महाराष्ट्र में बढ़ता जा रहा बाढ़ का खतरा, 875 गांव मूसलाधार बारिश से हुए प्रभावित



संजय राउत ने की अपील, महाराष्ट्र के बाढ़ पीड़ितों की मदद करे केंद्र सरकार, बाढ़ से निपटने के लिए केंद्र सरकार और राज्य की टीमें मौके पर तैनात हैं

वेब ख़बरिस्तान, मुंबई। महाराष्ट्र के कई जिले भीषण बाढ़ की चपेट में आ गए हैं और यह खतरा लगातार गहराता जा रहा है। सतारा और रायगढ़ में 36 और शव मिलने के बाद बाढ़ और भूस्खलन से हुए हादसों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 149 तक जा पहुंची है64 लोग लापता बताए जा रहे हैं। इस बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने केंद्र सरकार से राज्य को मदद देने की अपील की है।


संजय राउत ने कहा कि राज्य सरकार अपने स्तर पर बाढ़ पीड़ितों की मदद कर रही है लेकिन केंद्र सरकार को भी महाराष्ट्र की मदद करने के लिए आगे आना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के बड़े-बड़े लोगों को बाढ़ में फंसे लोगों की मदद करनी चाहिए

बाढ़ पीड़ितों को वित्तिय मदद 

राउत ने भरोसा दिलाया की उद्धव सरकार लोगों को राहत पहुंचाने में पूरी मेहनत के साथ लगी हुई है। राज्य सरकार ने रायगढ़ और रत्नागिरी को 2-2 करोड़ रुपये की आपातकालीन वित्तीय सहायता दी थी। साथ ही बारिश से प्रभावित सतारा, सांगली, पुणे, कोल्हापुर, ठाणे और सिंधुदुर्ग को भी 50-50 लाख रुपये की वित्तीय सहायता दी गई है। मुख्यमंत्री ने भीषण बाढ़ वाले इलाके चिपलून का दौरा किया था और निवासियों, व्यापारियों और दुकानदारों से बातचीत की। रात्नागिरी जिले के चिपलून में 5 राहत शिविर बनाए गए हैं। एनडीआरएफ की 25 टीमें, SDRF की चार टीमें, कोस्ट गार्ड्स की दो टीमें, नेवी की पांच टीमें और सेना की तीन टीमें राहत और बचाव अभियान चला रही हैं।

Related Links