डॉन ने कोरोना को दी मात, एम्स से हुआ डिस्चार्ज



मंगलवार को एम्स से डिस्चार्ज कर वापस तिहाड़ जेल भेज दिया गया। तिहाड़ जेल में कड़े सुरक्षा घेरे में रखा गया है। कोरोना होने पर राजन का 22 अप्रैल से जेल के अस्पताल में इलाज चल रहा था

वेब खबरिस्तान। अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन ने कोरोना को मात दी। मंगलवार को एम्स से डिस्चार्ज कर वापस तिहाड़ जेल भेज दिया गया। छोटा राजन को तिहाड़ जेल में कड़े सुरक्षा घेरे में रखा गया है। कोरोना होने पर राजन का 22 अप्रैल से जेल के अस्पताल में इलाज चल रहा था। हालत बिगड़ने पर 25 अप्रैल को एम्स शिफ्ट किया गया था। इलाज के दौरान 7 मई को छोटा राजन की मौत की अफवाह उड़ी थी। लेकिन उसी दिन एम्स ने इसका खंडन करते हुए कहा था कि वह न सिर्फ जिंदा है, बल्कि रिकवर भी कर रहा है।

नायर गैंग से शुरू हुई क्रिमिनल लाइफ


स्कूल छोड़ने के बाद छोटा राजन मुंबई में फिल्म टिकट ब्लैक करने लगा। इस दौरान वह राजन नायर गैंग में शामिल हुआ। यहाँ काम करते हुए उसे छोटा राजन बुलाया जाने लगा। इसी दौरान अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से उसकी जान-पहचान हुई। दाऊद के साथ आने के बाद उसका क्राइम ग्राफ बढ़ गया था। दोनों साथ मिलकर मुंबई में वसूली, हत्या, स्मगलिंग जैसे काम करने लगे। 1988 में राजन दुबई चला गया।

दाऊद और राजन मिलकर करते थे काम

इसके बाद दाऊद और राजन दुनियाभर में गैर कानूनी काम करने लगे, लेकिन बाबरी कांड के बाद 1993 में जब मुंबई में सीरियल बम ब्लास्ट हुए तो राजन अलग हो गया। जब उसे पता चला कि इसमें दाऊद का हाथ है, तो वह उसका दुश्मन बन बैठा। राजन ने नया गैंग बना लिया। 27 साल फरार रहने के बाद छोटा राजन को साल 2015 में इंडोनेशिया से भारत लाया गया था।

Related Links