कोरोना का कहर : शूटर दादी चंद्रो व बिहार के मुख्य सचिव का निधन



चंद्रो तोमर दुनिया की सबसे ज्यादा उम्र की शूटर, उनकी जिंदगी पर 'सांड की आंख' नामक फिल्म बनी

वेब खबरीस्तान, पटना / मेरठ । बिहार के मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह और यूपी क शूटर दादी चंद्रो तोमर का शुक्रवार को कोरोना से निधन हो गया। भारतीय प्रशासनिक सेवा के 1985 बैच के अधिकारी अरुण कुमार सिंह को इस साल 27 फरवरी को बिहार का मुख्य सचिव बनाया गया था। 15 अप्रैल को उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई जिसके बाद से उन्हें पटना के पारस अस्पताल में भर्ती किया गया था। उनके निधन पर मुख्यमंत्री  नीतीश कुमार, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव व अन्य नेताओं ने शोक जताया है। सीएम नीतीश  ने कहा कि उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ होगा।

कैबिनेट ने एक मिनट का मौन रखा


अरुण सिंह के निधन की खबर आते ही कैबिनेट में एक मिनट का मौन रखा गया। मूल रूप से पश्चिम चंपारण के रहने वाले अरुण सिंह इसी साल 31 अगस्त को रिटायर होने वाले थे। वे इससे पहले विकास आयुक्त के अलावा बिहार लोक प्रशासन एवं ग्रामीण विकास संस्थान के महानिदेशक का पद भी संभाल रहे थे।

शूटर दादी चंद्रो तोमर ने मेरठ के अस्पताल में ली अंतिम सांस

शूटर दादी चंद्रो तोमर का मेरठ के एक निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था । इलाज के दौरान शुक्रवार को उनकी मौत हो गई। वे इंटरनेशनल और नेशनल लेबल पर 50 से अधिक मेडल जीत चुकी हैं। वह अपने परिवार के साथ बागपत जिले के जौहड़ी गांव में रहती हैं। चंद्रो तोमर दुनिया की सबसे ज्यादा उम्र की शूटर हैं।

दिलचस्प है शूटर बनने की कहानी

शूटर दादी की कहानी बड़ी दिलचस्प है। साल 2001 में वे अपनी पोती को गांव की शूटिंग रेंज में शूटिंग सिखाने जाती थी। एक दिन पोती ने कहा कि दादी आप भी निशाना लगाओ । चंद्रों ने 2-3 निशाने एक दम सही लगाए। राइफल क्लब के कोच ने दादी को शूटिंग करते देख शूटर बनने की ट्रेनिंग दी। चंद्रो तोमर की जिंदगी पर 'सांड की आंख' नामक फिल्म आई थी ।

Related Links