स्वदेशी वैक्सीन : हरियाणा के सेहत मंत्री को दी पहली वालंटियर डोज

haryana-health-minister-anil-vij-gets-trial-dose-of-covid-vaccine

haryana-health-minister-anil-vij-gets-trial-dose-of-covid-vaccine



कोरोना की स्वदेशी वैक्सीन भारत भी लाने जा रहा है। इस स्वदेसी वैक्सीन का तीसरा ट्रायल शुरू हो चुका है। शुक्रवार को तीसरे और आखिरी चरण का ट्रायल गोवा, हैदराबाद और हरियाणा में एक साथ शुरू किया गया है।

तीसरे और आखिरी चरण के लिए गोवा, हरियाणा व हैदराबाद में ट्रायल शुरू

मेन पॉइंट्स

अंबाला@wkकोरोना की स्वदेशी वैक्सीन भारत भी लाने जा रहा है। इस स्वदेसी वैक्सीन का तीसरा ट्रायल शुरू हो चुका है। शुक्रवार को तीसरे और आखिरी चरण का ट्रायल गोवा, हैदराबाद और हरियाणा में एक साथ शुरू किया गया है। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज को पहली वालंटियर डोज देकर ट्रायल शुरू किया। विज ने कहा कि वैक्सीन के अंतिम चरण का ट्रायल सफल रहने की पूरी उम्मीद है। इस वैक्सीन के जनवरी तक लांच होने की उम्मीद है।

भारत बायोटेक व इंडियन काउंसिल आॅफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) के मिलकर इस वैक्सीन को तैयार किया है। पूरे देश में कुल 21 सेंटर पर 25 हजार 800 वालंटियरों पर परीक्षण होगा। 42 दिन बाद शरीर में एंटीबॉडी की स्थिति मापी जाएगी। इस समय सीमा के बाद भी एंटीबॉडी बनती हैं तो ट्रायल को सफल माना जाएगा। इस वैक्सीन के दो चरणों का ट्रायल सफल हो चुका है। बता दें कि अभी अमेरिका, रूस और ब्रिटेन जैसे देशों ने कोरोना की दवा बनाने का दावा किया है।

वालंटियर डोज लाने वाले पहले कैबिनेट मंत्री


67 वर्षीय अनिल विज वैक्सीन की वालंटियर डोज लेने वाले किसी राज्य के पहले कैबिनेट मंत्री बन गए हैं। उन्हें शुक्र वार सुबह ही अंबाला छावनी के नागरिक अस्पताल में रोहतक पीजीआइएमएस के चिकित्सकों ने जांच के बाद वैक्सीन की डोज दी गई। उन्हें 28 दिन बाद दूसरी डोज दी जाएगी। वह लगभग दो घंटे तक चिकित्सकों की निगरानी में रहने के बाद बाहर निकले और चंडीगढ़ स्थित अपने कार्यालय भी गए।

1000 लोगों का परीक्षण करेगा पीजीआई

हरियाणा में एक हजार वलांटियर्स पर परीक्षण होगा। इनमें 200 स्वस्थ वालंटियरों पर तेज ट्रायल होगा। सभी को 28 दिन बाद दूसरी डोज मिलेगी। केंद्र ने हरियाणा में वैक्सीन के ट्रायल की जिम्मेदारी रोहतक स्थित पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के पीजीआइएमएस को सौंपी है।

इस वैक्सीन का परीक्षण किसी भी उम्र का व्यक्ति करवा सकता है। 18 वर्ष से ज्यादा उम्र वाले वालंटियर को कंधे के जरिए वैक्सीन की छह मिलीग्राम की इंट्रामस्क्युलर (मांसपेशियों में इंजेक्शन लगाकर डोज) डोज दी जाएगी।

कोई साइड इफेक्ट नहीं आया सामने

पहले दो चरण में जिन लोगों को वैक्सीन दी गई उनमें कोई साइड इफेक्ट नहीं नजर आया। जिसकी पुष्टि वैक्सीन ट्रायल टीम के कोइन्वेस्टीगेटर डा. रमेश वर्मा ने दी। उन्होंने बताया कि किसी भी वालंटियर में कोरोना संक्रमण नहीं आया। जिसके बाद तीसरे चरण के परीक्षण के सफल होने की पूरी उम्मीद है।

कोई व्यक्ति भी कोरोना वैक्सीन ट्रायल का हिस्सा बन सकता है। जो चाहता है वो रोहतक पीजीआई के हेल्पलाइन नंबर 9416447071 पर संपर्क करे। बता दें कि विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय महासचिव डा. सुरेंद्र जैन ने भी ट्रायल में शामिल होने जा रहा हैं। शनिवार को रोहतक पीजीआइ में इसकी डोज लेंगे।

Related Links