श्राद्ध 2021 - कोरोना काल में जिनका अंतिम संस्कार विधि मुताबिक नहीं हो पाया,  जानिये उनकी शांति के लिए क्या करें

श्राद्ध में तर्पण, पिंडदान और ब्राह्मण भोजन ये तीन चीजें खास तौर से होती हैं।

श्राद्ध में तर्पण, पिंडदान और ब्राह्मण भोजन ये तीन चीजें खास तौर से होती हैं।



इस बार कोरोना महामारी के कारण कई लोगों का अंतिम संस्कार विधि-विधान से नहीं हो पाया। इन हालातों में लोगों की आत्मा की शांति के लिए ग्रंथों में कुछ उपाय बताए गए हैं

वेब ख़बरिस्तान। 20 सितंबर से 6 अक्टूबर तक पितृ पक्ष रहेंगे। इन दिनों में पितरों की तृप्ति के लिए श्राद्ध किए जाएंगे। इस बार कोरोना महामारी के कारण कई लोगों का अंतिम संस्कार विधि-विधान से नहीं हो पाया। इन हालातों में लोगों की आत्मा की शांति के लिए ग्रंथों में कुछ उपाय बताए गए हैं, जिन्हें घर पर ही किया जा सकता है।


श्राद्ध में तर्पण, पिंडदान और ब्राह्मण भोजन होती हैं जरूरी चीजें

श्राद्ध में तर्पण, पिंडदान और ब्राह्मण भोजन ये तीन चीजें खास तौर से होती हैं। तर्पण के लिए खास तौर से साफ बर्तन, जौ, तिल, चावल, कुशा घास, दूध और पानी की जरूरत होती है। पिंडदान के लिए तर्पण में बताई गई चीजों के साथ ही चावल और उड़द का आटा भी जरूरी होता है। ब्राह्मण भोजन के लिए बिना लहसुन-प्याज और कम तेल, मिर्च-मसाले का सात्विक भोजन बनाना चाहिए। इसमें हविष्य अन्न यानी चावल जरूर होने चाहिए, इसलिए श्राद्ध पक्ष में खीर बनाई जाती है।

Related Links