फीचर न्यूज़

कैसा रहेगा आपका पूरा साल 2022 जानें अपना वार्षिक राशिफल

कैसा रहेगा आपका पूरा साल 2022, जानें अपना वार्षिक राशिफल

वेब ख़बरिस्तान। नया साल 2022 खुशियों की सौगत लेकर कई राशियों के जीवन में प्रवेश करने वाला है। ग्रहों के इस बदलाव से इस साल समय-समय पर सभी राशियों के जीवन में खट्टे मीठे अनुभव जुड़ते जाएंगे।

year ender 2021 –  साल अच्छी-बुरी यादों के साथ बीता पढ़िए क्या रही प्रमुख घटनाएं

Year Ender 2021 –  साल अच्छी-बुरी यादों के साथ बीता, पढ़िए क्या रही प्रमुख घटनाएं

वेब ख़बरिस्तान। साल 2021 अच्छी बुरी यादों के साथ बीत चुका है और आने वाले साल 2022 का लोगों को इंतजार है। नए साल से नई उम्मीदें हैं। मगर बीते साल में बहुत सारी ऐसी घटनाएं हुई जो लोगों को याद रहेंगी..


मिस वर्ल्ड, मिस यूनिवर्स खिताब जीतने में भारत का नया रिकॉर्ड, पढ़िए खबर

मिस वर्ल्ड, मिस यूनिवर्स खिताब जीतने में भारत का नया रिकॉर्ड, पढ़िए खबर

हरनाज देश की तीसरी मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन और लारा दत्ता के बाद हरनाज देश की तीसरी मिस यूनिवर्स बन गई हैं। साल 2000 में लारा ने ये खिताब जीता था। अब हरनाज 21 साल बाद देश में क्राउन वापस लाने में सफल रहीं। वेनेजुयेला ने जीते सबसे ज्यादा ब्यूटी पीजेंट क्राउन वेनेजुएला ने सबसे ज्यादा 23 ब्यूटी पीजेंट क्राउन जीते हैं। इसके बाद फीलिपंस और अमेरिका हैं, जिनकी हिस्से 15-15 ब्यूटी पीजेंट हैं। हरनाज संधू द्वारा मिस यूनिवर्स 2021 जीतने के बाद भारत 10 क्राउन के साथ इस सूची में तीसरे स्थान पर है। जबकि प्युटोरीको भी तीसरे स्थान पर है। मिस यूनिवर्स और मिस वर्ल्ड सबसे पुरानी प्रतियोगिता मिस यूनिवर्स और मिस वर्ल्ड दुनिया में दो सबसे पुरानी प्रतियोगिताएं होती हैं। इसका आयोजन संयुक्त राज्य अमेरिका और ब्रिटेन द्वारा किया जाता है। मिस यूनिवर्स और मिस वर्ल्ड का आयोजन क्रमश : 1952 और 1951 से किया जा रहा है। रीता फारिया मिस वर्ल्ड बनने वाली पहली भारतीय मुंबई में जन्मी रीता फारिया मिस वर्ल्ड बनने वाली पहली भारतीय और एशियाई हैं। 1966 में मिस वर्ल्ड बनने के बाद उन्होंने फिल्मों में काम करने से इनकार कर दिया और मेडिकल की लाइन पकड़ ली। रीता डॉक्टर बनने वाली दुनिया की पहली मिस वर्ल्ड भी हैं। साल 1994 में ऐश्वर्या के सर सजा ताज 1994 में ऐश्वर्या राय के सिर मिस वर्ल्ड का ताज सजा। 21 साल की उम्र में मिस वर्ल्ड बनीं ऐश्वर्या राय ने फिल्मों का रुख किया। 1997 में भारत की तीसरी मिस वर्ल्ड बनीं डायना हेडेन। 1999 में लंदन में 99 देशों की सुंदरियों को पीछे छोड़ युक्ता मुखी मिस वर्ल्ड बनीं। भारत ने पहली बार 1959 में भाग लिया था 2000 में मिस वर्ल्ड में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए प्रियंका चोपड़ा ने ताज जीता। 2017 में मानुषी छिल्लर ने मिस वर्ल्ड खिताब जीता। मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में भारत ने पहली बार 1959 में भाग लिया था। फ्लेयूर इजेकियल इसमें शिरकत करने वाली पहली भारतीय थीं।

https://webkhabristan.com/feature-news/indias-new-record-in-winning-miss-world-miss-universe-title-5052
विक्की-कटरीना को कैसे हुआ प्यार? पढ़िए इनकी लव स्टोरी

