इस डॉक्टर को 14 महीने में तीन बार हुआ कोरोना , 2 बार वैक्सीन लगने के बाद संक्रमण



कोरोना का एक बेहद हैरानीजनक मामला सामने आया है

वेब खबरिस्तान, मुंबई। मुंबई में कोरोना का एक बेहद हैरानीजनक मामला सामने आया है। एक डॉक्टर पिछले साल जून से अब तक तीन बार कोरोना पॉजिटिव आ चुकी हैं। दो बार तो वे वैक्सीन लगने के बाद संक्रमित हुईं हैं। दरअसल बीएमसी के कोविड सेंटर में काम वाली डॉ. सृष्टि हलारी 17 जून 2020 को पहली बार कोरोना पॉजिटिव हुईं थीं। उसके बाद 29 मई 2021 और 11 जुलाई 2021 को भी वे कोरोना पॉजिटिव हो गई। मई से पहले ही उन्हें वैक्सीन के दोनों डोज लग गए थे।

सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए लिया

मुलुंड इलाके की डॉ. सृष्टि हलारी के तीन बार कोरोना संक्रमित हो जाने के बाद अब उनके सैंपल को जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए कलेक्ट किया गया है। डॉक्टर्स का कहना है कि तीसरी बार संक्रमण के पीछे कई वजह हो सकती हैं। इनमें कोरोना के वैरिएंट से लेकर इम्युनिटी लेवल या गलत जांच रिपोर्ट भी कारण हो सकता है।

वैक्सीनेशन के बावजूद कैसे हुआ संक्रमण


डॉ. हलारी के दो सैंपल एक बीएमसी ने और दूसरा एक प्राइवेट हॉस्पिटल ने कलेक्ट किया है। एक अधिकारी ने बताया कि डॉ. हलारी के सैंपल से यह पता किया जा रहा है कि वैक्सीनेशन के बावजूद उनके संक्रमित होने की क्या वजह रही। इसकी रिपोर्ट आना बाकी है।

जुलाई में पूरा परिवार हुआ संक्रमित

डॉ. सृष्टि ने बताया, 'पहली बार कोविड संक्रमित हुई क्योंकि एक सहकर्मी संक्रमित पाया गया था। फिर मैंने अपनी पोस्टिंग पूरी की और पीजी एडमिशन एग्जाम से पहले ब्रेक लेने का फैसला किया। तब मैं घर पर ही रही। जुलाई में मेरा पूरा परिवार ही कोरोना संक्रमित हो गया।'

तीसरी बार संक्रमण की वजह कोरोना का नया वैरिएंट भी

सृष्टि का इलाज कर रहे डॉ. मेहुल ठक्कर ने बताया कि हो सकता है कि मई में हुआ दूसरा संक्रमण जुलाई में फिर से एक्टिवेट हो गया हो। ये भी हो सकता है कि RT-PCR की रिपोर्ट निगेटिव आई हो।' वहीं FMR की निदेशक डॉ. नरगिस मिस्त्री ने कहा कि तीसरी बार संक्रमण की वजह कोरोना का कोई नया वैरिएंट भी हो सकता है।

Related Links