World Contraception Day 2022, एक लिमिट तक गर्भनिरोधक दवाओं का इस्तेमाल करना होता है सुरक्षित



कॉन्ट्रासेप्टिव इम्प्लांट्स’ की एक छोटी सी डिवाइस नेपाल जैसे छोटे से देश को बड़ा बना रही है।

खबरिस्तान नेटवर्क: दुनिया की आबादी दिनोदिन बढ़ती ही जा रही है। ऐसे में इसे रोकने के लिए तमाम सरकारें और कई वैश्विक संस्थाएं लगातार लोगों को जागरूक कर ने में जुटी हुई हैं इसी उद्देश्य से हर साल 26 सितंबर को ‘विश्व गर्भनिरोधक दिवस’ (World Contraception Day) मनाया जाता है कई रिपोर्ट्स में यह बात सामने आ चुकी है कि बड़ी संख्या में लोग कॉन्ट्रासेप्टिव का इस्तेमाल नहीं करते अब तक आपने कई बार गर्भनिरोधक दवाओं यानी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स (Contraceptive Pills) के बारे में सुना होगा क्या कॉन्ट्रासेप्टिव दवाओं का इस्तेमाल करना सुरक्षित होता है? वर्ल्ड कॉन्ट्रासेप्शन डे पर गर्भनिरोधक दवाओं से जुड़े सभी सवालों के जवाब आपको बताते हैं

कॉन्ट्रासेप्शन होता क्या है

बता दें एक्सपर्ट्स के मुताबिक फैमिली प्लानिंग या प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए जिन तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है, उसे कॉन्ट्रासेप्शन कहा जाता हैं इस बारे में बड़ी संख्या में लोगों को सही जानकारी नहीं होती। वही ये एक बेहद जरूरी मुद्दा है, जिसके बारे में जागरूकता फैलाने की जरूरत है गायनोकोलॉजिस्ट से विचार-विमर्श के बाद फैमिली प्लानिंग के लिए कॉन्ट्रासेप्शन एक अच्छा और सुरक्षित विकल्प हो माना जाता है उम्र और बॉडी कंडीशन के आधार पर लोगों को इस बारे में सलाह दी जाती है

कई तरह के कॉन्ट्रासेप्शन होते हैं


कॉन्ट्रासेप्शन के 4 प्रमुख टाइप होते हैं पहला बैरियर कॉन्ट्रासेप्टिव मेथड होता है, जिसमें प्रेग्नेंसी से बचने के लिए मेल या फीमेल कॉन्डोम का यूज किया जाता है दूसरा मेथड मेडिसिनल कॉन्ट्रासेप्शन होता है, जिसे हार्मोनल कॉन्ट्रासेप्टिव भी कहा जाता है इस मेथड में कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स का इस्तेमाल किया जाता है तीसरा मेथड इंट्रायूटरिन कॉन्ट्रासेप्टिव डिवाइस होता है, जिसमें यूटेरस के अंदर कुछ प्रोडक्ट इस्तेमाल किए जाते हैं चौथा मेथड सर्जिकल कॉन्ट्रासेप्शन होता है, जिसमें सर्जरी के जरिए नसबंदी कर दी जाती है

कितनी सुरक्षित होती हैं गर्भनिरोधक दवा

बता दें कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स यानी गर्भनिरोधक दवाओं का इस्तेमाल डॉक्टर से कंसल्ट किए बिना नहीं करना चाहिए कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स दो तरह की होती हैं एक नॉर्मल और दूसरी इमरजेंसी बड़ी संख्या में लोग इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बिना ही कर लेते हैं, जो खतरनाक हो सकता है इमरजेंसी पिल्स को लाइफ में एक या दो बार से ज्यादा नहीं लेना चाहिए वरना उसके गंभीर साइड इफेक्ट हो सकते हैं अगर डॉक्टर की सलाह पर कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स ली जाती हैं तो ऐसा करना सुरक्षित एक तरह से माना जाता है एक्सपर्ट सभी टेस्ट करने के बाद ही पिल्स को रिकमेंड करते हैं

नेपाल बना है रोल मॉडल

बता दें दुनिया का 28वां सबसे गरीब देश नेपाल इन दिनों अनचाही प्रेग्नेंसी रोकने के मामले में रोल मॉडल की भूमिका निभा रहा है। ‘कॉन्ट्रासेप्टिव इम्प्लांट्स’ की एक छोटी सी डिवाइस इस छोटे से देश को बड़ा बना रही है। आईये आपको बताते है, कैसे? दरअसल फैमिली प्लानिंग का सबसे पुराना और सफल मॉडल लागू करने वाले भारत में भी अनचाही प्रेग्नेंसी रोकने की करीब 100 फीसदी कामयाब यह तकनीक नहीं अपनाई गई है। यहां से बड़ी संख्या में महिलाएं सीमापार करके नेपाल जा रही हैं।

कपल्स के लिए अनचाही प्रेग्नेंसी हजारों साल से समस्या बनी हुई है। तभी इससे बचने के लिए तरह-तरह के जतन किए जाते रहे हैं। साढ़े 3 हजार साल पहले इजिप्ट में शहद, पेड़ों की छाल और पत्तियों से बने लेप का इस्तेमाल स्पर्म को यूट्रस में जाने से रोकने के लिए किया जाता था।

कॉन्स्ट्रासेप्टिव इम्प्लांट्स क्या हैं

इस मेडिकल डिवाइस का इस्तेमाल प्रेग्नेंसी रोकने के लिए किया जाता है। इसे महिला की बांह में स्किन के अंदर डाल दिया जाता है। फ्लेक्सिबल प्लास्टिक से बने कॉन्स्ट्रासेप्टिव इम्प्लांट्स का साइज माचिस की तीली जितना छोटा होता है। मेडिकल भाषा में इसे फ्लेक्सिबल प्लास्टिक रॉड कहा जाता हैं। इस रॉड से ‘प्रोजेस्टोजन’ (Progestogen) नाम के एक सिंथेटिक हॉर्मोन का रिसाव होता है, जो प्रेग्नेंसी रोकने में मदद करता है। एक बार यह छोटी सी रॉड लगवा ली, तो 3 साल तक के लिए छुट्‌टी। इस बीच, अगर आप प्रेग्नेंट होना चाहें, तो आराम से इसे निकलवाइए और कुछ ही दिनों में अपनी फर्टिलिटी वापस पाइए।

Related Tags


World Contraception Day Contraception 'contraceptive implants health day pregnancy

Related Links


webkhabristan