डब्ल्यूएचओ की चीफ साइंटिस्ट ने दी चेतावनी- भारत के लिए वेक अप कॉल, केवल मास्क ही संक्रमण से बचाएगा

मास्क जेब में रखी वैक्सीन है जोकि आपको कोरोना से बचाएगी।

मास्क जेब में रखी वैक्सीन है जोकि आपको कोरोना से बचाएगी।



डॉक्टर सौम्या स्वामीनाथन ने कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर कहा है कि ये भारत में कोरोना के सही व्यवहार को समझने के लिए 'वेक अप कॉल' हो सकता है।

वेब ख़बरिस्तान,नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रमुख वैज्ञानिक डॉक्टर सौम्या स्वामीनाथन ने कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर कहा है कि ये भारत में कोरोना के सही व्यवहार को समझने के लिए 'वेक अप कॉल' हो सकता है। एक इंटरव्यू में स्वामीनाथन ने कहा, 'कोविड-19 के नए वैरिएंट के खिलाफ मास्क ही सबसे बड़ा हथियार है। मास्क जेब में रखी वैक्सीन है जोकि आपको कोरोना से बचाएगी। इसलिए मास्क जरूर लगाकर रखें।'

बचाव के लिए भीड़ में जाने से बचें


डॉक्टर स्वामीनाथन ने कहा कि कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खिलाफ जंग में टीकाकरण, भीड़ भरे आयोजनों से दूरी और केसों की बढ़ोतरी पर बारीकी से नजर रखना जरूरी है। उन्होंने कहा कि सावधानी बरत कर ही नए वायरस के फैलने पर काबू रखा जा सकता है। चूंकि यह डेल्टा की तुलना में 7 गुना ज्यादा संक्रामक है और तेजी से बड़ी आबादी को अपनी गिरफ्त में ले सकता है।

स्वामीनाथन ने दूसरे कोविड वैरिएंट्स के साथ ओमिक्रॉन की तुलना के बारे में कहा कि नए वैरिएंट के बारे में सटीक जानकारी हासिल करने के लिए हमें और अधिक स्टडी करने की जरूरत है।

ओमिक्रॉन को वैरिएंट ऑफ कंसर्नकैटेगरी में रखा गया

वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन ने इस वैरिएंट को वैरिएंट ऑफ कंसर्नकी कैटेगरी में रखा है। जब वायरस के किसी वैरिएंट की पहचान होती है तो उस वैरिएंट को और ज्यादा जानने-समझने के लिए डब्ल्यूएचओ इसकी निगरानी करता है। निगरानी करने के लिए वायरस को वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट की कैटेगरी में डाला जाता है। अगर वायरस की स्टडी में पाया जाता है कि वैरिएंट तेजी से फैल रहा है और बहुत संक्रामक है तो उसे वैरिएंट ऑफ कंसर्नकी कैटेगरी में डाला जाता है।

Related Links