विक्की-कटरीना को कैसे हुआ प्यार? पढ़िए इनकी लव स्टोरी

करण जौहर ने बना दी जोड़ी ! 'कॉफी विद करण' में करण जौहर ने कटरीना से सवाल पूछा था कि वो आगे किसके साथ काम करना पसंद करेंगी, तब कटरीना ने विक्की का नाम लिया था। ये बात करण ने विक्की को बताई तो वो इसे सुन कर दिल पर हाथ रखकर 'बेहोश' होने लगे। सलमान के सामने विक्की ने किया कटरीना को प्रपोज 2019 में स्टार स्क्रीन अवॉर्ड दौरान सलमान की मौजूदगी में विक्की ने कटरीना को सरेआम शादी का प्रस्ताव दिया था। विक्की ने कहा शादियों का मौसम चल रहा है आप भी एक विक्की कौशल को ढूंढकर उससे शादी क्यों नहीं कर लेतीं। उसके बाद कटरीना से विक्की ने सीधे पूछ लिया कि मुझसे शादी करोगी। अवार्ड शोज और फंक्शन में साथ आये नजर कटरीना और विक्की बी-टाउन की पार्टीज में साथ पहुंचने लगे। कई बार विक्की को कटरीना के घर के बाहर भी स्पॉट किया गया था। साल 2019 के आईफा अवॉर्ड, जी सिने अवॉर्ड फंक्शन में भी दोनों साथ ही पहुंचे थे और साथ बैठे थे। जब विक-कैट ने पहनी एक ही हुडी अगस्त 2020 में कटरीना कैफ ने बारिश एंजॉय करते हुए एक फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की थी। उन्होंने सफेद रंग की ओवरसाइज़ हुडी पहनी थी। कुछ समय बाद ही विक्की ने भी वही हुडी पहने हुए फोटो पोस्ट की थी। इसके बाद दोनों के रिश्ते की खबरें और पक्की होने लगी थीं। कटरीना ने विक्की को लगाया गले कटरीना ने अपनी एक फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट की थी, जिसमें उन्होंने पीले रंग की टी-शर्ट पहने हुए किसी व्यक्ति को गले लगाया हुआ था। कुछ समय बाद विक्की पीले रंग की वहीं टी-शर्ट पहने नजर आए थे। गलती का एहसास होने के बाद कटरीना ने पोस्ट डिलीट कर दी थी। शादी को पूरी तरह सीक्रेट रखा कटरीना और विक्की की शादी के फंक्शन 7 दिसंबर से 9 दिसंबर तक होंगे। इसे पूरी तरह से सीक्रेट रखने के लिए मेहमानों को कोड दिए गए हैं। विक्की और कटरीना के अल्फाबेट्स पर सीक्रेट कोड बनेंगे। मेहमान यही कोड बताकर वेन्यू पर एंट्री ले सकेंगे।

https://webkhabristan.com/feature-news/how-did-vicky-katrina-fall-in-love-read-their-love-story-4981
क्या आपने पढ़ी है वीर दास की two indias कविता, पढ़िए क्या है लिखा

