अगर आप भी टैटू बनवा रहे हैं तो हो जाएँ सावधान, कहीं आप भी न हो जाएँ HIV संक्रमित



टैटू बनवाने के बाद होता है हेपेटाइटिस बी और वायरल इंफेक्शन है खतरा

खबरिस्तान नेटवर्क: इनदिनों युवाओं में टैटू बनवाने को लेकर होड़ लगी हुई है। जिसे देखो टैटू बनवाने के बारे में ही बात करता है। कई लोग तो सिर से लेकर पैरों तक में खुद को टैटू से भर लेते हैं। ऐसे में उन लूग्न को कई तरह की बीमारियां होने का खतरा बना रहता है। आपको बता दें हाल ही में टैटू बनवाने के कारण वाराणसी में लगभग 2-3 लोग HIV पॉजिटिव पाए गए हैं। वहीँ पं. दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल की एंटी रेट्रोवायरल ट्रीटमेंट सेंटर की डॉक्टर प्रीति अग्रवाल के मुताबिक जो लोग HIV पॉजिटिव आए हैं, उन लोगों को सबसे पहले बुखार आया फिर शरीर कमजोर होता चला गया। बहुत इलाज कराने के बाद जब HIV की जांच कराई गई तब रिपोर्ट पॉजिटिव आई। लेकिन यहां ये सवाल उठता है कि आखिर टैटू बनवाने से HIV पॉजिटिव कोई कैसे हो सकता है। तो चलिए आज यही जानते हैं।

एक ही सुई का इस्तेमाल होना

बता दें टैटू बनवाने के लिए जिस सुई का इस्तेमाल किया गया है, वही HIV संक्रमित थी। और इसी एक सुई का इस्तेमाल कई लोगों के शरीर पर टैटू बनाने के लिए किया गया था। ये टैटू लोगों ने एक ही फेरी वाली से बनवाया था। टैटू बनाने वाली निडिल यानी सुई काफी महंगी आती है। इसलिए फेरी वाले ने पैसे बचाने के चक्कर में एक ही सुई का कई बार इस्तेमाल कर दिया। जिसके चलते सभी लोग HIV पॉजिटिव हो गये।

टैटू बनवाने में दर्द का सामना करना होता है


बता दें कि शरीर में मौजूद नर्व की वजह से टैटू बनवाते वक्त आपको दर्द महसूस होता है। जिस वक्त आपके शरीर में सुई से टैटू बनाया जाता है, उस वक्त नर्व दिमाग को दर्द होने का मैसेज भेजती हैं। इतना ही नहीं शरीर के जिन हिस्सों में कम चर्बी होती है और नर्व या हड्डी ज्यादा होती हैं वहां टैटू बनवाने में सबसे ज्यादा दर्द महसूस होता है। पैर, टखना, पिंडली, कंधे और पसलियों के पास का हिस्सा बहुत सेंसटिव होता है।

सावधानी से टैटू नहीं बनवाया गया, तो ये 3 बीमारियां होने का खतरा

यूं तो अगर आप किसी अच्छे टैटू आर्टिस्ट के याहं से टैटू बनवा रहे हैं, तो किसी तरह की कोई ज्यादा परेशानी नही होती है। लेकिन फिर भी हेपेटाइटिस बी, वायरल इंफेक्शन और HIV होने का खतरा रहता ही है।

टैटू बनवाने का क्या फायदा है

अमेरिकन जर्नल ऑफ ह्यूमन बायोलॉजी में पब्लिश एक स्टडी के अनुसार, टैटू बनवाने से इम्यून सिस्टम अच्छा होता है। साथ ही टैटू बनवाने के प्रोसेस में कोर्टिसोल (यह एक स्ट्रेस हार्मोन है) कम होता है। जिसकी वजह से किसी भी इंसान का स्ट्रेस भी कम होता है।

टैटू बनवाने के बाद किन बातों का ख्याल रखना जरूरी

आप जब पहली बार अपना टैटू बनवाकर आते हैं, तो दोस्तों या फैमिली मेंबर्स इसे लेकर काफी एक्साइटेड रहते हैं। ऐसे में लोग टैटू छूकर देखना चाहते हैं, लेकिन ये स्किन के लिए अच्छी बात नहीं है, क्योंकि बगैर सैनिटाइज किए लोग गंदे हाथों से अगर इसे टच करेंगे तो, उसमें बैक्टीरिया पनपने की संभावना है। साथ ही जब टैटू नया बना हो, तब आपको इसे धूप नहीं लगने देना चाहिए, क्योंकि सूरज की किरणों में मौजूद यूवी रेज काफी हार्मफुल होती हैं, जो टैटू के कलर को बिगाड़ सकती हैं। बाहर जाने पर आप SPF 50 की कोई भी सनस्क्रीन अप्लाई कर सकते हैं।

Related Tags


tattoo side effects hiv viral infection tattoo benfits

Related Links


webkhabristan