क्या कोरोना के नए वैरिएंट ‘ओमिक्रॉन’ से वाकई डरने की जरुरत है! पढ़िए 2 महीने से अफ्रीका में ओमिक्रॉन होने से क्या है स्थिति

यूरोप में मौतें लगातार बढ़ रही हैं।

यूरोप में मौतें लगातार बढ़ रही हैं।



कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ‘ओमिक्रॉन’ से दुनियाभर में दहशत का माहौल बन गया है।

वेब ख़बरिस्तान। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉनसे दुनियाभर में दहशत का माहौल बन गया है। यूरोपीयन यूनियन की ओर से आनन-फानन में अफ्रीका की उड़ानों पर रोक लगा दी गई है। बताया जा रहा है कि ओमिक्रॉन डेल्टा से 7 गुना तेजी से फैलने वाला वैरिएंट है। मगर जिस अफ्रीका में यह फैला हुआ है, वहां दो महीने से नए मरीजों और मौतों में गिरावट जारी है। अफ्रीकन मेडिकल एसोसिएशन के अनुसार ओमिक्रॉन वैरिएंट दो महीने से मौजूद है। 45 बार अपना रूप बदल चुका है, मगर इसके बावजूद मौतों में गिरावट जारी है। इससे संक्रमित होने वाले मरीज गंभीर रूप से बीमार नहीं पड़े रहे। उनमें लक्षण भी बेहद हल्के हैं।

यूरोप में ज्यादा मिल रहे हैं नए मरीज, मौतें भी ज्यादा


अगर अफ्रीका की बात की जाए तो दुनिया की 17% आबादी वाले अफ्रीका के 54 देशों में रोज केवल 4,200 मरीज मिल रहे हैं, जोकि यूरोप से 86 गुना कम हैं। दूसरी ओर अफ्रीका में रोज होने वाली मौतें भी 150 से कम हैं। ये भी यूरोप से 26 गुना कम हैं। अफ्रीका में रोजाना केस और मौतें, दोनों ही दो माह से लगातार घट रही हैं। दूसरी ओर दुनिया की 10% आबादी वाले यूरोप के 45 देशों में रोज 3.63 लाख मरीज रोज मिल रहे हैं और रोज 3,880 से ज्यादा मौतें हो रही हैं। सबसे गंभीर बात यह है कि यूरोप में मौतें लगातार बढ़ रही हैं। यहां सभी मामले डेल्टा वैरिएंट के हैं।

बीसीसीआई को दक्षिण अफ्रिका टीम भेजने से पहले सलाह करनी चाहिए

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि बीसीसीआई को दक्षिण अफ्रीका टीम भेजने से पहले सलाह करनी चाहिए। भारतीय टीम तीन टेस्ट, तीन वनडे और चार टी20 खेलने के लिए दक्षिण अफ्रीका जाने वाली है। टीम का टूर 17 दिसंबर से शुरू होगा।

Related Links