क्या आपने पढ़ी है वीर दास की two indias कविता, पढ़िए क्या है लिखा

भारतीयों के दोहरे चरित्र के बारे बताया वीडियो में वीर ने अमेरिकी लोगों के सामने भारतीयों के कथित दोहरे चरित्र के बारे में जिक्र किया है। इसमें यह भी कहा है कि मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम दिन में औरतों की पूजा करते हैं और रात में गैंगरेप करते हैं। मुंबई में एफआईआर दर्ज उनके इस बयान का सोशल मीडिया पर खूब विरोध हो रहा है। मुंबई में उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। जब विवाद बढ़ा तो वीर ने सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर कर माफी मांगी है। लिखा - इरादा अपमान करने का नहीं था वीर ने लिखा कि उनका इरादा देश का अपमान करने का नहीं, बल्कि यह याद दिलाने का है कि भारत अपने तमाम मुद्दों के बाद भी 'महान' है।बॉम्बे हाई कोर्ट के एडवोकेट आशुतोष जे दुबे ने वीर के खिलाफ शिकायत दर्ज की है। वीर दास की कविता 'टू इंडियाज' मैं उस भारत से आता हूं, जहां AQI 9000 है लेकिन हम फिर भी अपनी छतों पर लेटकर रात में तारे देखते हैं। मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम दिन में औरतों की पूजा करते हैं और रात में गैंगरेप करते हैं। मैं उस भारत से आता हूँ ... मैं उस भारत से आता हूं, जहां आप हमारी हंसी की खिलखिलाहट हमारे घर की दीवारों के पार से भी सुन सकते हैं। और मैं उस भारत से भी आता हूं, जो कॉमेडी क्लब की दीवारें तोड़ देता है, जब उसके अंदर से हंसी की आवाज आती है। जहाँ लोग क्लब के बाहर सोते हैं.. मैं उस भारत से आता हूं, जहां लोग क्लब के बाहर सड़कों पर सोते हैं, लेकिन साल में 20 बार तो सड़क ही क्लब होती है। मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम वैजिटेरियन होने में गर्व महसूस करते हैं, लेकिन उन्हीं किसानों को कुचल देते हैं, जो ये सब्जियां उगाते हैं। भारत जो कभी चुप नहीं होता... मैं उस भारत से आता हूं, जो कभी चुप नहीं होता और मैं उस भारत से आता हूं जो कभी नहीं बोलता। मैं उस भारत से आता हूं, जहां हम जब भी 'ग्रीन' के साथ खेलते हैं, ब्लीड ब्लू का नारा देते हैं, लेकिन ग्रीन से हारने पर हम अचानक से ऑरेंज हो जाते हैं।

https://webkhabristan.com/feature-news/vir-das-gave-anti-india-statement-during-live-show-in-america-fir-registered-4744
Happy children’s Day – पढ़िए पंडित जवाहर लाल नेहरु के जन्मदिन पर क्यों मनाया जाता है बाल दिवस

Happy children’s Day – पढ़िए पंडित जवाहर लाल नेहरु के जन्मदिन पर क्यों मनाया जाता है बाल दिवस

बच्चों को खास महसूस करवाना मकसद बाल दिवस मनाने का पहला कारण यह है कि इस दिन देश के भविष्य अर्थात बच्चों को खास महसूस करवाना। दूसरा कारण बच्चों के प्रिय चाचा नेहरू का जन्मोत्सव भी इसी दिन होता है। बाल दिवस पर होता है खेलकूद का कार्यक्रम बाल दिवस के दिन कई स्कूलों में पढ़ाई नहीं होती है और बच्चों के लिए खेल कूद का आयोजन किया जाता है। कई स्कूलों में बाल दिवस पर बच्चों को पिकनिक पर लेकर जाते हैं। बाल अधिकारों के प्रति जागरूक करते हैं इस दिन बच्चों को गिफ्ट्स दिए जाते हैं। बाल दिवस उत्सव का आयोजन देश के भविष्य के निर्माण में बच्चों के महत्व को बताता है। बाल अधिकारों के प्रति लोगों को जागरुक किया जाता है। बच्चों की शिक्षा के लिए नेहरु जी ने कदम उठाये पंडित नेहरू को बच्चों से बेहद लगाव था। बच्चे प्यार से उन्हें चाचा नेहरू कहकर पुकारते थे। बच्चों की शिक्षा और बेहतर जीवन के लिए नेहरू जी हमेशा आवाज उठाते थे। आज के बच्चे कल का भारत बनायेंगे पंडित नेहरु ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भारतीय प्रबंधकीय संस्थान जैसे प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना की थी। पंडित नेहरू कहा करते थे कि, 'आज के बच्चे कल का भारत बनाएंगे. जिस तरह से हम उन्हें लाएंगे, उससे देश का भविष्य निर्धारित होगा। 1954 को बाल दिवस मनाने की घोषणा की यूएन ने 20 नवंबर 1954 को बाल दिवस मनाने की घोषणा की थी। भारत में पंडित जवाहरलाल नेहरू के निधन से पहले 20 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाता था। 1964 में 14 नवंबर को बाल दिवस मनाने का फैसला 27 मई 1964 को पंडित जवाहर लाल नेहरु के निधन के बाद बच्चों के प्रति उनके प्यार को देखते हुए सर्वसम्मति से यह फैसला हुआ कि अब से हर साल 14 नवंबर को चाचा नेहरू के जन्मदिवस पर बाल दिवस मनाया जाएगा।

https://webkhabristan.com/feature-news/happy-childrens-day---read-why-childrens-day-is-celebrated-on-the-birthday-of--4701
नोटबंदी के पांच साल - काले धन पर क्या हुआ असर, पढ़ें

