एलओसी पर तीन घुसपैठीए ढेर, कैप्टन समेत चार शहीद

four-terrorists-killed-captain-martyred-in-jammu-kashmir

four-terrorists-killed-captain-martyred-in-jammu-kashmir



श्मीर में कुपवाड़ा जिले के मच्छेल सेक्टर में सेना ने तीन घुसपैठियों को मार गिराया। हालांकि इस दौरान आंतकियों के साथ मुठभेड़ में सेना के कैप्टन समेत दो जवान और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का एक कांस्टेबल शह

नाकाम की घुसपैठ की कोशिश, सेना ने ली हेलीकॉप्टरों की मदद.

कश्मीर में कुपवाड़ा जिले के मच्छेल सेक्टर में सेना ने तीन घुसपैठियों को मार गिराया। हालांकि इस दौरान आंतकियों के साथ मुठभेड़ में सेना के कैप्टन समेत दो जवान और सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का एक कांस्टेबल शहीद हो गया। कार्रवाई में सेना के दो जवान घायल भी हुए हैैं। भारतीय सेना ने सरहद पार से आंतकियों की बड़ी घुसपैठ को नाकाम तक दिया।

रक्षा प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया के अनुसार आतंकियों की तलाश में सेना ने नियंत्रण रेखा पर बड़ा आॅपरेशन शुरू किया है। यह आॅप्रेशन अभी जारी है। जिसमें सेना के हेलीकॉप्टरों की मदद ली जा रही है। खोजी कुत्ते भी उतारे गए हैं। उप राज्यपाल मनोज सिन्हा ने शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी। कहा कि इन शहीदों ने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया है।

पाक सेना भी घुसपैठ में दे रही साथ


मच्छेल सेक्टर में बीएसएफ की 169वीं बटालियन के गश्ती दल ने रविवार रात करीब एक बजे नियंत्रण रेखा पर कुछ हलचल देखी थी। चौकन्ने जवानों ने मोर्चा संभालने में देरी नहीं लगाई। दो दलों में घुसपैठ कर रहे आतंकियों को चेतावनी देकर रोका। लेकिन उन्होंंने गोलाबारी शुरू कर दी। पाकिस्तानी सेना भी उनका साथ दे रही थी। इस कार्रवाई में एक आतंकी मौके पर ढेर हो गया, लेकिन अन्य आतंकी भारतीय क्षेत्र में घुस आए।

गोलियां लगने पर भी लड़ते रहे सुदीप सरकार

कहा जा रहा है कि त्रिपुरा निवासी बीएसएफ कांस्टेबल सुदीप सरकार गोलियां लगने के बाद भी लड़ते रहे। काफी देकर संघर्ष के बाद वह शहीद हो गए। घटनास्थल से एक एके-47 राइफल, दो बैग और अन्य सामान बरामद हुआ है। सुबह करीब चार बजे गोलीबारी बंद हो गई।

सेना व बीएसएफ के जवानों ने एलओसी के तलाशी अभियान के दौरान दो आतंकियों को घेर कर मारा। सुबह करीब साढ़े 10 बजे जवानों ने एलओसी के डेढ़ किलोमीटर के क्षेत्र के पास आतंकवादियों को घेर लिया था। दोनों तरफ से हुई गोलीबारी में सेना के कैप्टन आशुतोष मद्रास रेजीमेंट सहित नायक परवीन व एक अन्य जवान शहीद हो गए और दो जवान घायल हैैं।

एलओसी पर छिपे हो सकते हैं आतंकी

सेना को शह है कि आतंकी दो गुटों में आए थे। कुछ भाग गए और कुछ एलओसी पर छिपे हो सकते हैं। 31 मार्च के बाद यह घुसपैठ की सबसे बड़ी साजिश है। मार्च के अंत में केरन में घुसपैठ कर रहे पांच आतंकवादियों को सुरक्षा बलों ने मार गिराया था।

कश्मीर में इस वर्ष अब तक 200 से अधिक आतंकी मारे जा चुके हैं। सेना का अभियान जारी है। अब जल्द ही एलओसी से सटे कुछ रास्ते बर्फबादी के बाद बंद हो जाएंगे। आतंकी संगठनों और पाक सेना की कोशिश आंतकियों को बड़ी संख्या में कश्मीर में दाखिल करवाने की है।

Related Links