कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने इस्तीफे का ऐलान किया



उन्होंने कहा कि लंच के बाद गवर्नर से मिलूंगा और उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दूंगा।

वेब खबरिस्तान,बेंगलुरु। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि लंच के बाद गवर्नर से मिलूंगा और उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दूंगा। कर्नाटक में आज ही बीजेपी सरकार के दो साल पूरे हुए हैं। इस कार्यक्रम के दौरान ही उन्होंने इस्तीफे का ऐलान करते हुए कहा कि मैं हमेशा अग्निपरीक्षा से गुजरा हूं।

16 जुलाई को पीएम मोदी से मिले थे


येदियुरप्पा ने 16 जुलाई को दिल्ली पहुंचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी। तब अचानक हुई इस मुलाकात ने येदियुरप्पा के इस्तीफे की अटकलों को हवा दे दी थी। इसके बाद वे भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्‌डा, गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भी मिले थे।

भाजपा के पास नहीं येदियुरप्पा का विकल्प

कर्नाटक में साल 2023 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। लेकिन 78 वर्षीय येदियुरप्पा का विकल्प अभी भाजपा के पास मौजूद नहीं है। येदियुरप्पा लिंगायत जाति के कद्दावर नेता हैं और कर्नाटक की राजनीति के धुरंधर हैं। फिलहाल उनके कद का नेता कांग्रेस या अन्य किसी पार्टी के पास भी नहीं है। इसलिए अगर भाजपा उन्हें पद से हटाकर किसी और को मुख्यमंत्री बनाती है तो भी येदियुरप्पा के समर्थन की जरूरत होगी।

2019 में येदियुरप्पा ने साबित किया था बहुमत

बीएस येदियुरप्पा ने 2011 में भाजपा से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद 30 नवंबर 2012 को कर्नाटक जनता पक्ष नाम से अपनी पार्टी बनाई थी। उनके इस कदम के पीछे लोकायुक्त द्वारा अवैध खनन मामले की जांच थी। इसमें येदियुरप्पा का नाम सामने आया था। इसका नुकसान भाजपा को उठाना पड़ा था। साल 2014 में येदियुरप्पा फिर भाजपा में शामिल हुए। साल 2018 में कर्नाटक में सियासी नाटक के दौरान पहले ढाई दिन के लिए मुख्यमंत्री बने और फिर इमोशनल स्पीच के बाद सत्ता छोड़ दी। फिर दोबारा 2019 में बहुमत साबित कर मुख्यमंत्री बनने की प्रक्रिया ने भी आलाकमान के सामने येदियुरप्पा का कद बढ़ा दिया था।

Related Links