कांग्रेस में Top Leaders ने CM की रेस से इसलिए की तौबा

कांग्रेस की नई टीम बनने के बाद बड़े नेताओं के सुर बदल गए

कांग्रेस की नई टीम बनने के बाद बड़े नेताओं के सुर बदल गए



राजस्थान के उदयपुर में नव संकल्प शिविर में सुक्खू-सुधीर-अग्निहोत्री दिखा रहे एकजुटता

सौरभ कुमार, ख़बरिस्तान, धर्मशाला


हिमाचल में 5 साल बाद दोबारा सत्ता सुख पाने की जद्दोजहद में जुटी कांग्रेस की नई टीम बनने के बाद बड़े नेताओं के सुर बदल गए हैं। अब तक खुद को सीएम पद का चेहरा प्रोजेक्ट करने के लिए दिल्ली दरबार में हाजिरी लगते आए बड़े लीडर्स ने अब सीएमशिप की रेस से तौबा कर ली है। प्रचार कमेटी के सर्वेसर्वा बने सुखविंदर सिंह सुक्खू, सीएलपी लीडर मुकेश अग्निहोत्री व पार्टी में रहस्य बने हुए राष्ट्रीय सचिव सुधीर शर्मा राजस्थान में जारी पार्टी के नव संकल्प शिविर में एक साथ फोटो खिंचवा कर इन्हें सोशल मीडिया में सर्कुलेट कर एकजुटता का प्रदर्शन कर रहे हैं। देश के बड़े नेताओं संग बतिया रहे हैं। उन्हें यह बात जल्दी ही समझ में आ गई है कि इस रेस में बने रहने से विधायक बनना भी मुश्किल हो जाएगा। देश में राजनीति का ट्रैंड भी कुछ ऐसा ही चला हुआ है। यही कारण है कि कांग्रेस चुनाव प्रचार कमेटी के अध्यक्ष सुखविन्द्र सिंह सुक्खू व प्रतिपक्ष नेता मुकेश अग्निहोत्री इस बात को दोहरा चुके हैं कि मुख्यमंत्री बनने के लिए विधायक बनना जरुरी है। इसलिए उनकी प्राथमिकता विधायक बनने की है।

पंजाब सबसे बड़ा Example

 पंजाब इसका सबसे बड़ा उदहारण है कि पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, नवजोत सिंह सिद्दू, पूर्व मुख्यमंत्री परकाश सिंह बादल, अमरेन्द्र सिंह, पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखबीर बादल, उत्तराखंड में हरीश रावत, मुख्यमंत्री पुष्कर धामी, पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी व हिमाचल में पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल मुख्यमंत्री का चेहरा होने के बावजूद चुनाव हार गए थे। संकेत साफ है कि मुख्यमंत्री के चेहरे को हराने के लिए विरोधी दल ही नहीं बल्कि अपनी पार्टी के राजनीतिक विरोधी तक पूरी ताकत झोंक देते है।

 कांग्रेस में यह 2 नेता रेस में सबसे आगे

कांग्रेस में चुनाव प्रचार कमेटी के अध्यक्ष सुखविन्द्र सिंह सुक्खू व प्रतिपक्ष नेता मुकेश अग्निहोत्री ही मुख्यमंत्री की रेस में सबसे आगे हैं। चुनाव प्रचार कमेटी के अध्यक्ष बनने के बाद सुक्खू ने बढ़त बनाई हुई है लेकिन वे स्वयं को इस रेस में शामिल नहीं करते। उनका कहना है कि कांग्रेस में कोई भी मुख्यमंत्री बन सकता है लेकिन इसके लिए विधायक बनना जरुरी है। प्रतिपक्ष नेता मुकेश अग्निहोत्री ने भी मुख्यमंत्री पद की रेस से तौबा कर ली है। उनका कहना है कि पहले उन्हें विधायक बनना है।

Related Tags


himachal pradesh politicshimachal pradesh elections cm jairam thakur

Related Links