्ज हुआ। पांच साल भागलपुर की जेल में नजरबंद रहे। जेल से लोकसभा चुनाव लड़ा और जीते मान ने 1989 के लोकसभा चुनाव में तरनतारन हलके से नामांकन भरा और 5,27,707 वोट लेकर रिकार्ड जीत दर्ज की। उनके खिलाफ कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में अजीत सिंह मान (जिला अमृतसर कांग्रेस अध्यक्ष) ने चुनाव लड़ा था। चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी अजीत सिंह मान की जमानत जब्त हो गई थी। तरनतारन से लोकसभा सदस्य बनने पर उनको रिहा कर दिया गया था। संसद में श्री साहिब ले जाने पर अड़े थे 1989 में तरनतारन हलके से रिकार्ड तोड़ जीत के बाद मान देश की संसद में नहीं पहुंच सके। उन्होंने संसद में श्री साहिब (कृपान) हाथ में लेकर जाने की बात की थी। फिर 2014 के लोकसभा चुनाव में सिमरनजीत सिंह मान ने हलका खडूर साहिब (पहले तरनतारन) से अकाली दल अमृतसर की ओर से नामांकन भरा। इस चुनाव में कुल 17 प्रत्याशी मैदान में थे। सिमरनजीत सिंह मान को इस बार 13,990 वोट ही नसीब हुए। वह चुनाव नतीजे में चौथे नंबर पर तो आए, साथ ही मान की जमानत जब्त हो गई। 1999 में मान ने लोकसभा हलका संगरूर से दूसरी बार सांसद का चुनाव जीता। एक रिकार्ड जो अभी तक नहीं टूटा 1989 लोकसभा चुनाव में 93.92 फीसदी वोट हासिल करने वाले ने मान का रिकार्ड 30 साल बाद भी कोई नहीं तोड़ सका है। मान ने तरनतारन से जीत हासिल की थी। फिरोजपुर में मान द्वारा समर्थित आजाद कैंडिडेट ने भी कामयाबी हासिल की थी। इसके बाद मान और उनकी पार्टी हाशिए पर चली गई।

https://webkhabristan.com/punjab/simranjit-singh-mann-fought-elections-from-jail-records-not-broken-till-date-10194
23 साल बाद एक बार फिर मान ने जीती संगरूर लोकसभा सीट,5822 मतों से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार सरपंच गुरमेल सिंह को हराया

23 साल बाद एक बार फिर मान ने जीती संगरूर लोकसभा सीट,5822 मतों से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार सरपंच गुरमेल सिंह को हराया