नोटबंदी के पांच साल - काले धन पर क्या हुआ असर, पढ़ें

नकदी का बोलबाला कायम भारत की अर्थव्यवस्था में नकदी का बोलबाला कायम है। पांच साल बाद डिजिटल भुगतान में वृद्धि के बावजूद चलन में नोटों की संख्या में भी लगातार वृद्धि हो रही है। मगर वृद्धि की रफ्तार धीमी हुई है। क्या कहते हैं आरबीआई के आंकड़े भारतीय रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों अनुसार, मूल्य के हिसाब से 4 नवंबर, 2016 को 17.74 लाख करोड़ रुपये के नोट चलन में थे, जोकि 29 अक्तूबर, 2021 को बढ़कर 29.17 लाख करोड़ रुपये हो गए। 30 अक्तूबर, 2020 तक चलन में नोटों का मूल्य 26.88 लाख करोड़ रुपये था। 29 अक्तूबर, 2021 तक इसमें 2,28,963 करोड़ रुपये की वृद्धि हुई। साल 2020-21 में बैंक नोट के मूल्य 16.8 फीसदी बढे चलन में बैंक नोटों के मूल्य और मात्रा में 2020-21 के दौरान क्रमशः 16.8 प्रतिशत और 7.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई। 2019-20 के दौरान इसमें क्रमशः 14.7 प्रतिशत और 6.6 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई थी। कोविड-19 महामारी के दौरान लोगों ने एहतियात के रूप में नकदी रखना बेहतर समझा। डिजिटल लेन-देन भी बढ़ा नोटबंदी के पांच साल के बाद नकदी का चलन जरूर बढ़ा है लेकिन इस दौरान डिजिटल लेनदेन भी तेजी से बढ़ा है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार डेबिट/क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग और यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) जैसे माध्यमों से डिजिटल भुगतान में भी बड़ी वृद्धि हुई है। 500 रुपये और 2000 रुपये के नोटों की हिस्सेदारी बढ़ी मूल्य के संदर्भ में, 500 रुपये और 2,000 रुपये के बैंक नोटों की हिस्सेदारी 31 मार्च, 2021 तक प्रचलन में बैंकनोटों के कुल मूल्य का 85.7 प्रतिशत थी, जबकि 31 मार्च, 2020 को यह 83.4 प्रतिशत थी।

https://webkhabristan.com/feature-news/five-years-of-demonetisation---what-was-the-effect-on-black-money-read-4594
Happy Birthday King khan –  इनकी कहानी दुनिया भर को करती है इंस्पायर

