टॉप 500 कंपनियों के सबसे युवा सीईओ बने भारतीय मूल के पराग अग्रवाल

पराग माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च और याहू के साथ काम कर चुके हैं।

पराग माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च और याहू के साथ काम कर चुके हैं।



ट्विटर के को-फाउंडर जैक डोर्सी ने कंपनी के सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया है

वेब ख़बरिस्तान,नई दिल्ली। ट्विटर के को-फाउंडर जैक डोर्सी ने कंपनी के सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया है। उनकी जगह पर पराग अग्रवाल कंपनी के नए सीईओ होंगे। इससे पहले वे कंपनी में चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर के पद पर थे। 37 वर्षीय पराग ने 10 साल पहले कंपनी जॉइन की थी। वे अब दुनिया की टॉप 500 कंपनियों के सबसे युवा सीईओ बन गए हैं। हालाँकि ट्विटर की ओर से उनकी डेट ऑफ बर्थ जाहिर नहीं की गई है, मगर यह बताया है कि उनका जन्म 1984 में हुआ था।


आईआईटी बॉम्बे से पढ़ाई करने वाले पराग अग्रवाल स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट भी हैं। ट्विटर ने साल 2018 में उन्हें एडम मेसिंजर की जगह चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर बनाया था। पराग माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च और याहू के साथ काम कर चुके हैं।

जैक डोर्सी ने ट़्विटर स्टाफ के नाम लिखी चिठ्‌ठी

ट्विटर फाउंडर जैक डोर्सी ने ट्विटर स्टाफ को अपनी आखिरी चिठ्‌ठी में लिखा, 'मैंने ट्विटर छोड़ने का फैसला किया है क्योंकि मैं मानता हूं कि अब कंपनी अपने फाउंडर्स से अलग होने को तैयार है। ट्विटर सीईओ के तौर पर पराग पर मेरा भरोसा बहुत गहरा है। अगर पिछले 10 साल की बात करें त उनका काम बदलाव लाने वाला रहा है। वे अपनी स्किल, दिल और आत्मा से काम करते हैं, जिसके लिए मैं तहेदिल से उनका शुक्रगुजार हूं। अब ट्विटर को लीड करने का उनका समय है।'

गूगल, माइक्रोसॉफ्ट के बाद अब ट्विटर में भी भारतीय मूल के सीईओ

दुनिया की कई बड़ी कंपनियों में भारतीय मूल के सीईओ हैं। माइक्रोसॉफ्ट में सत्या नडेला, गूगल की पेरेंट कंपनी अल्फाबेट में सुंदर पिचई, अडोब में शांतनु नारायण, आईबीएम में अरविंद कृष्णा, VMWare में रघु रघुराम हैं।

Related Links