कोरोना के कारण मथुरा में नहीं होगा रावण दहन



दूसरी बार टूटी सैकड़ों साल पुरानी परंपरा

वेब ख़बरिस्तान, मथुरा। कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए मथुरा में आज रावण दहन नहीं होगा। संक्रमण के खतरे से बचने के लिए जिला प्रशासन ने रावण दहन लीला करने की अनुमति नहीं दी है। आपको बता दें मासनी स्थित चित्रकूट पर सिर्फ चौपाई गायन द्वारा रावण वध लीला की परंपरा की जाएगी

महाविद्या मैदान पर नहीं होगा रावण दहन

श्रीकृष्ण की नगरी मथुरा में श्रीरामलीला आयोजन की परंपरा में एक बार फिर से महाविद्या के मैदान पर रावण दहन नहीं किया जायेगा।  रावण दहन लीला की परंपरा सिर्फ मसानी स्थित चित्रकूट पर चौपाई गायन करके ही निभाई जाएगी। कोविड की बंदिशों के चलते जिला प्रशासन द्वारा लीला मंचन के साथ रावण दहन की अनुमति प्रदान नहीं की है।

टूटी 200 साल पुरानी परंपरा


मथुरा में श्रीराम लीला के मंचन की परंपरा करीब 200 साल पुरानी है। लेकिन इस साल कोविड के कारण इस लीला का मंचन नहीं किया जा रहा। श्रीराम लीला सभा के संरक्षक मंडल के वरिष्ठ सदस्य गोपेश्वनाथ चतुर्वेदी ने बताया कि प्रशासनिक अनुमति न मिलने की वजह से इस साल भी रावण दहन नहीं होगा श्रीराम लीला सभा के संरक्षक मंडल के वरिष्ठ सदस्य गोपेश्वनाथ चतुर्वेदी ने बताया कि प्रशासनिक अनुमति न मिलने के कारण इस बार भी रावण दहन नहीं होगा। चौपाई गायन से निभाई जाएगी रामलीला और रावण दहन की सभी परंपरा।

चौपाई गायन द्वारा हुई सुलोचना सती लीला

श्रीराम लीला मथुरा के तत्वावधान में मासनी स्थित चित्रकूट पर श्री रामचरित मानस की चौपाई गायन किया गया व वर्णन गणेश व्यास द्वारा हुआ। इसमें कुंभकरण-मेघनाद वध और सुलोचना सती लीला का चौपाई गायन का वर्णन बड़े ही अच्छे तरीके से किया गया।

इमोशनल हुआ सबरी लीला देख दर्शक

श्री चतुर्वेदी रामलीला महासभा की नौ दिवसीय लीला में गुरुवार को हनुमान मिलन, सबरी चरित्र एवं लंका दहन लीला का मंचन देख दर्शक इमोशनल हुए। इस दौरान मुख्य अतिथि गोवर्धन विधायक कारिंदा सिंह ने प्रभु श्रीराम को माला पहनाकर आशीर्वाद लेते हुए कमेटी के पदाधिकारियों द्वारा विधायक को सम्मानित किया।

 

Related Links