देश में अप्रैल महीने के मध्य में चरम पर होगी कोरोना की दूसरी लहर



मई महीने के अंत तक कोरोना के मामलों में भारी गिरावट भी देखने को मिलेगी

वेब खबरिस्तान। देशभर में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। कई राज्यों में दोबारा लाकडाउन हो गया है। कई राज्यों में नाइट कर्फ्यू जारी है। देशभर में कोरोना को लेकर सख्ती बढ़ गई है। इसी बीच वैज्ञानिकों ने एक गणितीय मॉडल का इस्तेमाल कर के एक अनुमान लगाया है कि अप्रैल महीने के मध्य में कोरोना महामारी की दूसरी लहर चरम पर होगी। वैज्ञानिकों ने यह भी कहा है कि मई के अंत तक कोरोना के मामलों में काफी गिरावट देखने को मिलेगी।

इस मॉडल का किया इस्‍तेमाल


आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों ने 'सूत्र' नामक गणितीय मॉडल का इस्‍तेमाल किया है। वैज्ञानिकों ने जानकारी दी है कि रोजाना मिल रहे कोरोना संक्रमण के मामले अप्रैल के मध्य में चरम पर होंगे।

वैज्ञानिकों की टीम के मेंबर मनिंद्र अग्रवाल ने कोरोना के मामलों में जितनी तेजी से बढ़ोतरी होगी उतनी ही तेजी से मामलों में गिरावट भी दर्ज की जाएगी और मई के अंत तक मामले बेहद कम हो जाएंगे। उन्‍होंने कहा कि मौजूदा समय में कोरोना के मामलों में इतनी तेजी से बढ़ोतरी हो रही है कि इसकी चरम सीमा का अनुमान लगाना काफी मुश्किल है। मौजूदा समय में प्रतिदिन एक लाख के आसपास मामले आ रहे हैं।

पंजाब होगा पहला राज्य

वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि कोरोना की लहर जब चरम सीमा पर होगी तो सबसे अधिक मामले पंजाब में आएंगे। इसके बाद महाराष्ट्र का नंबर आएगा।

Related Links