सरकार ने तीसरी बार बदला कोवीशील्ड के दो डोज का गैप, जानिए किन्हें मिलेगी ये छूट



केंद्रीय सेहत मंत्रालय की ओर से कोवीशील्ड के वैक्सीनेशन शेड्यूल में एक बार फिर बदलाव किया गया है

वेब ख़बरिस्तान। केंद्रीय सेहत मंत्रालय की ओर से कोवीशील्ड के वैक्सीनेशन शेड्यूल में एक बार फिर बदलाव किया गया है। दरअसल वैक्सीनेशन की कमी के कारण दूसरे डोज का गैप दो बार पहले बढ़ा दिया गया था लेकिन अब अब इसे विदेश यात्रा पर जा रहे लोगों के लिए घटाया गया है। यानी कुछ कैटेगरी में दो डोज के लिए 84 दिन (12-16 हफ्ते) के इंतजार की जरूरत नहीं होगी। 28 दिन यानी कि 4-6 हफ्ते बाद भी दूसरा डोज लगवा सकते हैं। दो डोज का गैप केवल कोवीशील्ड के लिए घटाया गया है। जबकि कोवैक्सिन का दो डोज का गैप 28 दिन ही था और उसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है।

पढ़ाई, रोजगार या ओलिंपिक टीम का हिस्सा हैं तो ये गाइडलाइन आपके लिए  


सरकार की ये गाइडलाइन उन लोगों के लिए है जिन्हें पहली डोज लग चुकी है और वे विदेश यात्रा पर जाना चाहते हैं। यात्रा पढ़ाई, रोजगार या ओलिंपिक टीम के हिस्से के तौर पर हो सकती है। इन लोगों को दूसरे डोज के लिए 84 दिन का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। वे पहले भी दूसरा डोज लगवा सकते हैं। अगर कोई व्यक्ति 84 दिन के अंदर विदेश जाने वाला हो तो ही जल्दी दूसरा डोज लगेगा। जबकि अन्य लोगों को ये राहत नहीं मिलने वाली।

तीसरी बार किया गया ये बदलाव

कोवीशील्ड के दो डोज के गैप में ये तीसरा बार बदलाव किया गया है। 16 जनवरी को टीकाकरण की शुरुआत में कोवीशील्ड और कोवैक्सिन में दो डोज का गैप 28-42 दिन का था। 22 मार्च को कोवीशील्ड के दो डोज का अंतर बढ़ाकर 6 से 8 हफ्ते किया गया था। 13 मई को ये गैप 12 से 16 हफ्ते कर दिया गया।

इन्फेक्शन का खतरा कम होगा

कोविशिल्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ब्रिटिश कंपनी एस्ट्राजेनेका ने मिलकर विकसित किया है। इसे वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन की ओर से भी मंजूरी मिल चुकी है। ऐसे में इसके दो डोज लगने पर लोग विदेश यात्रा कर सकते हैं। उन्हें इन्फेक्शन का खतरा कम होगा। वे नए तेजी से फैलने वाले म्यूटेंट वायरस स्ट्रेन्स से भी सुरक्षित रहेंगे।

Related Links