Happy Birthday King khan –  इनकी कहानी दुनिया भर को करती है इंस्पायर

शुरूआती पांच साल नानी के पास रहे शाहरुख़ खान का जन्म 2 नवंबर 1965 को ताज मोहम्मद खान और लतीफ़ फ़ातिमा के घर हुआ था। मगर शुरूआती पांच साल तक उनकी नानी ने पहले मैंगलोर और फिर बैंगलोर में उनका पालन किया। जन्म के समय नाम था अब्दुल रहमान खान शाहरुख के जन्म होने के समय उनकी दादी ने उनका नाम अब्दुल रहमान रखा था पर जब स्कूल जाने की बात हुई तो उनके पिताजी ने यह नाम बदलकर शाहरुख रख दिया था। चूंकि शाहरुख की बहन का नाम लालारुख है। जब फिल्म के लिए बेचीं टिकट शाहरुख खान को कभी हां कभी ना फिल्म की कहानी इतनी पसंद आई कि उन्होंने डायरेक्टर से फिल्म के लिए ₹25000 फीस ही चार्ज की और कहा कि बाकी के पैसे फिल्म के बजट में लगा दो। उन्होंने इस फिल्म की टिकट भी थिएटर के बाहर खुद बेचीं। हेल्पर स्टाफ का काम किया शाहरुख़ ने पंकज उदास के कॉन्ट्रैक्ट में हेल्पर स्टाफ का काम करते थे। उनकी ड्यूटी लोगों के पास कलेक्ट करना और उनको उनकी सीट पर बैठाने की होती थी। इस काम के लिए शाहरुख को ₹50 दिए जाते थे। इशारों में बात करते थे शाहरुख़ के पिता शाहरुख के पिता मीर ताज मोहम्मद खान की ओरल कैंसर के कारण 1981 में मौत हो गई। उन्होंने बताया था कि इस कारण पिता की बोलने की एबिलिटी चली गई थी, इसलिए वे इशारों इशारों में ही बात करते थे। तब शाहरुख़ 14 साल के थे। स्कूल के बाद रेस्टोरेंट पर करते थे काम पिताजी के मृत्यु के बाद शाहरुख अपने पिताजी का रेस्टोरेंट संभाला करते थे। सुबह स्कूल जाकर, शाम को रेस्टोरेंट में काम करते थे। प्ले में बतौर एक्स्ट्रा सिलेक्ट हुए 1995 में ग्रेजुएशन के दौरान शाहरुख की मुलाकात बैरी जॉन से दिल्ली में हुई। वे उन दिनों थिएटर सीखने के लिए बहुत क्यूरियस थे। बैरी ने उन्हें अपने प्ले के लिए उन्हें as an extra सिलेक्ट किया था। पहला टीवी सीरियल था दिल दरिया काफी लोगों को टीवी सीरियल फौजी शाहरुख का पहला टीवी सीरियल लगता है पर असल में उनका पहला टीवी सीरियल था दिल दरिया जो शाहरुख ने पहले ही शूट करना शुरू कर दिया था। आर्मी में जाने की थी इच्छा शाहरुख़ जब छोटे थे तो उनकी सेना में जाने की तमन्ना थी और उन्होंने आर्मी स्कूल कोलकाता में दाखिला भी लिया मगर उनकी मां इसके लिए राजी नहीं हुई।

https://webkhabristan.com/feature-news/happy-birthday-king-khan---his-story-inspires-all-over-the-world-4517
अमृता प्रीतम की पुण्यतिथि पर विशेष – पंजाबी भाषा की सर्वश्रेष्ठ कवयित्री थी अमृता

अमृता प्रीतम की पुण्यतिथि पर विशेष – पंजाबी भाषा की सर्वश्रेष्ठ कवयित्री थी अमृता

पाकिस्तान के गुजरांवाला में हुआ जन्म अमृता प्रीतम का जन्म पाकिस्तान वाले पंजाब के गुजरांवाला में 31 अगस्त 1919 को हुआ। उन्होंने किशोरावस्था से ही पंजाबी में कविता, कहानी और निबंध लिखना शुरू कर दिया था। 16 साल की उम्र में प्रकाशित हुआ संकलन अमृता उन विरले साहित्यकारों में से एक हैं जिनका संकलन महज 16 साल की उम्र में प्रकाशित हुआ। दिल्ली में बसने के बाद उन्होंने हिंदी में भी लिखना शुरू किया। लगभग 100 किताबें लिखी अमृता ने लगभग सौ किताबें लिखीं। इनमें से कइयों का हिंदी में अनुवाद हुआ। साहित्य में योगदान के लिए उन्हें भारत सरकार ने पद्मश्री और पद्म विभूषण जैसे सम्मान से नवाजा। साहिर से पहली बार दिल्ली में हुई मुलाक़ात अमृता प्रीतम के मन में लाहौर के साहिर लुधियानवी उस समय बस गए जब दोनों की मुलाकात दिल्ली के एक कार्यक्रम में हुई। अमृता जितनी सुंदर कविता और उपन्यास लिखती थीं, वे खुद भी उतनी ही खूबसूरत और दिलकश थीं। बचपन में ही तय हो गई थी शादी अमृता प्रीतम पहले से शादीशुदा थी। बचपन में ही उनकी शादी प्रीतम सिंह से तय हो गई थी। वह अपनी शादीशुदा जिंदगी से खुश नहीं थी। लुधियानवी के आने के बाद उनके जीवन में खुशहाली की बहार आई, मगर वह कभी एक नहीं हो पाए। साहिर लगातार पीते थे सिगरेट अमृता और साहिर जब भी एक दूसरे से मिलते तो बिना कुछ कहे आंखों ही आंखों में अपनी भावना व्यक्त कर देते थे। इस दौरान साहिर लगातार सिगरेट पीते रहते थे। साहिर की बची सिगरेट पीती थी प्रीतम अमृता ने लिखा - साहिर आधी सिगरेट पीने के बाद उसे बुझाकर दूसरी जला लेते। मैं सिगरेट के बचे टुकड़ों को संभालकर रखती थी और आधी जली सिगरेट को फिर से सुलगा लेती। ऐसे पड़ी सिगरेट पीने की लत अमृता ने अपनी आत्मकथा में लिखा था – सिगरेट को जब मैं अपनी उंगलियों में पकड़ती तो लगता था कि साहिर के हाथों को छू रही हूं और ऐसे सिगरेट पीने की लत लग गई. इमरोज अमृता के साथ जीवनभर रहे इमरोज नामक एक चित्रकार अमृता के दोस्त बने और आजीवन उनके साथ रहे। दोनों का साथ लगभग 40 साल का रहा। इमरोज को ये पता था कि अमृता के मन में साहिर हैं, फिर भी उन्होंने अपना प्रेम अभूतपूर्व तरीके से निभाया।

