2019 लोकसभा चुनाव अभियान में फेसबुक पर बढ़े नफरत फैलाने वाले पोस्ट



फेक न्यूज फैलाने वालों में बीजेपी आरएसएस के अलावा असम के सीएम हेमंत बिसवा का भी नाम

वेब ख़बरिस्तान। नाम बदलकर मेटा बना फेसबुक फिर विवादों में है। फेसबुक पर कई देशों में फेक न्यूज, भड़काऊ पोस्ट, ह्यूमन ट्रैफिकिंग जैसे आरोप लगते रहे हैं। अब फेसबुक ने पिछले दो साल की मल्टीपल इंटरनल रिपोर्ट्स में कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। जिनके मुताबिक 2019 लोकसभा चुनाव अभियान में 'एंटी-मायनॉरिटी' और 'एंटी-मुस्लिम' बयानबाजी पर रेड फ्लैग में वृद्धि देखी गई थी।

जुलाई 2020 की रिपोर्ट कहा गया है कि पिछले 18 महीने में इस तरह के पोस्ट में तेजी से वृद्धि हुई। इतना ही नहीं, पश्चिम बंगाल सहित आगामी विधानसभा चुनाव में इस तरह की पोस्ट के जरिए लोगों की भावनाओं को आहत करने की आशंका थी।

भारत में हिंसा का जोखिम ज्यादा

फेसबुक पर किसी नफरत फैलाने वाली पोस्ट को रेड फ्लैग मिलता है। इसका मतलब है कि खतरे की आशंका है। यूं कहें कि रेड फ्लैग के जरिए लोगों को उससे बचने का संकेत दिया जाता है। फेसबुक की लगभग ऐसी सभी रिपोर्टों ने भारत को जोखिम वाले देशों (ARC) श्रेणी में रखा है। इसके मुताबिक भारत में सोशल मीडिया पोस्ट से सामाजिक हिंसा का जोखिम अन्य देशों से अधिक है।


RSS और बीजेपी ने 'लव जिहाद' को हैशटैग किया

2021 की एक अन्य फेसबुक इंटरनल रिपोर्ट के मुताबिक, 'इंडिया हार्मफुल नेटवर्क्स' टाइटल से तृणमूल कांग्रेस से संबद्ध होने का दावा करने वाले ग्रुप ने ऐसा कंटेंट पोस्ट किया जो भड़काऊ था। इसी इंटरनल रिपोर्ट के मुताबिक, RSS और भाजपा से जुड़े ग्रुप्स के पोस्ट में 'लव जिहाद' को हैशटैग किया गया। पब्लिकली दिखाई देने वाले इस्लामोफोबिक कंटेंट के साथ बड़ी मात्रा में हैशटैग को जोड़ा गया। जब इस बारे में बीजेपी, RSS और TMC को सवाल भेजे गए, तो उस पर कोई जवाब नहीं मिला।

मायनॉरिटी को निशाना बनाया

यूनाइटेड स्टेट्स सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (SEC) को बताए डॉक्युमेंट्स में ऐसी कई बातों का जिक्र है। ये डॉक्युमेंट्स फेसबुक की पूर्व कर्मचारी और व्हिसलब्लोअर फ्रांसेस हौगेन के कानूनी सलाहकार द्वारा संशोधित रूप में अमेरिकी कांग्रेस को प्रदान किए हैं। जिसके मुताबिक हेट स्पीच और भड़काने वाली ज्यादातर पोस्ट की थीम हिंसा के खतरों को बढ़ाने के आसपास केंद्रित थी। इसमें मायनॉरिटी ग्रुप को कोविड से जुड़ी गलत सूचनाओं में शामिल किया गया। वहीं, सांप्रदायिक हिंसा में मुसलमानों के शामिल होने की झूठी रिपोर्ट शामिल की गई। अमेरिकी कांग्रेस द्वारा प्राप्त संशोधित संस्करणों की समीक्षा द इंडियन एक्सप्रेस सहित दुनिया के कई समाचार संगठनों द्वारा की गई है।

असम के CM ने अफवाह फैलाई

असम में विधानसभा चुनाव से पहले 2021 में इंटरनल रिपोर्ट में दावा किया कि मौजूदा असम के सीएम हेमंत बिस्वा सरमा को भी फेसबुक पर भड़काऊ व अफवाह फैलाने के लिए चिह्नित (रेड फ्लैग) किया गया था। इसमें कहा गया था कि मुस्लिम असम के लोगों पर जैविक हमले की तैयारी कर रहे हैं। जिससे उनमें लिवर, किडनी और हृदय से संबंधित रोग पैदा हों।द इंडियन एक्सप्रेस ने इस बारे में हेमंत बिस्वा सरमा से पूछने पर कि नफरत से भरी पोस्ट में 'प्रशंसकों और समर्थकों' की लिप्तता के बारे में जानते हैं? इस पर सरमा ने कहा, 'मुझे इस बारे कोई जानकारी नहीं थी।' वहीं उनसे जब सवाल किया गया कि क्या फेसबुक ने उनके पेज पर पोस्ट कंटेंट को चिह्नित करने के संबंध में संपर्क किया था। सरमा ने कहा, 'मुझसे किसी प्रकार का कोई संपर्क नहीं किया गया था।'

भड़काऊ कंटेंट आगे बढ़ाया

'भारत में सांप्रदायिक संघर्ष' शीर्षक की एक अन्य इंटरनल फेसबुक रिपोर्ट में कहा गया कि अंग्रेजी, बंगाली और हिंदी में भड़काऊ कंटेंट कई बार पोस्ट की गईं। विशेष रूप से दिसंबर 2019 और मार्च 2020 में इन्हें पोस्ट किया गया। ये नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध से मेल खाती हैं। डॉक्युमेंट्स से इस बात का भी पता चलता है कि प्लेटफॉर्म पर ऐसे कंटेंट की मौजूदगी के बावजूद फेसबुक की टीम न्यूजफीड पर इसे आगे बढ़ाने के लिए एल्गोरिदम तैयार कर रही थी।

Related Links