उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने दिया इस्तीफा



दो दिन पहले नई दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह के साथ हुई थी मुलाकात, यूपी भाजपा में बड़ी जिम्मेदारी दिए जाने की चर्चा

वेब ख़बरिस्तान। उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने राष्ट्रपति को इस्तीफा सौंप दिया है। राज्यपाल के सचिव बीके संत ने इसकी पुष्टि की है। बेबी रानी मौर्य उत्तराखंड की राज्यपाल के तौर पर बीती 26 अगस्त को अपने तीन साल का कार्यकाल पूरा कर चुकी हैं। दो दिन पहले नई दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह के साथ मुलाकात के बाद से ही उनके इस्तीफा देने की चर्चाएं तेज होने लगी थीं। उन्हें उत्तर प्रदेश बीजेपी में बड़ी जिम्मेदारी देने की चर्चाएं हैं। वहीं, अब प्रदेश के नए राज्यपाल की जिम्मेदारी किसे मिलेगी इसको लेकर भी चर्चा शुरू हो गई है।


हाल ही में बेबी रानी मौर्य राज्यपाल पद पर तीन साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद मीडिया से रूबरू हुई थीं। उन्होंने प्रदेश में महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के मुद्दों पर जोर दिया था। उनका कहना था कि प्रदेश की महिलाएं मेहनती और जुझारू हैं। महिलाओं को राजभवन से जो बेहतर सहयोग किया जा सकता है उसके लिए आगे भी ठोस प्रयास किए जाएंगे।

उत्तराखंड की दूसरी महिला राज्यपाल थीं बेबी रानी मौर्य

तीन साल पहले उत्तराखंड में राज्यपाल की कमान संभालने वालीं आगरा निवासी बेबी रानी मौर्य प्रदेश की दूसरी महिला राज्यपाल थीं। उनसे पहले मारग्रेट आल्वा प्रदेश की राज्यपाल रह चुकी थीं।

ये है उनका सार्वजनिक-राजनीतिक जीवन

  • 1995 से वर्ष 2000 तक आगरा की महापौर।
  • 1997 में वर्तमान राष्ट्रपति और तत्कालीन अध्यक्ष राष्ट्रीय अनुसूचित मोर्चा राम नाथ कोविंद के साथ बतौर कोषाध्यक्ष कार्य।
  • 2001 में प्रदेश, सामाजिक कल्याण बोर्ड की सदस्य।
  • 2002 में राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य।

सम्मान

  • 1996 में सामाजिक कार्यों के लिए समाज रत्न।
  • 1997 में उत्तर प्रदेश रत्न।
  • 1998 नारी रत्न।

Related Links