https://webkhabristan.com/feature-news/special-on-the-death-anniversary-of-amrita-pritam---amrita-was-the-best-poetess--4482
टी-20 वर्ल्ड कप के बाद 7 महीने तक बिजी रहेगी टीम इंडिया, देखिए पूरा शेड्यूल

टी-20 वर्ल्ड कप के बाद 7 महीने तक बिजी रहेगी टीम इंडिया, देखिए पूरा शेड्यूल

इन चार टीमों की मेजबानी करेगा भारत भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की ओर से जारी शेड्यूल के मुताबिक टीम इंडिया 2021-22 सीजन में वेस्टइंडीज, न्यूजीलैंड, श्रीलंका और साउथ अफ्रीका की मेजबानी करेगी। भारतीय टीम को उपरोक्त टीमों से 4 टेस्ट, 3 वनडे और 12 टी20 इंटरनैशनल मैच खेलना है। न्यूजीलैंड के खिलाफ ऐसा रहेगा शेड्यूल भारतीय टीम का घरेलू सीजन न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 मैच से 17 नवंबर से जयपुर में शुरू होगा। दूसरा टी20 रांची जबकि तीसरा और आखिरी टी20 मैच 21 नवंबर को कोलकाता में खेला जाएगा। दोनों टीमों बीच 2 टेस्ट मैचों की सीरीज भी खेली जाएगी। वेस्टइंडीज टीम की मेजबानी करेगा भारत टीम इंडिया वेस्टइंडीज से अपने घर में 3 वनडे और 3 टी20 मैचों की सीरीज खेलेगी। पहला वनडे 6 फरवरी 2022 को अहमदाबाद में खेला जाएगा। इसके बाद 3 टी20 मैचों की सीरीज खेली जाएगी। सीरीज का पहला टी20 मैच 15 फरवरी, दूसरा 18 और तीसरा 20 को खेला जाएगा। फरवरी से श्रीलंका के साथ खेलेगी टीम इंडिया श्रीलंका के खिलाफ टीम इंडिया 2 टेस्ट मैच खेलेगी। इसकी शुरुआत 25 फरवरी से होगी। दूसरा टेस्ट मोहाली में 5 मार्च से खेला जाएगा। इसके बाद टी20 मैच खेले जाएंगे जिसकी शुरुआत 13 मार्च से होगी। तीसरा और आखिरी टी20 18 मार्च को लखनउ में होगा। साउथ अफ्रीका के साथ 5 टी-20 मैच होंगे श्रीलंका टीम की मेजबानी करने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम मेहमान टीम साउथ अफ्रीका के साथ खेलेगी। साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारतीय टीम 5 मैचों की टी20 सीरीज खेलेगी। 9 जून से शुरू होकर 19 जून तक यह सीरीज खेली जाएगी।

https://webkhabristan.com/feature-news/team-india-will-be-busy-for-7-months-after-t20-world-cup-see-full-schedule-3985