हिमाचल में लंपी त्वचा रोग बेकाबू, रोजाना दम तोड़ रहे 150 से ज्यादा पशु

सरकार और पशु पालन विभाग बराबर निगरानी रखे हैं।

सरकार और पशु पालन विभाग बराबर निगरानी रखे हैं।



हिमाचल में लंपी त्वचा रोग बेकाबू हो गया है।

शिमला। हिमाचल में लंपी त्वचा रोग बेकाबू हो गया है। प्रदेश के विभिन्न जिलों में हर रोज 150 से ज्यादा पशु मर रहे हैं। लंपी रोग से संक्रमित पशुओं की संख्या 92,981 तक पहुंच चुकी है और कुल 5,651 पशु मौत के मुंह में समा चुके हैं। राज्य में पशुपालकों को लंपी के बाद से पशु धन से हाथ धोना पड़ रहा है और हर रोज संक्रमित पशुओं की संख्या भी बढ़ती जा रही है। अब संक्रमित पशुओं की संख्या एक लाख का आंकड़ा छूने वाली है। सोमवार को प्रदेश के  विभिन्न भागों में 158 पशुओं की मौत हुई। मरने वाले पशुओं की कुल संख्या 5,651 तक पहुंच गई है। राज्य सरकार के आंकड़ों के अनुसार राज्य में 2,50,109 पशुओं को वैक्सीन लगाई जा चुकी है।  वायरस को मात देकर कुल 49,654 पशु स्वस्थ हो चुके हैं। दूसरी ओर, दलील दी जा रही है कि लंपी रोग पर पशुपालन विभाग ने बराबर निगरानी रखी है। हफ्ते में दो या तीन दिन वायरस के संबंधित फील्ड से जानकारी लेने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम जानकारी ली जा रही है। विभाग के पास वैक्सीन और दवाएं उपयुक्त मात्रा में मौजूद हैं। उधर, प्रदेश के पशुपालन मंत्री वीरेंद्र कश्यप ने कहा कि लंपी त्वचा रोग से संक्रमित पशुओं की संख्या ज्यादा नहीं बढ़ रही है। सरकार और पशु पालन विभाग बराबर निगरानी रखे हैं।

Related Tags


lumpy skin disease lumpy disease lumpy disease in animal

Related Links


webkhabristan