खबरिस्तान नेटवर्क। संगरूर लोकसभा सीट पर उपचुनाव में अकाली दल अमृतसर के सिमरनजीत सिंह मान जीत गए हैं। उन्हें 2,52,898 वोट मिले। उन्होंने 5822 मतों से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार सरपंच गुरमेल सिंह को हराया। गुरमेल को 2,46,828 मत मिले। चुनाव आयोग की ओर से मान की जीत का औपचारिक ऐलान कर दिया गया है। सिमरनजीत मान की जीत से संगरूर में पंजाब के सीएम भगवंत मान का किला ढह गया। वह लगातार 2 बार यहां से लोकसभा के सांसद चुने गए थे। इस हार से लोकसभा में आम आदमी पार्टी का अब कोई सांसद नहीं है। तीसरे नंबर पर कांग्रेस के दलवीर गोल्डी हैं, जिन्हें 79,526 वोट मिले हैं। वहीं चौथे नंबर पर भाजपा के केवल ढिल्लो रहे। जिन्हें 66,171 वोट मिले। पांचवें नंबर पर अकाली दल की कमलदीप कौर राजोआणा रहीं। उन्हें 44,323 वोट मिले। कांग्रेस, भाजपा और अकाली दल के उम्मीदवार की जमानत नहीं बच सकी। बीजेपी ने किया आप का नुकसान अभी तक हुई गिनती में शहरी इलाकों में बीजेपी को मिल रही वोट का सीधा-सीधा नुकसान आम आदमी पार्टी को हुआ। ग्रामीण इलाकों में मान आगे रहे और शहरी में गुरमेल सिंह। बीजेपी को जो वोट मिले वो शहरी इलाके के ही थे। बीजेपी ने आप को काफी नुकसान पहुंचाया है। सिमरनजीत सिंह मान ने सोशल मीडिया पर लोगों का धन्यवाद किया। <blockquote class="twitter-tweet"><p lang="en" dir="ltr">I am grateful to our voters of Sangrur for having elected me as your representative in parliament. I will work hard to ameliorate the sufferings of our farmers, farm-labour, traders and everyone in my constituency.</p>&mdash; Simranjit Singh Mann (@SimranjitSADA) <a href="https://twitter.com/SimranjitSADA/status/1540970323759071232?ref_src=twsrc%5Etfw">June 26, 2022</a></blockquote> <script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script> वित्त मंत्री, शिक्षा मंत्री और मुख्यमंत्री की सीट संगरूर लोकसभा सीट के तहत वित्त मंत्री हरपाल सिंह चीमा की दिड़बा, शिक्षा मंत्री मीत हेयर की बरनाला और सीएम भगवंत मान की धूरी विधानसभा सीट आती है। इसके अलावा अमन अरोड़ा की सुनाम और नरिंदर कौर भारज की संगरूर सीट भी इसी लोकसभा हलके के अधीन है। इस तरह गुरमेल और मान के बीच कड़ा मुकाबला रहा।

https://webkhabristan.com/punjab/after-23-years-mann-once-again-won-the-sangrur-lok-sabha-seat-10193
पंजाब के IAS संजय पोपली के बेटे की हत्या थी या आत्महत्या, आज पोस्टमार्टम में होगा खुलासा 

पंजाब के IAS संजय पोपली के बेटे की हत्या थी या आत्महत्या, आज पोस्टमार्टम में होगा खुलासा 

वेब खबरिस्तान, चंडीगढ़। पंजाब के सीनियर आईएएस अफसर संजय पोपली के बेटे कार्तिक पोपली (26) का आज पोस्टमार्टम होगा। बता दें कि उसके परिवार की ओर से पंजाब विजिलेंस पर हत्या करने के आरोप लगा है। जबकि दूसरी ओर पंजाब पुलिस ने कहा कि कार्तिक ने आत्महत्या की है। उसने सिर पर गोली मारी थी। परिवार में कार्तिक की मां श्री पोपली चिल्ला-चिल्ला कर कह रही हैं कि उसके बेटे की हत्या की गई है। घर की पहली मंजिल पर यह घटना घटी थी। आज सुबह कार्तिक का पोस्टमार्टम सेक्टर 16 अस्पताल में किया जाएगा, इसके बाद उसकी मौत के कारणों का पता चल पाएगा। जज बनना चाहता था कार्तिक लॉ स्टूडेंट कार्तिक ज्यूडीशियरी की तैयारी कर रहा था और जज बनना चाहता था। उसने ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी, सोनीपत से 2019 में लॉ की पढ़ाई पूरी की थी। 25 june यानि शनिवार को पंजाब विजिलेंस दोपहर 1.45 के लगभग संजय पोपली के सेक्टर 11 स्थित 520 नंबर घर में छानबीन के लिए आई थी। इस दौरान संजय पोपली को भी लाया गया था। इसके कुछ ही मिनटों बाद कार्तिक ने खुद को गोली मार ली। विजिलेंस का दावा है कि घर से भारी मात्रा में सोना-चांदी बरामद होने से कार्तिक घबरा गया था। ऐसे में उसने घबराहट और तैश में आकर यह कदम उठाया।मौके पर एसएसपी, चंडीगढ़ कुलदीप सिंह चहल भी पहुंचे थे। मामले की गहनता से उसी वक्त जांच पड़ताल की गई। आज पोस्टमार्टम के बाद कार्तिक का सेक्टर 25 श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया जाएगा।

https://webkhabristan.com/punjab/punjabs-ias-sanjay-poplis-son-was-murdered-or-suicide-10191
संगरूर सीट पर कौन मारेगा बाजी : तेजी से पिछड़ रही आम आदमी पार्टी, सिमरनजीत मान इतने वोटों से आगे निकले

