आप को नहीं मिल रहा सीएम का चेहरा, केजरीवाल की खोज जारी, कहा - मैं नहीं बनूंगा पंजाब का सीएम



केजरीवाल ने कहा - वह दिल्ली के बेटे और भाई दिल्ली में ही रहेंगे, दिल्ली छोड़कर कहीं नहीं जाएंगे

वेब ख़बरिस्तान। दिल्ली में अरिवंद केजरीवाल ने एक बार फिर स्पष्ट किया है कि वह पंजाब में AAP की तरफ से CM पद के दावेदार नहीं हैं। केजरीवाल ने कहा कि वह दिल्ली के बेटे और भाई हैं। वह दिल्ली में ही रहेंगे। दिल्ली छोड़कर कहीं नहीं जाएंगे। पंजाब में विरोधी दल लगातार आरोप लगा रहे हैं कि केजरीवाल खुद पंजाब का CM बनना चाहते हैं।

दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत में केजरीवाल ने हंसते हुए कहा कि सिद्धू AAP में नहीं आ रहे। हालांकि अगले ही पल सियासत में कोई दुश्मन न होने की बात कहकर उन्होंने सियासी चर्चाओं को गरमा दिया। इससे पहले भी केजरीवाल ने कहा था कि सिद्धू AAP में आना चाहते थे और वे अब भी कांग्रेस छोड़ने को तैयार बैठे हैं।

कांग्रेस सरकार छोड़े, हम महिलाओं को 1000 रुपए देंगे


केजरीवाल से जब पूछा गया कि सिद्धू ने एक संत के वीडियो के जरिए उनसे पूछा कि फ्री की राजनीति क्यों कर रहे हो। सिद्धू ने कहा था कि केजरीवाल की मुफ्त बिजली, 26 लाख नौकरी और एक करोड़ महिलाओं को एक-एक हजार पर सालाना 1.10 लाख करोड़ रुपया खर्च होगा। पंजाब का बजट ही 72 हजार करोड़ है।  इसमें से 70 हजार करोड़ सैलरी और कर्ज चुकाने में चला जाता है। इस सवाल पर केजरीवाल ने कहा कि मैं बड़ी विनम्रता से सिद्धू साहब को कहता हूं कि वे सरकार छोड़ें, हम सब काम कर देंगे।

चन्नी को सिर्फ 3 महीने का CM कहा

केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस ने चरणजीत चन्नी को सिर्फ 3 महीने के लिए CM बनाया है। ताकि उन्हें अगले चुनाव में दलित वोट मिल सकें। चन्नी ने खुद कहा कि वह अगले चुनाव में CM के कैंडिडेट नहीं हैं। सीएम ने चंडीगढ़ में प्रेस कान्फ्रेंस में यह बात कही थी। CM चरणजीत चन्नी ने अरविंद केजरीवाल को काला अंग्रेज कहा था। इसके जवाब में केजरीवाल ने कहा कि 'हम काले हैं तो क्या हुआ दिलवाले हैं'। केजरीवाल ने कहा कि पंजाब की माताओं और बहनों को काला बेटा और भाई पसंद है। उन्होंने फिर से सीएम चन्नी को नकली केजरीवाल कहा। जो 3 महीने बाद पंजाब में नजर नहीं आएंगे।

केजरीवाल के सियासी दांव से नवजोत सिद्धू भी दबाव में नजर आ रहे हैं। सिद्धू अभी तक AAP के खिलाफ कुछ नहीं कहते थे। हालांकि जब से शिक्षा के मुद्दे पर AAP ने सिद्धू के करीबी शिक्षा मंत्री परगट सिंह को घेरा तो सिद्धू मैदान में आए। उन्होंने CM चेहरा न मिलने पर केजरीवाल का मजाक उड़ाया कि दूल्हा मिल नहीं रहा और बारात पूरे पंजाब में नाच रही है। सिद्धू ने केजरी से यह भी पूछा था कि उनकी दिल्ली कैबिनेट में कोई महिला मंत्री क्यों नहीं है।

Related Links