Special For Gandhi Jyanti : मध्यप्रदेश में 131 वर्ष पुराना स्कूल, बच्चे पहनकर आते हैं गांधी टोपी



मध्यप्रदेा में 131 वर्ष पुराना स्कूल दूसरे शिक्षण संस्थानों के लिए मिसाल बन चुका है। खास बात यह है कि यहां के विद्यार्थी आज भी सफेद टोपी पहनकर स्कूल आते हैं।

वेब खबरिस्तान, हरदा : भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती के अवसर पर आज हम आपको एक ऐसे स्कूल के बारें में अवगत कराएंगे जहां गांधी जी के आदर्श पर चलने का पाठ पढ़ाया जाता है। जी हां मध्यप्रदेा में 131 वर्ष पुराना स्कूल दूसरे शिक्षण संस्थानों के लिए मिसाल बन चुका है। खास बात यह है कि यहां के विद्यार्थी स्कूल के पुराने रिवाजों का पूरे अनुशासन से पालन करते हैं। यहां आज भी बच्चे सफेद टोपी पहनकर आते हैं। स्कूल के छात्रों का कहना है की उन्हें गांधीटोपी पहनने से गर्व महसूस होता है. साथ ही गांधीजी के आदर्शो पर चलने की प्रेरणा मिलती है. पूरे संभाग में इसे गांधी टोपीवाले स्कूल के नाम से पहचाना जाता है. हालांकि स्कूल में एडमिशन लेने वाले बच्चो की संख्या साल दर साल कम होती जा रही है. लेकिन स्कूल प्रबंधन और बच्चों का कहना है कि वो गांधीजी की परम्परा को जीवंत रखेंगे। 

यहां चरखा चलाया गया था


हरदा जिले के छिपावड गांव में स्थित इस शासकीय स्कूल की शुरुआत 1 जनवरी 1892 को हुई थी. इसकी विशेषता है की 131 वर्ष पुराने इस स्कूल में पढ़ने वाले छात्र से लेकर आज तक पढ़ रहे सभी छात्रों का रिकॉर्ड सुरक्षित रखा है. ऐसा बताया जाता है की आजादी की लड़ाई के दौरान खुद गांधीजी हरदा आये थे. उस समय यहां गांधीजी ने चरखा चलाया था।

136 बच्चों का भविष्य टिका

गांधीजी और उनके आदर्शों के प्रति लोगों में तभी से भावना हिलोरें लेने लगी थी. स्कूल में गांधी टोपी पहनने की शुरुआत आज स्कूल में परम्परा का रूप ले चुकी है. छात्र बलराम मीणा के मुताबिक यहां पढ़ने वाले सभी छात्र गांधी टोपी पहनकर आते हैं. स्कूल में कक्षा 1 से लेकर 8 तक कुल 136 बच्चे हैं. यहां छात्रों ने चरखा चलाना भी सीखा, ताकि वो आत्मनिर्भर बन सकें।

बुनियादी शिक्षा पर दिया जोर

इस स्कूल में शुरुआत से ही पढ़ाई के साथ-साथ ही बच्चों को बुनियादी शिक्षा पर भी जोर दिया जाता है. तब से इस ही स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को पढ़ाई के साथ जीवनयापन के लिए बुनियादी शिक्षा देने की परंपरा है. समय और जरूरत के हिसाब के कुछ परंपराएं कम हुईं हैं, लेकिन स्कूल की शिक्षिका बताती है कि बच्चे आज भी गांधी टोपी पहनकर गर्व महसूस करने की बात करते हैं. संभाग के सबसे पुराने स्कूल टीचर बताते हैं कि सभी छात्र स्वेच्छा से इस परंपरा का पालन कर रहे हैं। 

Related Tags


Special For Gandhi Jyanti Mahatma Gandhi father of the nation Madhya Pradesh 131 year old school children wear Gandhi cap MP 131 year old school school is very special Gandhiji drove the charkha

Related Links


webkhabristan