संगरूर सीट पर कौन मारेगा बाजी : तेजी से पिछड़ रही आम आदमी पार्टी, सिमरनजीत मान इतने वोटों से आगे निकले

वेब खबरिस्तान, चंडीगढ़। पंजाब की संगरूर लोकसभा सीट पर उपचुनाव की मतगणना जारी है। अब तक की काउंटिंग के मुताबिक़ शिअद अमृतसर के सिमरनजीत मान पहले नंबर पर हैं। वह आम आदमी पार्टी के गुरमेल सिंह 4779 वोटों से पीछे चल रहे हैं। तीसरे नंबर पर कांग्रेस के दलवीर गोल्डी , चौथे नंबर पर भाजपा के केवल ढिल्लो और पांचवें नंबर पर अकाली दल की कमलदीप कौर राजोआणा है। अभी तक 3 लाख वोटों की गिनती हो चुकी है। अभी 3 लाख वोटों की गिनती होनी बाकी है। 23 june को हुआ था मतदान संगरूर में 23 जून को मतदान हुआ था। संगरूर सीट पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान का गढ़ रही है। वह लगातार 2 बार रिकॉर्ड अंतर से यहां से चुनाव जीते। संगरूर चुनाव परिणाम को लेकर पंजाब की 100 दिन पुरानी आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार की साख भी दांव पर लगी है। संगरूर सीट पर 31 साल बाद सबसे कम 45.50% मतदान हुआ है। इससे पहले 1991 में 10.9% वोटिंग हुई थी। इसको लेकर नेताओं की चिंता बढ़ी हुई है। खासकर, जब भगवंत मान लगातार 2 बार यहां से चुनाव जीते तो 2014 में 77.21% और 2019 में 72.40% मतदान हुआ था। इस बार कम मतदान से सब चिंता में हैं कि कम वोटिंग का नुकसान किसे उठाना पड़ेगा।

https://webkhabristan.com/punjab/who-will-win-the-sangrur-seat-aam-aadmi-party-which-is-rapidly-lagging-behind-10190
संगरूर उपचुनाव में सिमरनजीत सिंह मान दे रहे आप को कड़ी टक्कर

संगरूर उपचुनाव में सिमरनजीत सिंह मान दे रहे आप को कड़ी टक्कर

खबरिस्तान नेटवर्क। संगरूर लोकसभा सीट पर उपचुनाव की गिनती चल रही है। तीसरे राउंड के रुझान के बाद सिमरनजीत सिंह मान आगे चल रहे हैं। चुनाव कमिशन के आंकड़ों के मुताबिक सिमरनजीत सिंह को सुबह करीब दस बजे तक की गिनती में 74833 वोट मिले। वहीं आम आदमी पार्टी के गुरमेल सिंह को 74851 वोट मिले। कांग्रेस के दलबीर सिंह गोल्डी तीसरे नंबर पर चल रहे हैं। उन्हें 23744 वोट मिले। बीजेपी के केवल सिंह ढिल्लों चौथे नंबर पर चल रहे हैं। उन्हें 17679 वोट मिले। अकाली दल की कमलदीप कौर राजोआणा को 13191 वोट मिले हैं। बीजेपी कर रही आप का नुकसान अभी तक हुई गिनती में शहरी इलाकों में बीजेपी को मिल रही वोट का सीधा-सीधा नुकसान आम आदमी पार्टी को होता नजर आ रहा है। ग्रामीण इलाकों में मान आगे चल रहे हैं। शहरी इलाकों में गुरमेल सिंह आगे चल रहे हैं। चौथा राऊंडतीसरा राउंडदूसरा राऊंडपहला राऊंड

https://webkhabristan.com/punjab/sangrur-by-election-simranjit-singh-mann-is-giving-tough-competition-to-aap--10188