हरियाणा में मनोहर सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव

Manohar Lal Khattar

Manohar Lal Khattar



पार्टी का दावा, प्रस्ताव ही गिरेगा, सरकार नहीं

वेब खबरिस्तानः हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र में बुधवार को भी सदन की कार्यवाही जारी रही। कार्यवाही के शुरू होते ही कांग्रेस ने मनोहर सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया। स्पीकर की अनुमति मिलने के बाद नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्‌डा ने प्रस्ताव पर बोलना आरंभ किया। हुड्‌डा ने दिल्ली की सीमाओं पर चले रहे किसान आंदोलन के दौरान किसानों की मौत के मामले से भाषण शुरू किया।


उन्होंने भाषण देते हुए कहा कि 2019 में वोटिंग से पहले लोगों का विश्वास जीतने के लिए एक पार्टी (भाजपा) 75 पार का दावा कर रही थी। वहीं दूसरी पार्टी (जेजेपी) यमुना पार करने की बात कह रही थी। जनता ने वोटिंग में दोनो पार्टियों को नकार दिया। यह अलग बात है कि किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिल पाया। बाद में एक-दूसरे का गला काटने वाली पार्टियां एक-दूसरे की दोस्त बन गईं।

हमें कोई खतरा नहीं

उधर, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला व गृह मंत्री अनिल विज ने दावा किया कि यह प्रस्ताव ही गिरेगा, सरकार नहीं। हमें कोई खतरा नहीं है। हालांकि सत्ता दल की सहयोगी जननायक जनता पार्टी (JJP) के विधायकों के तेवर भी बदले-बदले से लग रहे हैं। बीते दिन कृषि कानूनों पर पार्टी के चार विधायकों ने अपने-अपने ढंग से विचार रखे। इनमें से टोहाना के विधायक देवेंद्र बबली समेत तीन विधायकों के सुर बगावत वाले दिखे। सरकार की तरफ से हरियाणा विधानसभा में 12 मार्च को अपने कार्यकाल का दूसरा बजट पेश होना है।

हरियाणा विधानसभा में पार्टियों स्थिति

अक्टूबर 2019 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को 90 में से 40 सीट मिलीं। 31 सीटें कांग्रेस को मिलीं। दुष्यंत चौटाला की पार्टी जननायक जनता पार्टी के खाते में 10 सीटें आईं। सात सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार रहे। एक सीट इंडियन नेशनल लोकदल को और एक सीट गोपाल कांडा की हरियाणा लोकभलाई पार्टी को मिली।

Related Links